यूपी पुलिस मनी लॉन्ड्रिंग केस में आपको घसीट लेगी, बुढ़ापे में जाओगे जेल, बचना है तो पैसे भेजो, मुंबई में साइबर फ्रॉड

मुंबई

यूपी पुलिस का दम दिखाकर मनी लॉन्ड्रिंग के केस में कथित तौर पर फंसाने का झांसा देकर साइबर बदमाशों ने 73 वर्षीय एक सेवानिवृत अधिकारी से 5 लाख 75 हजार रुपये ठग लिए। दिलचस्प तो यह है कि आरोपियों ने पीड़ित से मात्र तीन घंटे में यह रकम ठग ली। मामला नवघर पुलिस ने दर्ज किया है जिसकी जांच साइबर पुलिस भी कर रही है। जांच अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली से किसी अनजान व्यक्ति ने पीड़ित को कॉल कर कहा कि वह एक टेलीकॉम कंपनी से बोल रहा है। उसको जांच में पता चला है कि उसके बैंक खाते में उसका जो पंजीकृत नंबर है उस नंबर से 5 लाख रुपये से अधिक का मनी लॉन्ड्रिंग हुआ है। यह केस यूपी के लखन‌उ पुलिस कर रही है।

महिला इंस्पेक्टर का आया धमकी भरा कॉल
कनाडा में 26 वर्षीय बेटी को पढ़ा रहे पीड़ित व्यक्ति ने बताया कि टेलीकॉम कर्मचारी के फोन रखते ही उसको किसी महिला का फोन आया, जो खुद को यूपी पुलिस में उसके ही केस का जांच अधिकारी बताया। संदिग्ध महिला इंस्पेक्टर ने धमकी दिया कि उसने उसके बैंक खाते, आधार कार्ड, पिछले कई सालों के बैंकिंग लेनदेन और बैंक का पूरा विवरण समेत संपत्ति का रेकॉर्ड आदि के बारे में गहराई से जांच कर सभी जानकारी जुटाई है। इसमें उसके द्वारा लाखों रुपये इधर-उधर किए गए हैं। इस मामले में वह जेल की हवा खा सकता है। अगर पुलिस कार्रवाई और मनी लॉन्डिंग के आरोपों से वह बचना चाहता है तो उसके अभी 10 लाख रुपये जमा करना होगा।

असली पुलिस समझ कर जमा कर दी रकम
जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि पीड़ित उस पुलिसवाली के कॉल आने के बाद इस कदर डर गया कि उसने महज तीन घंटे में उसके बैंक खाते में 5.67 लाख रुपये जमा कर दिए। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि उसे सच में लगा कि वह किसी मनी लॉन्ड्रिंग के केस में फंस सकता है। शुरू में तो वह पैसे देने में आना-कानी करने लगा लेकिन संदिग्ध महिला को असली पुलिसवाली समझ कर उसने कहे अुनसार रकम जमा कर दी।

साइबर ठगी से बचा सकता है ‘1930’
साइबर फ्रॉड में फंसकर मेहनत की कमाई गंवाने वालों के लिए मुंबई पुलिस की साइबर क्राइम ब्रांच ने मंगलवार को एक विडियो रिलीज किया। यह विडियो सोशल मीडिया के जरिए अनजान लोगों द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रलोभन, शेयर ट्रेडिंग में निवेश कर दो गुने-तीगुने मुनाफे पर आकर्षक रिर्टन देने का लालच और निजी जानकारी प्राप्त कर ब्लैकमेल कर ठगी करने समेत साइबर क्राइम के अन्य तरीकों और इनसे बचाव पर आधारित है। जॉइंट सीपी लखमी गौतम और डीसीपी दत्ता नलावडे के मार्गदर्शन में नॉर्थ रीजन की साइबर अधिकारी सुर्वणा शिंदे ने विडियो जारी करते हुए लोगों से साइबर क्राइम से बचने के लिए इसके प्रति जागरूक रहने पर बल दिया। शिंदे ने साइबर ठगी का शिकार बनने पर 1930 नंबर पर कॉल कर घटना की अविलंब शिकायत दर्ज कराने की लोगों से अपील की।

मुंबई पुलिस ने दर्ज किए साइबर अपराध के मामले
जनवरी: 368
फरवरी: 2012
कुल मामले: 2470
(मार्च: मुंबई पुलिस की ओर से डाटा जारी होना बाकी है।)

About bheldn

Check Also

कुर्सी उठाकर दे-दनादन, मंच से भाषण देते रहे नेता और पंडाल में कार्यकर्ताओं ने कर दिया ‘उलगुलान’

रांची वैसे तो किसी बड़ी क्रांति को ‘उलगुलान’ कहते हैं। माना जाता है कि आदिवासियों …