भेल भोपाल यूनिट ने पोलावरण जलविद्युत परियोजना के लिए अब तक का सबसे बड़ा गाईड उपकरण असेंबल किया

— प्रत्येक गाईड उपकरण का वजन 4 मीट्रिक टन और लंबाई करीब 4 मीटर है
— भेल के ईडी ने किया निरीक्षण, इस उपलब्धि के लिए कर्मचारियों को दी बधाई

भोपाल

भेल भोपाल यूनिट ने पोलावरण जलविद्युत परियोजना के लिए अब तक का सबसे बड़ा गाईड उपकरण असेंबल किया। इसमें प्रत्येक गाईड उपकरण का वजन 4 मीट्रिक टन और लंबाई करीब 4 मीटर है। बुधवार को भेल के कार्यपालक निदेशक एसएम रामनाथन ने गाईड उपकरण असेंबली का निरीक्षण किया एवं कर्मचारियों को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी। यह परियोजना आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले में गोदावरी नदी पर स्थित है।

गाइड उपकरण असेंबली जलविद्युत परियोजना का एक प्रमुख घटक है जो अपने 24 गाइड वैन के माध्यम से पानी के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। असेंबली में इसकी बेलनाकार संरचना का वजन 255 मीट्रिक टन और इसका व्यास 9.5 मीटर और ऊंचाई 6.5 मीटर है ।

इसके पूरा होने पर पोलावरम जलविद्युत परियोजना 80 मेगावाट प्रत्‍येक की क्षमता वाले बारह समतुल्‍य कपलान हाइड्रो टरबाइन और हाइड्रो-जनरेटर सेट की मदद से कुल 960 मेगावाट बिजली का उत्पादन करेगी। पोलावरम के लिए सबसे बड़ी मशीनें बीएचईएल द्वारा निर्मित की जा रही हैं । मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड द्वारा मेसर्स आंध्र प्रदेश पावर जेनरेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड के लिए स्थापित किए जाने वाले पोलावरम जलविद्युत परियोजना के लिए अधिकांश मशीनरी की आपूर्ति बीएचईल द्वारा की जा रही। निरीक्षण के मौके पर जीपी बघेल, महाप्रबंधक (क्वालिटी) और वी श्रीनिवास राव, महाप्रबंधक (हाइड्रो) भी मौजूद थे।

About bheldn

Check Also

बीएचईएल ने कमाया 260 करोड़ का प्रॉफिट

भोपाल पब्लिक सेक्टर की कंपनी भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) ने मंगलवार को मार्च तिमाही …