BJP के लिए आसान नही हैं यह 5 सीटें, कांग्रेस का पलड़ा क्यों दिख रहा भारी? जानें

भोपाल:

लोकसभा चुनाव 2024 के तहत मध्य प्रदेश में चार चरणों के साथ मतदान संपन्न हो गया है। जनता 4 जून को परिणाम के इंतजार में है। इस बीच अब मध्य प्रदेश के नेताओं में बयानबाजी और उत्साह चरम पर है। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव दावा कर रहे हैं कि प्रदेश की सभी 29 की 29 सीटें भाजपा जीत रही है। वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी कह रहे हैं कि वे इस बार दो अंकों में जीत हासिल करेंगे, यानि कुल 29 सीटों में से कांग्रेस 10 सीटें हासिल कर सकती है। ‘अपनी ढपली, अपना राग’ जैसी स्थिति ऐसी हो गई है।इस बीच nbt ने अपने विश्लेषण में पाया कि कुछ सीटें ऐसी हैं जहां भाजपा और कांग्रेस में कड़ी टक्कर है। भाजपा ने 29 सीट जीतने का लक्ष्य रखकर मध्य प्रदेश में चुनाव लड़ा है, लेकिन 5 से ज्यादा सीटें ऐसी हैं, जहां भाजपा संशय की स्थिति में है।

छिंदवाड़ा
मध्य प्रदेश की छिंदवाड़ा लोकसभा हमेशा से ही कमल नाथ का गढ़ रही है, यहां पर वे पिछले 9 बार सांसद रहे हैं, उसके बाद 2019 में उनके बेटे नकुल यहां से सांसद हैं। 2014 और 2019 की घोर मोदी लहर में भी भाजपा छिंदवाड़ा के किला को ढहा नहीं पाई। इस बार 2024 के चुनाव में भाजपा ने पूरी जोर आजमाईश की है। कांग्रेस से नकुल नाथ और भाजपा से बंटी साहू मैदान में हैं।

गुना
गुना लोकसभा सीट की राह भाजपा को आसान भले लग रही हो, लेकिन यहां कांग्रेस खुद को सशकत् मान रही है। गुना सीट से केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस के यादवेंद्र सिंह ने चुनौती दे रहे हैं। भाजपा ने अपने सिटिंग एमपी केपी यादव का टिकट काटकर सिंधिया को मैदान में उतारा है।

रतलाम
इस लोकसभा सीट से पूर्व में पांच बार सांसद, पूर्व केंद्रीय मंत्री, पूर्व मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया कांग्रेस से मैदान में हैं। जबकि भाजपा ने अनीता नागर चौहान को मैदान में उतारा है। वे पहली बार कोई बड़ा चुनाव लड़ रही हैं। यह बात अलग है कि उनके पति नागर सिंह चौहान मध्य प्रदेश में मंत्री हैं।

खरगोन
खरगोन लोकसभा से मौजूदा सांसद गजेंद्र सिंह पटेल भाजपा प्रत्याशी हैं। भाजपा और कांग्रेस के नए चेहरे पोरलाल खरते के बीच संघर्ष बराबरी का रहा है।

मंडला
यहां से भाजपा प्रत्याशी मौजूदा सांसद केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते को कांग्रेस के ओंकार सिंह मरकाम ने चुनौती दी है। चिंताजनक बात यह है कि कुलस्ते पिछला विधानसभा चुनाव निवास सीट से हार चुके हैं।

About bheldn

Check Also

My Mandi Startup को मैनेजर ने लगाया चूना, ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे की है कंपनी

ग्वालियर, केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे महाआर्यमन सिंधिया की किराना ऐप …