‘ये क्योटो क्या जापान वाला है…’, जब स्टेज पर अखिलेश-राहुल ने की चर्चा, बेरोजगारी-महंगाई पर सरकार को घेरा

नई दिल्ली,

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नेता राहुल गांधी समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के साथ ताबड़तोड़ रैलियों में जुटे हैं. इसी तरह रविवार को भी वह एक रैली में गए लेकिन उनका माइक खराब हो गया. फिर क्या था, दोनों नेता मंच पर ही बैठ गए और एक-दूसरे से कई मुद्दे पर बात की. इसका वीडियो कांग्रेस ने अपने एक्स हैंडल पर शेयर किया है, जिसमें राहुल गांधी ने अखिलेश यादव से पूछा, ‘क्योटो, क्या जापान वाला है?’

दरअसल, अखिलेश यादव लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी को क्योटो बता रहे हैं. रविवार को जब वह राहुल गांधी के साथ रैली में पहुंचे तो कांग्रेस नेता का माइक खराब हो गया. दोनों नेता जब बात कर रहे थे तो अखिलेश यादव ने दावा किया कि राज्य की 80 में 79 सीटों पर वे (सपा-कांग्रेस) इंडिया गठबंधन जीत रहे हैं लेकिन सिर्फ एक ‘क्योटो’ सीट पर मुकाबला है.

‘वाराणसी के लोग तय करेंगे क्योटो बनी या नहीं’
राहुल गांधी ने पूछा कि ‘क्योटो नाम कैसे, क्या ये जापान वाला है?’ तो अखिलेश यादव ने जवाब दिया, “जो प्रधान सांसद हैं उन्होंने काशी के लोगों को सपना दिखाया था कि यहां (वाराणसी में) दुनिया की सबसे बेहतर स्थिति बनेगी. अब क्योटो बनी या नहीं बनी ये वाराणसी के लोग तय करेंगे और फिर वोट डालेंगे.” सपा अध्यक्ष ने साथ ही कहा, “इस बार मन की बात नहीं चलेगी. इस बार हमारे-आपकी बात और 140 करोड़ लोगों और संविधान की बात चलेगी.”

‘अग्नीवीर और पेपर लीक से त्रस्त हैं युवा’
राहुल गांधी ने अखिलेश यादव से बातचीत में कहा, “नरेंद्र मोदी जी ने उत्तर प्रदेश को बेरोजगारी का सेंटर बना दिया है.” इस पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी बेरोजगारी पर बात की और उनकी सभा के नजदीक भीड़ की तरफ इशारा किया, जिसमें युवा नारेबाजी कर रहे थे. सपा अध्यक्ष ने बताया कि ये वो लोग हैं जो अग्नीवीर और पेपर लीक से त्रस्त हैं और ये रोजगार चाहते हैं. इन्हें सपना दिखाया गया था लेकिन इन्हें नौकरी नहीं मिली और आज ये खाली हाथ हैं.

‘ग्रेजुएट को मिलेगा नौकरी का अधिकारी’ – राहुल गांधी
राहुल गांधी भी कैमरामैन से युवाओं की ओर फोकस करते देखे गए. उन्होंने कहा कि इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर हर ग्रेजुएट को नौकरी का अधिकार, बेहतरीन ट्रेनिंग और बैंक अकाउंट में सालाना एक लाख रुपये दिए जाने की बात बताई.

विचारधारा पर रहा टकराव लेकिन सिद्धांत से हमेशा एक’
अखिलेश यादव ने करीब दस मिनट के वीडियो में राहुल गांधी से यह भी कहा, “हमारे आपके बीच उत्तर प्रदेश में विचारधारा को लेकर टकराव जरूर रहा है लेकिन सिद्धांत से कभी समझौता नहीं हुआ. सिद्धांत को लेकर हम कई बार आपके साथ खड़े हुए. आपकी पार्टी भी सिद्धांत से समाजवादी पार्टी के करीब रही है.”

About bheldn

Check Also

152 दिन, 143 सुइसाइड, यवतमाल को पीछे छोड़ महाराष्ट्र में किसान आत्महत्या की राजधानी बना अमरावती

नागपुर किसानों की आत्महत्या मामले में महाराष्ट्र टॉप पर रहता है। पिछले कुछ वर्षों में …