ममता के बंगाल में अडानी को ठेका! 5 साल के कॉन्‍ट्रैक्‍ट में APSEZ को करना है यह काम

नई दिल्ली

अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन लिमिटेड (APSEZ) को अहम सफलता मिली है। कंपनी को कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट (कोलकाता बंदरगाह) के श्यामा प्रसाद मुखर्जी बंदरगाह पर कंटेनर टर्मिनल के संचालन और रखरखाव (ओएंडएम) का 5 साल का ठेका मिला है। एपीएसईजेड ने शुक्रवार को कहा कि इसके साथ ही उसे स्वीकृति पत्र (एलओए) की तारीख से सात महीने के भीतर माल ढुलाई उपकरण लगाना होगा।बयान के अनुसार, ‘एपीएसईजेड ने प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के जरिये पांच साल का ओएंडएम अनुबंध हासिल किया है। इसके तहत सफल बोलीदाता को स्वीकृति पत्र (एलओए) की तारीख से सात महीने के भीतर माल ढुलाई उपकरण लगाना है।’

क्‍या बोले एपीएसईजेड के सीईओ?
एपीएसईजेड के पूर्णकालिक डायरेक्‍टर और सीईओ अश्विनी गुप्ता ने कहा, ‘नेताजी सुभाष डॉक पर माल ढुलाई सुविधाओं के लिए ओएंडएम अनुबंध का एपीएसईजेड को प्रदान किया जाना देशभर में बंदरगाहों और लॉजिस्टिक्स बुनियादी ढांचे को विकसित करने की हमारी प्रतिबद्धता और पश्चिम बंगाल में इसकी संभावनाओं को रेखांकित करता है।’

काफी अहम‍ियत रखता है पोर्ट
नेताजी सुभाष डॉक भारत के पूर्वी तट पर सबसे बड़ा कंटेनर टर्मिनल है। इसने वित्त वर्ष 2023-24 में 6.3 लाख TEU (ट्वेंटी-फुट इक्विवेलेंट यूनिट) को संभाला। यह पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, असम और पूर्वोत्तर पहाड़ी राज्यों सहित एक विशाल भीतरी क्षेत्र की सेवा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अतिरिक्त यह टर्मिनल नेपाल और भूटान जैसे पड़ोसी देशों को भी सेवाएं प्रदान करता है।

इसके अलावा कोलकाता बंदरगाह को ‘अंतर्देशीय जल पारगमन और व्यापार मार्ग पर भारत-बांग्लादेश प्रोटोकॉल’ के लिए आधिकारिक बंदरगाह के रूप में नामित किया गया है। नेताजी सुभाष डॉक को सिंगापुर, पोर्ट केलांग और कोलंबो सहित प्रमुख हब बंदरगाहों से लगातार लाइनर सेवा कॉल प्राप्त होती हैं।

About bheldn

Check Also

विराट कोहली फिर बने बाजार के सरताज! शाहरुख खान की लंबी छलांग, रणवीर सिंह दूसरे नंबर पर खिसके

नई दिल्ली: ब्रांड एंडोर्समेंट के मामले में भले ही क्रिकेटर आगे रहते हों, लेकिन साल …