NEET पेपर लीक पर ATS का बड़ा खुलासा, छात्रों को व्हाट्सएप ग्रुप से जोड़कर देते थे ऑफर, लेते थे पैसे

नई दिल्ली,

एटीएस ने खुलासा किया कि नीट पेपर लीक मामले में आरोपियों ने परीक्षा की घोषणा के तुरंत बाद छात्रों को इस परीक्षा के लिए आकर्षित करने के लिए एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया था. जिन छात्रों को पेपर लीक के जरिये परीक्षा पास करनी होती थी, वे इस ग्रुप में जुड़ सकते थे. परीक्षा की घोषणा के बाद से ही कैंडिडेट्स को आकर्षित करने के लिए व्हाट्सएप पर यह ग्रुप बना दिया गया था.

जब किसी परीक्षा की घोषणा होती है तो यह गिरोह प्रदेश के विभिन्न जिलों में व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर छात्रों को नकल कराकर परीक्षा में पास कराने का वादा करता था. इस व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े छात्रों को इस परीक्षा में चार चरणों में मदद करने का आश्वासन दिया गया था. ग्रुप में बताया गया कि छात्रों के लिए पेपर लीक करना, डमी अभ्यर्थियों को पेपर के लिए भेजना, परीक्षा केंद्र तय करना, दिए गए पेपर को पिछले दरवाजे से स्वीकार करना और उसका सही उत्तर देना और उसे वापस परीक्षा केंद्र में रखने जैसे ऑप्शन दिए गए. छात्रों परीक्षा पास करने के लिए इनमें से जिस ऑप्शन को चुना, रकम भी उसी हिसाब से दी गई.

पेपर लीक के चार तरह के थे ऑफर: जैसा सौदा-वैसा रेट
Offer 1- एग्जाम से पहले पेपर लीक करना
Offer 2- डमी कैंड‍ि‍डेट को पेपर के लिए भेजना
Offer 3- दिए गए पेपर को बैक डोर से एक्सेप्ट करना
Offer 4- पेपर के सही उत्तर देना, वापस परीक्षा केंद्र में रखना

छात्रों से ऐंठी गई लाखों की रकम
इस गिरोह के व्हाट्सएप ग्रुप की चैट भी पुलिस के हाथ लगी है और कई छात्रों ने आरोपियों को लाखों रुपये एडवांस में दिए हैं. चैट में कुछ छात्र आरोपियों से पैसे की मांग भी कर रहे हैं. जांच में पता चला कि राज्य के बाहर के बच्चों से भी पैसे लिये गये थे. एक छात्र से लाखों की रकम ऐंठी जा चुकी है और जांच में पता चला है कि यह गिरोह पहले भी कई परीक्षाओं में गड़बड़ी कर चुका है. पुलिस भी उसी हिसाब से जांच कर रही है. पुलिस की ओर से प्रारंभिक जानकारी दी गई है कि इसमें अन्य आरोपी भी शामिल हैं और महाराष्ट्र एंटी टेररिज्म स्क्वाड ने इस अपराध का खुलासा किया है. हालांकि सूत्रों ने बताया कि इस मामले की आगे की जांच लातूर पुलिस कर रही है.

नीट पेपर लीक मामले में अभी तक 25 लोग गिरफ्तार
पुलिस द्वारा की गई प्रारंभिक जांच में बिहार में अनियमितताओं और पेपर लीक का मामला सामने आया. इसके साथ ही कुछ उम्मीदवार सार्वजनिक रूप से सामने आए हैं, उन्होंने दावा किया है कि उन्हें परीक्षा से एक दिन पहले ही पेपर मिल गया था. इन आरोपों के कारण कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हुए और कई उच्च न्यायालयों के साथ-साथ सर्वोच्च न्यायालय में भी याचिकाएं दायर की गईं. नीट यूजी परीक्षा पेपर लीक मामले में आर्थिक अपराध इकाई ने अभी तक 25 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. नीट पेपर लीक में पटना के 13, झारखंडे के देवघर से 5, गुजरात के गोधरा से 5 और महाराष्ट्र के लातूर से 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

About bheldn

Check Also

टारगेट को नहीं किसी और को मार दिया… GTB अस्पताल हत्याकांड में दो आरोपी अरेस्ट, हुआ बड़ा खुलासा

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी के जीटीबी अस्पताल में एक युवक ने गोली मारकर एक मरीज …