लोकसभा में गूंजी मणिपुर की गूंज, कांग्रेस सांसद ने कहा- मणिपुर को न्याय दिलाइए, देश बचाइए

नई दिल्ली :

लोकसभा सत्र के दूसरे दिन सदन में मणिपुर-मणिपुर के नारे गूंजे। मणिपुर सांसद ने शपथ लेने के बाद कहा- मणिपुर में न्याय दिलाइए, देश बचाइए। एक दिन पहले ही मणिपुर में कुकी समुदाय के लोगों ने अलग अलग जिलों में रैली आयोजित कर अपने लिए अलग केंद्र शासित प्रदेश की मांग की और कहा कि जातीय हिंसा का राजनीतिक समाधान निकाला जाए। मणिपुर एक साल से जातीय हिंसा की आग में जल रहा है। राज्य में 3 मई 2023 को जातीय हिंसा भड़की जिसमें 220 से ज्यादा लोग मारे गए और 50 हजार से ज्यादा लोग विस्थापित हुए। वहां अब भी स्थिति सामान्य नहीं हुई है।

मणिपुर- मणिपुर के नारों से गूंजा लोकसभा
लोकसभा में जब शपथ लेने के लिए इनर मणिपुर के कांग्रेस सांसद अंगोमचा अकोइजम का नाम पुकारा गया तो कांग्रेस सहित विपक्षी सांसदों ने पहले टेबल बजाकर मणिपुर-मणिपुर के नारे लगाए। फिर अपनी जगह पर खड़े होकर संविधान की प्रति दिखाई। जब अंगोमचा शपथ लेने पोडियम की तरफ बढ़े तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उन्हें संविधान की कॉपी भिजवाई। जिसके बाद उन्होंने हाथ में संविधान की कॉपी लेकर शपथ ली। इसके बाद आउटर मणिपुर के कांग्रेस सांसद अल्फ्रेड कनंगम एस आर्थर का नाम पुकारा गया। फिर विपक्षी सांसदों ने मणिपुर-मणिपुर के नारे लगाए और खड़े होकर उनका अभिवादन किया। राहुल गांधी ने भी खड़े होकर उनका अभिवादन किया। शपथ लेने के बाद अल्फ्रेड ने कहा- मणिपुर में न्याय दिलाइए, देश बचाइए। मणिपुर की दोनों सीट से निर्वाचित कांग्रेस के सदस्य जब शपथ लेने पहुंचे तो पूर्वोत्तर के सदस्यों ने परंपरागत शैली में गीत गाकर उनका स्वागत किया।

एक साल से हो रही जातीय हिंसा
मणिपुर में एक साल से चल रही जातीय हिंसा को रोकने के राजनीतिक समाधान निकालने की मांग हो रही है साथ ही कुकी समुदाय के लोग पहाड़ियों के लिए विधानसभा के साथ केंद्र शासित प्रदेश की मांग को लेकर लोग सड़कों पर हैं। कुछ दिन पहले एक कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक प्रमुख मोहन भागवत ने भी कहा था कि मणिपुर एक साल से शांति की राह देख रहा है। प्राथमिकता से इस पर विचार करना होगा। पिछली लोकसभा के आखिरी सत्र में भी विपक्ष ने मणिपुर का मुद्दा जोर शोर से उठाया था और लगातार सरकार को घेरा था। इस बार भी विपक्ष मणिपुर के मुद्दे को पूरी ताकत से उठाने की तैयारी में है।

About bheldn

Check Also

4 सांसदों की रिटायरमेंट के राज्यसभा में घटी बीजेपी की ताकत?, 86 पर पहुंची संख्या, जानें क्या होगी मुश्किल

नई दिल्ली, लोकसभा में पूर्ण बहुमत गंवाने के बाद अब बीजेपी को राज्यसभा में भी …