‘फिजिशियन के 500 और सर्जन के हो 300’, पप्पू यादव ने की डॉक्टरों की फीस कम करने की मांग

पूर्णिया,

पूर्णिया सांसद पप्पू यादव ने डॉक्टरों से अपनी फीस कम करने की मांग की है. उनके अनुसार, फिजिशियन की फीस 500 रुपये और सर्जन की 300 रुपये हो चाहिए. पप्पू यादव की मानें तो आइएमए की सहमति फीस कम करने के लिए जल्द मिल जाएगी. इतना ही नहीं बीपीएल कार्डधारियों को इलाज और जांच में विशेष छूट दी जायेगी. यह छूट तभी मिलेगी, जब जरूरतमंद बीपीएलधारी उनके कार्यालय से चिठ्ठी लेंगे. यह पत्र सांसद कार्यालय से ही मिलेगा.

पप्पू यादव ने बताया कि जरूरतमंदों के लिए उनके कार्यालय में 24 घंटे सेवा उपलब्ध रहेगी. सांसद ने बताया कि एक्स-रे के लिए 200 रुपये और सीटी स्कैन के लिए 1200 रुपये देने पड़ेंगे. अब डॉक्टर एक महीने के अंदर दोबारा फीस नहीं ले सकते. इतना ही नहीं निजी नर्सिंग होम में भर्ती गरीब मरीजों के इलाज में 30 प्रतिशत की छूट मिलेगी.

बगैर डॉक्टर ने पैथोलॉजी नहीं चलेगी
पप्पू यादव ने सिविल सर्जन को फर्जी आइसीयू बंद करने के लिए दो माह की मोहलत दी है. उन्होंने कहा कि जहां एमबीबीएस डॉक्टर नहीं है. वहां फर्जी आइसीयू नहीं चलेगा. बगैर डॉक्टर के जो पैथोलॉजी चला रहे हैं, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाये. उनके लाइसेंस को शीघ्र रद्द किया जाये. मेडिकल दुकान वाले बगैर डॉक्टर के लिखे आवश्यकता से अधिक दवा मरीज को नहीं दें.

उन्होंने कहा कि डॉक्टर की मर्जी के अनुसार मरीज की जांच पैथोलॉजी में नहीं होनी चाहिए. मरीज को जहां अच्छा लगे, वहीं जांच कराए. कोई भी पैथोलॉजी या नर्सिंग होम डॉक्टर के ही होने चाहिए. जहां डॉक्टर नहीं हैं, उनके विरुद्ध सीएस कार्रवाई करें. ऐसे पैथोलॉजी और नर्सिंग होम दो माह के अंदर बंद हो जाने चाहिए. नहीं तो उसको वह खुद बंद करेंगे।

सांसद ने आईएमए से की थी चर्चा
पूरे मामले को लेकर आईएमए पूर्णिया अध्यक्ष डॉक्टर सुधांशु कुमार ने बताया कि आईएमए हॉल में नवनिर्वाचित सांसद के आग्रह पर एक आम सभा आयोजित की गई थी. उनके साथ हमारे कई वरिष्ठ सदस्यों ने संवाद स्थापित किया. अपने आईएमए के वरिष्ठ सदस्य डा एस पी सिंह सर के निवास पर भी उन्होंने कुछ सदस्यों के साथ रात्रि भोज में शामिल होने का न्योता भेजा.

आईएमए ने सांसद के आग्रह पर जताई सहमति
पूर्णियां में बेहतर चिकित्सा व्यवस्था को बहाल करने के लिए हम सभी की राय मांगी सुनी गई. हमलोगों ने चिकित्सकों को सुरक्षा देने की और शहर से दलाली व फर्जीवाड़े को खत्म करने की मांग रखी. इनको उन्होंने न सिर्फ माना बल्कि माननीय मुख्यमंत्री को त्वरित कार्रवाई के लिए अपने कार्यालय से चिट्ठी भी प्रेषित किया.

जांच के रेट पर डॉक्टर्स भी सहमत
डॉ सुधांशु कुमार ने कहा कि उन्होंने हम सभी डॉक्टर से आग्रह किया कि एक्स रे या सीटी स्कैन अथवा निबंधन शुल्क में क्या गरीब मरीजों को मेरे नाम से चिट्ठी निर्गत होने पर रियायत मिल सकती है. हमलोगों ने उनके इस आग्रह को मान लिया और जो भी शुल्क हमारी तरफ से गरीब मरीजों के लिए तय किया गया. वही उन्होनें प्रेस में कहा है.

सांसद ने डॉक्टरों से आग्रह किया है, कोई फरमान नहीं दिया
डॉ सुधांशु ने बताया कि वैसे ये कोई फरमान या बाध्यता भी नहीं है. ये उनका आग्रह है, जिन भी सदस्यों को मानना है मानें, जिनको नहीं मानना है वो नहीं माने. अखबार या सोशल मीडिया में क्या छापता है. उनसे हमारा कोई लेना देना नहीं है. सांसद ने अपने द्वारा जारी किए गए वीडियो क्लिप या पोस्ट में सिर्फ डाक्टर्स के हित की बात की है हम उसी पर चर्चा करेंगे. व्यर्थ की बातों में वक़्त जाया नहीं करेंगे.

About bheldn

Check Also

आगरा में रक्षक बना भक्षक, इंसाफ का भरोसा देकर सिपाही ने किया महिला के साथ रेप, कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

आगरा: न्याय का झांसा देकर एक महिला के साथ शारीरिक शोषण करने वाले पुलिसकर्मी को …