कभी IS के कब्जे में थीं नोबेल विनर नादिया, दिन-रात होता था रेप

डेनिस मुकवेगे और नादिया मुराद को 2018 के नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. पिछले साल ये पुरस्कार ICAN को दिया गया था. आइए जानते हैं इस साल इन दोनों को क्यों चुना गया. डेनिस अफ्रीकी देश डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो के रहने वाले हैं और नादिया एक यजीदी (Yazidis) हैं और इराक की रहने वाली हैं. ये दोनों यौन हिंसा के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए काम करते हैं.

बता दें, साल 2014 में इस्लामिक स्टेट (IS) के आतंकियों ने अगवा कर लिया था. जिसके बाद उसके साथ बलात्कार किया और उसे सेक्स स्लेव बनाया.नादिया की उम्र 25 साल है. वह 3,000 यजीदी लड़कियों और महिलाओं में से एक है जिससे आईएस के आतंकियों ने बलात्कार और दुर्व्यवहार किया. वह करीब 3 महीने तक IS के आतंकियों के कब्जे में थी. जहां उसका दिन-रात बलात्कार किया गया.

वह कई बार खरीदी और बेची गई थी और जब वह IS की कैद में थी उस दौरान यौन और शारीरिक शोषण किया गया. उसका शरीर नोंचा गया.बता दें, नादिया मुराद को मलाला युसूफजई के बाद सबसे कम उम्र में नोबेल शांति पुरस्कार मिला है. IS के चंगुल से निकलने के बाद वह महिलाओं में यौन हिंसा के खिलाफ जागरूकता फैलाने का काम कर रही हैं. साथ ही उन्होंने अपने अनुभवों पर एक किताब लिखी. जिसका नाम ‘The Last Girl: My Story of Captivity, and My Fight Against the Islamic State’ है.

डेनिस मुकवेगे भी यौन हिंसा के खिलाफ अभियान चला रहे हैं. वह पेशे से डॉक्टर हैं और यौन हिंसा की शिकार महिलाओं के लिए लंबे समय से काम कर रहे हैं. उन्होंने ऐसे मरीजों का इलाज किया है जो यौन हिंसा से पीड़ित हैं.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

भारत चीन विवाद में यूं ही नहीं कूदा रूस, एशिया में बड़े प्लान पर काम कर रहे पुतिन

मॉस्को भारत और चीन के बीच जारी विवाद में रूस की एंट्री से सियासी पंडित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)