Thursday , October 22 2020

आर्मीनिया के खिलाफ जंग में कूदे सीरियाई आतंकी, तुर्की को फ्रांस ने दिया करारा जवाब

येरेवान/बाकू

आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच नागोर्नो-काराबाख इलाके को लेकर भीषण जंग जारी है। रविवार से शुरू हुई इस झड़प में 100 से ज्‍यादा लोग मारे गए हैं और बताया जा रहा है कि यह हाल के दिनों में सबसे खूनी जंग में बदल गई है। इस बीच अजरबैजान के समर्थन में तुर्की की ओर से भेजे गए सीरियाई आतंकी भी जंग में उतर गए हैं। उधर, तुर्की की धमकी के बाद अब फ्रांस भी आर्मीनिया के साथ आ गया है।

आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए रूस ने लड़ाई को खत्‍म करने के लिए बातचीत आयोजित करने का ऑफर दिया है। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लवरोव ने दोनों ही देशों की सरकारों को यह ऑफर दिया। उधर, इस लड़ाई के खात्‍मे के लिए रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रान से बात की है। दोनों ने नेताओं ने सीजफायर का आह्वान किया है।

‘आर्मीनिया का S-300 मिसाइल सिस्टम नागोर्नो-काराबाख में उड़ाया’
बता दें कि रूस का आर्मीनिया के साथ सैन्‍य गठजोड़ है लेकिन उसका अजरबैजान के साथ भी करीबी संबंध है। बुधवार को अजरबैजान के राष्‍ट्रपति ने प्रण किया कि आर्मीनियाई सुरक्षा बलों के इलाके के छोड़ने तक यह लड़ाई जारी रहेगी। उन्‍होंने कहा कि हमारी एकमात्र यह शर्त है कि आर्मीनिया के सुरक्षा बल पूरी तरह से और बिना शर्त हमारे इलाके को छोड़ दें।

वहीं, अजरबैजान की सेना ने बुधवार को ऐलान किया है कि उसने आर्मीनिया का एक S-300 मिसाइल सिस्टम नागोर्नो-काराबाख में उड़ा दिया। उसने यह भी दावा किया कि करीब 2,700 सैनिक अब तक इस जंग में या तो घायल हो गए हैं या जान गंवा चुके हैं। उसने यह भी दावा किया कि आर्मीनिया की सेना तोनशेन गांव के आसपास के इलाके से भाग खड़ी हुई है। उधर, आर्मीनिया ने दावा किया है कि अजरबैजान आम नागरिकों पर बम बरसा रहा है।

सीरिया के तुर्की समर्थक खुंखार आतंकी जंग में उतरे
इससे पहले आर्मीनिया की सरकार ने दावा किया था कि उसके एक सुखोई-25 विमान को तुर्की के F-16 विमानों ने मार गिराया है। तुर्की और अजरबैजान दोनों ने इस आरोप का खंडन किया था लेकिन अब आर्मीनिया ने अपने दुर्घटनाग्रस्‍त विमान की तस्‍वीर जारी कर दी है। आर्मीनिया ने आरोप लगाया है कि अजरबैजान तुर्की के एयरफोर्स के F-16 व‍िमानों और ड्रोन का इस्‍तेमाल करके हमले कर रहा है।

उधर, अब अजरबैजान की ओर से जंग में अब सीरिया के तुर्की समर्थक खुंखार आतंकी भी पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि इसमें कई पाकिस्‍तानी आतंकी भी शामिल हैं। एक आतंकी ने बीबीसी से कहा कि उसे उत्‍तरी सीरिया में पिछले सप्‍ताह भर्ती किया गया था और तुर्की के रास्‍ते अजरबैजान भेजा गया ताकि आर्मीनिया के खिलाफ जंग लड़ी जा सके। इस बीच तुर्की ने इस खबर का खंडन किया है।

तुर्की ने दी धमकी, फ्रांस ने दिया करारा जवाब
आर्मीनिया-अजरबैजान की जंग से नाटो के दो सहयोगी देशों फ्रांस और तुर्की में विवाद गहरा गया है। फ्रांस में आर्मीनियाई मूल के बड़ी संख्‍या में लोग रहते हैं। तुर्की इस युद्ध में खुलकर अजरबैजान का न केवल हर तरह से समर्थन कर रहा है, बल्कि धमकी भी दे रहा है। बुधवार को तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुट कावुसोग्‍लू ने आरोप लगाया कि फ्रांस आर्मीनिया के अजरबैजान में कब्‍जे को अपना समर्थन दे रहा है। इस आलोचना पर फ्रांस के राष्‍ट्रपति ने तुर्की को करारा जवाब दिया। उन्‍होंने कहा कि तुर्की युद्ध जैसी धमकी दे रहा है। मैक्रान ने कहा कि फ्रांस इसे स्‍वीकार नहीं करेगा।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

डोनाल्‍ड ट्रंप के ‘चीनी खाते’ पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में नया बवाल

वॉशिंगटन अमेरिका के राष्‍ट्रपति चुनाव प्रचार में लगातार चीन पर हमले कर रहे राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड …

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!