पहली बार भारत वापस लाया गया घोटालेबाज

नई दिल्ली

बैंकों से धोखाधड़ी कर विदेश भागे नागरिकों पर शिंकजा कसने में लगी सरकार को एक कामयाबी हाथ लगी है। सीबीआई की टीम ने 9 साल पहले कुछ बैंकों के साथ घोटाला कर बहरीन भागे शख्स मोहम्मद याह्या को पकड़ लिया है और उसे भारत वापस भी ले आई है। 47 साल का याह्या 2003 में बेंगलुरु के कुछ बैंकों संग करीब 46 लाख रुपये का घोटाला कर बाद में विदेश भाग गया था।

घोटालेबाजों पर कड़े ऐक्शन लेने के लिए अगस्त में बने सख्त कानून के बाद यह पहला मामला है जब सरकार किसी भगोड़े को देश वापस ला पाई है। यह आर्थिक अपराधी नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, विजय माल्या जैसे घाटालेबाजों की तुलना में काफी छोटा सही, लेकिन एजेंसी के लिए उसका पकड़ा जाना सकारात्मक संदेश देता है।

याह्या को बहरीन से पकड़ा गया। पिछले काफी वक्त से उसपर भारतीय एजेंसियों की नजर थी। बहरीन में उसकी गिरफ्तारी के बाद सभी जरूरी कार्यवाही कर उसे भारत लाया गया। याह्या के खिलाफ सीबीआई ने 2009 में जांच शुरू की थी, तबतक वह देश छोड़कर भाग चुका था।

मिली जानकारी के मुताबिक, बहरीन पुलिस ने कुछ वक्त पहले उसे पकड़ा था। खुफिया एजेंसियों से उसकी पहचान भी पुख्ता भी करवाई गई थी। उसे एयर इंडिया की फ्लाइट से बहरीन से सीधा दिल्ली लाया गया था। फिर आगे की जांच के लिए उसे बेंगलुरु लेकर जाया गया।

बता दें कि सरकार ने हाल में 28 भगोड़े आर्थिक अपराधियों की लिस्ट जारी की थी। इसमें 6 महिलाएं भी शामिल हैं जो फिलहाल विदेश के अलग-अलग कोनों में रह रही हैं। फिलहाल सीबीआई माल्या, नीरव और चोकसी को वापस लाने की कोशिशों में जुटी है। जिन्होंने देश के बैंकों को हजारों करोड़ रुपये की चपत लगाई है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

कोरोना पर गुड न्यूज! रिकवरी रेट 80 प्रतिशत, अमेरिका को पीछे छोड़ टॉप पर भारत

नई दिल्ली भारत में तेजी से कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)