Saturday , September 19 2020

मानसून अपडेट : उत्तराखंड में बारिश व भूस्खलन से छलनी हुईं सड़कें

नई दिल्ली

हिमाचल व उत्तराखंड में बारिश व भूस्खलन से परेशानी बढ़ती जा रही है। उत्तराखंड में भूस्खलन से सड़कें छलनी हैं और नदियों के वेग से आम आदमी डरा हुआ है। प्रदेश में 200 से ज्यादा सड़कों पर आवागमन बाधित है। इनमें सर्वाधिक प्रभावित जिले टिहरी, देहरादून, पौड़ी, चमोली और पिथौरागढ़ हैं। ऋषिकेश और हरिद्वार में गंगा का जलस्तर स्थिर बना हुआ है। गंगा चेतावनी रेखा के पास बह रही है।

हिमाचल में दो दिन से बेशक बारिश नहीं हो रही है लेकिन लोगों की परेशानियां नहीं थमी हैं। प्रदेश में 155 सड़कें बंद हैं। इनमें से 83 सड़कों पर यातायात जल्द बहाल होने की उम्मीद है। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में चार अगस्त तक भारी बारिश से राहत मिलने की उम्मीद है। इस दौरान कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश होगी। चार अगस्त के बाद प्रदेश में बारिश का सिलसिला शुरू हो सकता है। वहीं उत्तराखंड में अगले 24 घंटे में भारी बारिश के आसार हैं, विशेषकर कुमाऊं में। ऐसे में शासन ने पर्यटकों को उच्च हिमालयी क्षेत्रों की यात्रा न करने की सलाह दी है।

कैलास-मानसरोवर यात्रा पर भी खराब मौसम का असर पड़ रहा है। यात्रा पूरी कर वापस लौटे सातवें दल के 57 श्रद्धालु गूंजी में मौसम साफ होने का इंतजार कर रहे हैं तो दसवें दल के 49 यात्रियों पिथौरागढ़ से गुंजी जाने की प्रतीक्षा में हैं। मंगलवार को गढ़वाल मंडल में भारी और कुमाऊं में भारी से बहुत भारी बारिश के आसार हैं। मौसम का यह मिजाज अगले पांच दिन ऐसे ही बना रहेगा। सलाह दी कि नदी किनारे रहने वाले लोग विशेष सतर्कता बरतें।

यमुना खतरे के निशान से ऊपर : दिल्ली में इन दिनों यमुना नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। इससे दिल्ली में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। कुछ निचले इलाके में पानी भर गया है। हरियाणा अगर हथिनी कुंड बैराज से और पानी छोड़ता है तो हालात बिगड़ सकते हैं।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

शोपियां मुठभेड़ में सेना के जवानों ने तोड़े नियम! अब कार्रवाई की तैयारी

नई दिल्ली/श्रीनगर, सेना ने शुक्रवार को एक बड़ा फैसला लेते हुए जम्मू-कश्मीर के शोपियां में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)