Saturday , September 19 2020

मॉनसून की विदाई, खूब बरसे बदरा, यहां रही कमी

नई दिल्ली

मॉनसून की बारिश अब वापसी की ओर है। शनिवार को दक्षिण-पश्चिम मॉनसून ने पश्चिमी राजस्थान से वापसी की शुरुआत कर दी। हालांकि दक्षिण-पश्चिम जोन में इस साल बारिश सामान्य से कम रही है और 9.4 फीसदी कम हुई है। इसके उलट भारतीय मौसम विभाग ने अपने अनुमान में उत्तर-पूर्व मॉनसून के बेहतर रहने का अनुमान जताया है। उत्तर-पूर्व मॉनसून से अक्टूबर से दिसंबर के दौरान दक्षिण भारत में बारिश होती है। मौसम विभाग का कहना है कि यह बारिश सामान्य रहेगी। हालांकि तमिलनाडु में यह सामान्य से अधिक भी रह सकती है।

मॉनसून सीजन की बारिश भले ही उम्मीदों से कुछ कम हुई है, लेकिन खरीफ की फसल पर इसका बहुत असर नहीं दिखता क्योंकि वर्षा का वितरण का काफी हद तक समान रहा है। इस साल खरीफ की फसल की बुआई का क्षेत्रफल पिछले साल की तुलना में 1.9 पर्सेंट कम रहा है, जबकि सामान्य से 0.7% कम है।

मौसम विभाग के चीफ के.जे. रमेश ने कहा, ‘दक्षिण-पश्चिम मॉनसून सामान्य से कुछ कम रह सकता है, लेकिन हम तक अभी पूरे आंकड़े नहीं आए हैं। लेकिन, इसका दूसरा पक्ष भी हमें समझना होगा। कुछ हिस्सों को छोड़ दें तो इस साल देश के बड़े हिस्से में बारिश अच्छी रही है। इसके चलते फसल की बुआई का रकबा अच्छा है और लगभग बीते साल के ही समान है।’

रमेश ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘हमने आईआईटी गांधीनगर के साथ मिलकर मिट्टी की नमी को लेकर एक मैप तैयार किया है।’ इस मैप से पता चलता है कि देश के अधिकतर हिस्सों में अच्छी बारिश हुई है। यह रबी की फसल के साथ ही पूरे कृषि सेक्टर के लिए अच्छा संकेत है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

शोपियां मुठभेड़ में सेना के जवानों ने तोड़े नियम! अब कार्रवाई की तैयारी

नई दिल्ली/श्रीनगर, सेना ने शुक्रवार को एक बड़ा फैसला लेते हुए जम्मू-कश्मीर के शोपियां में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)