Sunday , October 25 2020

विरोध और नारेबाजी के बीच जब JNU कैंपस में पहुंचे बीजेपी के 3 मुख्यमंत्री

नई दिल्ली,

28 अगस्त की रात. रात के 10 बजकर बीस मिनट हुए हैं. कैंपस के कोएना हॉस्टल के गेट पर हाथों में प्ले कार्ड्स लिए कुछ लड़के-लड़कियां खड़े हैं. प्ले कार्ड्स पर अंग्रेजी और असमिया भाषा में कुछ-कुछ लिखा गया है. अंधेरा है और इसलिए साफ-साफ दिख नहीं पा रहा है. हाथों में प्ले कार्ड्स लिए लड़के-लड़कियों की तरफ से रह-रहकर नारेबाजी भी हो रही है. इनकी संख्या पचास से अस्सी के बीच है. गार्डस ने इन्हें किनारे किया हुआ है ताकि हॉस्टल के अंदर जाने का रास्ता खुला रह सके.

कुछ लोग हॉस्टल की छत पर भी खड़े हैं और मोबाइल से वीडियो बना रहे हैं. असल में, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की तरफ से कैंपस में एक पब्लिक टॉक आयोजित है. ‘ब्रिडिंग द हार्ट’ नामक इस कार्यक्रम में असाम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू और मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह मुख्य वक्ता के तौर पर आमंत्रित हैं और हॉस्टल के बाहर इन्हीं तीनों के आने का इंतजार हो रहा है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कार्यक्रम साढ़े नौ बजे ही शुरू होना था लेकिन जब तीन-तीन मुख्यमंत्री आ रहे हों तो एकाध घंटे की देरी को नजरअंदाज किया जाना चाहिए.साढ़े दस के आसपास अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर के सीएम पहुंचे और थोड़ी देर बाद असाम के मुख्यमंत्री भी हॉस्टल में दाखिल हुए. मुख्यमंत्रियों के दाखिल होते वक्त दोनों पक्षों ने नारेबाजी की, लेकिन आवाज में बुलंदी के मामले में एबीवीपी के सदस्य बाजी मार ले गए.

फिर हुज्जत शुरू हुई कि किसे अंदर जाने देना है और किसे नहीं. बाहर प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्रों का कहना है कि उनके राज्य के मुख्यमंत्री आए हैं, इसलिए उन्हें अंदर जाने ही देना चाहिए, लेकिन गेट पर खड़े एबीवीपी के सदस्य ऐसा करके कोई रिस्क नहीं लेना चाहते. थोड़ी देर बाद अंदर से गेट बंद कर दिया गया. हां, कार्यक्रम शुरू होने के थोड़ी देर बाद गेट खोल भी दिया गया था.

हॉस्टल के अंदर मुख्यमंत्रियों को सुनने के लिए अच्छी-खासी संख्या में छात्र-छात्राएं मौजूद हैं. हॉस्टल के अंदर बाहर की तुलना में ज़्यादा गरमी है. एक-एककर तीनों मुख्यमंत्री बोले. अगर आप जानना चाहते हैं कि क्या बोले तो मैं आपको तीनों के छोटे-छोटे भाषण का सार बता देता हूं.

उन्होंने कहा:

-पूर्वोत्तर के राज्यों में जब से नई सरकारें आई हैं तब से विकास की रफ़्तार बढ़ गई है. अपराध और भ्रष्टाचार करने वालों की अब ख़ैर नहीं है. उन्हें जेल में डाला जा रहा है.

-वर्तमान पीएम नरेंद्र मोदी ने पूर्वोत्तर को वो सम्मान दिया जो इन राज्यों को आजतक नहीं मिला था.

-आपलोग भारत को समझिए, देखिए और जानिए. हम एक हैं, हमारे बीच विचारों की असमानता नहीं रहनी चाहिए.
-पूर्वोत्तर में बहुत से स्वतंत्रता सेनानी हुए लेकिन इधर उन्हें नहीं पढ़ाया जाता है. मंत्रालय को टेक्स्ट बुक में उनके बारे में पढ़ाना चाहिए.

-एबीवीपी देश का एक ऐसा छात्र संगठन है जो समूचे देश को जोड़ने का काम करता है.

ऐसा नहीं है कि तीनों मुख्यमंत्रियों ने केवल इतना ही कहा. ये वो बातें हैं जो तीनों ने किसी ना किसी तरीक़े से कही हीं. भाषण के दौरान टोका-टोकी भी हुई लेकिन मुख्यमंत्रियों ने अपना भाषण पूरा किया. आखिर में एक सवाल भी लिया गया.हालांकि एबीवीपी के नेता और जेएनयूएसयू के पूर्व संयुक्त सचिव सौरभ शर्मा के मुताबिक विरोध करने वाले छात्र लेफ़्ट और एनएसयूआई के सदस्य थे और उन्होंने लोकतंत्र का गला घोटा है.

सौरभ ने कहा, ‘प्रदर्शन करने वाले आम छात्र नहीं थे. वो ऐसे एलिमेंट थे जिनका विश्वास संवाद में नहीं है. ये लोग लेफ़्ट और एनएसयूआई के सदस्य थे. आज इन लोगों ने जेएनयू में लोकतंत्र की हत्या की है. इन लोगों ने हमारे तीन मुख्यमंत्रियों को जो कि आदिवासी थे बोलने नहीं दिया. मुझे उम्मीद है कि छात्र समुदाय इसका जवाब देगा.’

प्रदर्शन करने वालों में शामिल तन्मया जो कि असम की रहने वाली हैं का कहना है कि वो या बाकी छात्र किसी भी राजनीतिक संगठन से नहीं जुड़े हुए हैं. वो बस अपने राज्यों के मुख्यमंत्री के सामने अपनी बात रख रहे हैं. तन्मया कहती है, ‘हमने किसी को डिस्टर्ब नहीं किया है. न तो उन्हें अंदर जाने से रोका और ना ही उन्हें टोका. हम उनसे सवाल पूछ रहे हैं. हम अंदर जाकर भी सवाल पूछना चाह रही थीं लेकिन मौक़ा नहीं मिला.’

वहीं छात्रों के एक बड़े वर्ग का यह मानना है कि एबीवीपी ने सितम्बर में होने वाले छात्र संघ चुनाव में पूर्वोत्तर के छात्रों का वोट पाने के लिए बीजेपी के तीन मुख्यमंत्रियों को कैंपस में उतार दिया है.लेकिन सौरभ इस बात को सिरे से ख़ारिज कर देते हैं. बक़ौल सौरभ यह कार्यक्रम बहुत पहले से तय था. इतनी जल्दी तीन-तीन मुख्यमंत्रियों को लाना सम्भव ही नहीं है.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

दिल्ली में प्लाज्मा थेरेपी के मिले अच्छे नतीजे, डॉक्टर्स बोले- जारी रखने की जरूरत

नई दिल्ली दिल्ली में पिछले काफी समय से कोरोना से रिकवर हो चुके लोग प्लाज्मा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!