7 महीने में खत्म पृथ्वी के संसाधनों का साल भर का कोटा

1 अगस्त यानी बुधवार को अर्थ ओवरशूट डे है। इसका मतलब है कि हमारी पृथ्वी साल भर में जितने संसाधन पैदा करती है हमने उसको महज 7 महीनों में ही इस्तेमाल कर लिया है। एक बार फिर बता दें कि हमने साल भर के प्राकृतिक संसाधनों का कोटा सिर्फ 7 महीने में खत्म कर दिया है। हर साल ओवरशूट डे पीछे ही खिसकता जा रहा है यानी हम संसाधनों का इस्तेमाल बढ़ाते जा रहे हैं।

मौजूदा समय में हम 1.7 पृथ्वी जितना संसाधन इस्तेमाल कर रहे हैं जो कि साल 2030 तक बढ़कर दो पृथ्वियों जितना होने वाला है। इसकी सबसे बड़ी वजह हद से ज्यादा मछली मारना, जंगलों की बेइंतहा कटाई और इको सिस्टम द्वारा अवशोषित करने की क्षमता से ज्यादा कार्बन डायऑक्साइड उत्सर्जन करना है।

ग्लोबल फुटप्रिंट नेटवर्क (GFN) नाम की अंतरराष्ट्रीय शोध संस्था के मुताबिक, 1997 में अर्थ ओवरशूट डे 30 सितंबर को आया था लेकिन अब दो दशक बाद यह 1 अगस्त को आया है। यह सबूत है कि अभूतपूर्व मात्रा में लोग संसाधनों के लिए प्रकृति पर हद से ज्यादा दबाव डाल रहे हैं। सिर्फ भारत की बात करें तो अगर मौजूदा गति से ही प्राकृतिक संसाधनों का उपभोग जारी रहा तो हमें अपनी मांग पूरी करने के लिए 2.5 देशों जितने संसाधन की जरूरत होगी।

1986 में पहली बार ओवरशूट डे की शुरुआत की गई थी। बीते साल 2 अगस्त को अर्थ ओवरशूट डे था। GFN हर साल एक आंकड़ा पेश करता है जिससे पता चलता है कि पृथ्वी पर मौजूद प्राकृतिक संसाधनों जैसे कार्बन, खाद्य पदार्थ, लकड़ी और पानी के खात्मे की तारीख कितनी तेजी से करीब आती जा रही है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

कोरोना पर गुड न्यूज! रिकवरी रेट 80 प्रतिशत, अमेरिका को पीछे छोड़ टॉप पर भारत

नई दिल्ली भारत में तेजी से कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)