Monday , October 26 2020

अखिलेश पर फिर बरसे शिवपाल, बोले- अब धर्म युद्ध होगा

लखनऊ

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के मुखिया शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी (एसपी) में अपनी उपेक्षा को लेकर एक बार फिर जमकर प्रहार किया। मंगलवार को सामाजिक संगठन श्रीकृष्ण वाहिनी के राज्यस्तरीय सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘महाभारत धर्म युद्ध था। पांडवों ने तो अहंकारी दुर्योधन से पांच गांव मांगे थे, मैंने तो सिर्फ बड़ों का सम्मान मांगा। उसी सम्मान के लिए मैंने मोर्चे के जरिए धर्मयुद्ध का संकल्प लिया है।’

शिवपाल यहीं नहीं रुके। उन्होंने आगे कहा, ‘कंस ने धर्म का पालन नहीं किया। बहन, बहनोई और पिता को कैद में डाल दिया। आज भी बहुत से कंस पैदा हो जाते हैं, एक कंस आज भी है।’ इस सम्मेलन में सर्वसम्मति से मोर्चे के समर्थन का प्रस्ताव पास किया गया। व्यापारी नेता रामबाबू रस्तोगी ने भी मोर्चे के समर्थन का ऐलान किया।

‘रावण मारा गया, लंका भी जली’
शिवपाल ने कहा, ‘धर्म के रास्ते में संघर्ष तो होता ही है। मर्यादा पुरुषोत्तम राम को भी चौदह साल का वनवास मिला। रावण शक्तिशाली राजा था लेकिन राम से हारा और लंका भी जली। अधर्म के रास्ते पर चलने के कारण कंस भी मारा गया।’ उन्होंने आगे कहा, ‘जब ताकत मिलती है तो कभी-कभी अभिमान आ जाता है लेकिन हमें रावण और कंस की हालत याद रखनी चाहिए।’ शिवपाल ने कृष्ण और सुदामा का जिक्र करते हुए कहा कि मैंने भी बहुतों को बहुत कुछ दिया लेकिन वे सुदामा नहीं निकले। चुनाव में उन्होंने ही हमें हराने की पूरी कोशिश की।

‘अब कदम वापस नहीं लेंगे’
शिवपाल ने अखिलेश पर हमला करते हुए कहा, ‘पार्टी में जिन्हें न्याय नहीं मिल रहा था, अपमानित हो रहे थे, उनके लिए मोर्चा बनाया गया है। बहुत दुविधा में था, सोच रहा था कि दोनों का नुकसान होगा इसीलिए दो साल इंतजार किया। फिर नेताजी (मुलायम सिंह) सहित परिवार के बड़ों का आशीर्वाद लेकर बहुत सोच-समझकर यह कदम उठाया है और अब पीछे नहीं हटूंगा।’ युवाओं से उन्होंने कहा, ‘आपके साथ मिलकर हम निश्चित रूप से सामाजिक परिवर्तन लाएंगे। अभी मोर्चा बनाया है और लोग अभी से परेशान हैं।’ बिना किसी का नाम लिए कहा कि जब संगठन इतना बन जाएगा तो उनका क्या होगा?

‘साइकल चला दी तो बड़ा काम कर दिया?’
शिवपाल ने आगे कहा, ‘जब मैं हाईस्कूल में था, तब से नेताजी के साथ काम करने लगा था। चुनाव में 90-90 किलोमीटर साइकल चलाकर नेताजी का प्रचार करता था। आज लोग एक घंटा साइकल चला देते हैं तो बताते हैं कि बड़ा काम कर दिया। मैंने तो कभी राजनीति में आने का सोचा ही नहीं था लेकिन राजनीति में आना पड़ा। बड़े विभागों का मंत्री रहा, कभी कोई आरोप नहीं लगा। पुलिस भर्ती को लेकर बदनाम करने की कोशिश की गई लेकिन जिन्होंने गड़बड़ की वे वही ठग और चापलूस थे, जिन्हें मंत्री बनाया गया।’

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

मांस को गोमांस बताकर होता है ‘खेल’, हाई कोर्ट ने कहा- गोहत्या निरोधक कानून का हो रहा दुरुपयोग

प्रयागराज गोहत्या के नाम पर मॉब लिन्चिंग की ढेरों खबरें सामने आती रही हैं। इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!