Tuesday , September 29 2020

इस अनोखे प्राचीन मंदिर में बना है अविभाजित भारत का मानचित्र

वाराणसी

प्राचीन शहर वाराणसी में एक अनोखा ‘भारत माता मंदिर’ है जिसके संगमरमर पर अविभाजित भारत का नक्शा बना हुआ है। दुनियाभर के श्रद्धालुओं को आकर्षित करने वाले इस शहर में स्थित यह मंदिर अक्सर श्रद्धालुओं की नजर से बच जाता है लेकिन यह विदेशी पर्यटकों का एक पसंदीदा स्थल है जो इस आध्यात्मिक शहर को देखने अक्सर आते हैं।

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ परिसर में स्थित इस मंदिर का निर्माण बाबू शिव प्रसाद गुप्ता ने 1918 से 1924 के बीच कराया था और इसका उद्घाटन 25 अक्तूबर,1936 को महात्मा गांधी ने किया था। मंदिर भवन के मध्य में मकराना संगमरमर पर अफगानिस्तान, बलूचिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, बर्मा (अब म्यामांर) और सेलोन (अब श्रीलंका) समेत अविभाजित भारत का एक मानचित्र है। मानचित्र की एक दिलचस्प विशेषता यह है कि इसमें करीब 450 पर्वत श्रृंखलाओं और चोटियों, मैदानों, जलाशयों, नदियों, महासागरों और पठारों समेत कई भौगोलिक ढांचों का विस्तृत नक्शा उपलब्ध है और इनकी ऊंचाई और गहराई उनके साथ-साथ अंकित है।

मंदिर का निर्माण दुर्गा प्रसाद खत्री के मार्गदर्शन में 30 मजदूरों और 25 राजमिस्त्रियों ने किया था और उनके नाम मंदिर के कोने में एक फलक पर लिखे गए हैं। इस ‘भारत माता मंदिर‘ के रखरखाव का कार्य देखने वाले राजू सिंह ने बताया कि हर साल गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर इस नक्शे में दिखाए गए जलाशयों में पानी भरा जाता है और मैदानी इलाकों को फूलों से सजाया जाता है। एक दिलचस्प तथ्य यह भी है कि ‘राष्ट्रकवि‘ मैथिली शरण गुप्त ने इस मंदिर के उद्घाटन पर एक कविता लिखी थी। इस रचना को भी मंदिर में एक बोर्ड पर लिखकर लगाया गया है।

सिंह ने बताया कि अविभाजित भारत के दुर्लभ नक्शों में से एक को खुद में सहेजे इस मंदिर के अंदर तुरन्त पुनरुद्धार कार्य शुरू करने की जरूरत है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी ‘स्मार्ट सिटी‘ परियोजना के लिए चुना गया है और इस मंदिर के आसपास के सौंदर्यीकरण के लिए भी धन आवंटित किया गया है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

फिर पलटी गैंगस्टर को ला रही यूपी पुलिस की गाड़ी, लोग बोले- स्क्रिप्टराइटर बदलो!

लखनऊ कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे का एनकाउंटर अभी कोई भूला नहीं होगा। कैसे उज्जैन में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
187 visitors online now
26 guests, 161 bots, 0 members
Max visitors today: 198 at 08:00 am
This month: 233 at 09-28-2020 11:52 am
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm