करुणा के साथ खत्म द्रविड़ आंदोलन का अध्याय

चेन्नै

तमिलनाडु की राजनीति का एक बड़ा स्तंभ रहे मुथुवेल करुणानिधि दुनिया को अलविदा कह गए और अपने पीछे छोड़ गए ऐसा इतिहास जो राज्य कभी भुला नहीं पाएगा। जब उन्होंने साल 2006 में राज्य के सबसे उम्रदराज मुख्यमंत्री के तौर पर पदभार संभाला था तब यह बात सभी को पता चल गई थी कि ‘कलाईनार’ को राजनीति से अलग नहीं किया जा सकता, भले ही उम्र कम पड़ जाए।

करुणानिधि ने 27 जुलाई, 1969 को पार्टी की कमान संभाली थी और 2016 में बीमार हो जाने तक उन्होंने खुद को पार्टी के लिए समर्पित किया। बीमारी की वजह से उन्होंने अपने बेटे एमके स्टालिन को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाकर अपने कंधों से बोझ तो कम किया लेकिन पार्टी से खुद को अलग करना उनके लिए नामुमकिन रहा।

14 साल की उम्र: बचपन से निकल थामी मशाल
पांच बार राज्य का मुख्यमंत्री रहने के दौरान करुणानिधि परिवारवाद के आरोपों के चलते सवालों के घेरे में जरूर रहे लेकिन 14 साल की उम्र से आंदोलनों और संगठनों को मजबूती देने वाले ‘दक्षिणमूर्ति’ ने राज्य के साथ ही देश की राजनीति में पार्टी का महत्व स्थापित किया। कविताओं, नाटकों और साहित्य में रुचि ही थी जिसने उन्हें द्रविड़ियन आंदोलन के दौरान मुखर होकर बोलने का आत्मविश्वास दिया। इस आंदोलन के चलते साल 1953 में वह गिरफ्तार भी हुए। इस आंदोलन की प्रेरणा से उन्होंने तमिल फिल्म ‘परासक्ति’ भी बनाई जो तमिल सिनेमा में एक बड़ा मोड़ साबित हुई।

करुणानिधि ने जस्टिस पार्टी के अलागिरी स्वामी के भाषण से प्रेरित होकर 14 साल की उम्र में राजनीति कदम रखा। स्थानीय युवाओं को आंदोलन से जोड़ते हुए उन्होंने तमिल मनवर मंद्रम नाम का छात्र संगठन शुरू किया जो द्रविड़ियन आंदोलन की पहली छात्र इकाई था। यहां शुरू किए गए अखबार मुरसोली ने बाद में डीएमके के आधिकारिक अखबार की शक्ल ली।

द्रविड़ियन अस्तित्व के लिए लड़ाई
करुणानिधि के लिए राजनीतिक जमीन तैयार करने का मौका तब आया जब औद्योगिक शहर कल्लुकुड़ी का नाम सीमेंट व्यापारी के नाम पर डालमियापुरम किया जा रहा था। डीएमके ने इस बदलाव के खिलाफ आंदोलन किया और करुणानिधि ने स्टेशन से डालमियापुरम नाम हटाकर ट्रैक पर पत्थर लगा दिए और ट्रेनें रोक दीं। इन प्रदर्शनों में दो लोगों की जान चली गई और करुणानिधि को गिरफ्तार कर लिया गया।

नहीं कहा अलविदा…
करुणानिधि 33 साल की उम्र में साल 1957 में उन्होंने पहली बार कुलीथलाई सीट से जीत हासिल कर तमिलनाडु विधानसभा में कदम रखा। साल 1969 में अन्नादुराई के निधन के बाद वह पहली बार तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने। उसके बाद तमाम उतार-चढ़ावों के बीच 1971-76, 1989-91, 1996-2001 और 2006-11 के दौरान पांच बार मुख्यमंत्री का पद संभाला। साल 2016 में अपने बेटे को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाकर उन्होंने सक्रिय राजनीति से किनारा तो किया लेकिन अलविदा नहीं कहा।

जब कलैगनर ने कहा, ‘लोगों ने दिया आराम’
साल 2011 में जब विधानसभा चुनाव में डीएमके को एआईडीएमके के हाथ करारी शिकस्त देखने को मिली तब करुणानिधि ने कहा था, ‘लोगों ने मुझे आराम करने का मौका दिया है।’ इसे करुणानिधि का खुद पर तंज मानें या शायद वह आगे की राजनीति को भांप चुके थे। चुनाव फिर से हुआ इस बार भी जनता ने उन्हें सत्ता से दूर रखा। आखिरकार द्रविड़ियन आंदोलन के नायक के युग का अंत हो गया।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय की सियासी पारी शुरू, जेडीयू में हुए शामिल

पटना, बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले अब बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
74 visitors online now
8 guests, 66 bots, 0 members
Max visitors today: 196 at 07:34 am
This month: 227 at 09-18-2020 01:27 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm