Tuesday , October 27 2020

HC के रिटायर्ड जज को नमाज से रोका, मुकदमा

पीलीभीत

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में हाई कोर्ट के एक रिटायर्ड जज को नमाज पढ़ने से रोके जाने का मामला सामने आया है। नगर की जामा मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोक दिए जाने के बाद जज ने कोतवाली में जामा मस्जिद के सदर इमाम, शहरकाजी सहित चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। रिटायर्ड जज का आरोप है कि उनको देवबंदी बताकर नमाज पढ़ने से रोक दिया गया था। रिटायर्ड जज ने पूर्व कैबिनेट मंत्री हाजी रियाज अहमद पर भी आरोप लगाया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

नगर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला छोटा खुदागंज के निवासी रिटायर्ड जज मुसफ्फे अहमद ने इस संबंध में कोर्ट में शिकायती पत्र पिछले वर्ष 6 अगस्त 2017 को दिया था, जिसमें कहा था कि वह मगरिब की नमाज पढ़ने के लिए शहर की जामा मस्जिद में गए थे। नमाज पढ़ने के बाद उन्हें दो लड़कों ने रोक लिया और मस्जिद के सदर इमाम से मिलने को कहा। उनके ऐतराज जताने के बाद भी मस्जिद से नहीं जाने दिया गया। वह दोनों लड़कों के साथ सदर इमाम के पास पहुंचे तो उन्होंने आगे से मस्जिद में नमाज न पढ़ने की ताकीद की।

मुसफ्फे अहमद द्वारा मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोकने का कारण पूछे जाने पर इमाम ने बताया कि वह देवबंदी संप्रदाय को मानने वाले हैं, इस संप्रदाय के लोग यहां नमाज पढ़ने नहीं आ सकते। मुसफ्फे अहमद को धमकी भी दी गई कि अगर यहां नमाज पढ़ने आए तो झगड़ा हो जाएगा। जब रिटायर्ड जज ने पुलिस को इस मामले से अवगत कराया तो पुलिस ने बिना रिपोर्ट दर्ज किए तहरीर पर जांच की बात कहकर उन्हें टरका दिया, जिसके बाद उन्होंने कोर्ट में शिकायत पत्र देकर कार्रवाई की मांग की।

कोर्ट ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कोतवाली पुलिस को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। कोर्ट के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने 11 महीने बाद आस्तान-ए-हशमतिया के सज्जादानशीं मौलाना जरताब रजा खां, जामा मस्जिद के सदर इमाम इजहार अहमद बरकती समेत चार के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। रिटायर्ड जज ने तहरीर में एसपी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे पूर्व विधायक हाजी रियाज अहमद के संरक्षण में इस पूरे प्रकरण को अंजाम दिए जाने की बात भी कही है।

इस पूरे मामले पर पीलीभीत के एसपी बालेंदु भूषण सिंह ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर रिटायर्ड जज की ओर से एफआईआर दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि एफआईआर में शहर काजी मौलाना जरताब रजा खां और सदर इमाम इजाहर अहमद बरकती के साथ-साथ दो अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है। इस पूरे मामले की गहनता से जांच करने के बाद निष्पक्ष विवेचना की जाएगी।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

UP: कुलदीप सेंगर जेल से भी चुनाव लड़ते तो जीत जाते: साक्षी महाराज

बांगरमऊ, उत्तर प्रदेश की सात विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए प्रचार जारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!