Saturday , October 24 2020

UP: महामारी का रूप ले रहा जानलेवा बुखार, अबतक 29 ने तोड़ा दम

सीतापुर

उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के गोंदलामऊ इलाके में अब तक 29 जानें ले चुका बुखार महामारी का रूप लेता जा रहा है और स्वास्थ्य विभाग इसको रोकने में असफल नजर आ रहा है। हालात यहां तक पहुंच गए कि लोग अपना आशियाना छोड़कर जाने को मजबूर होने लगे हैं। एक बार फिर इस बीमारी से चौबीस घण्टे के भीरत सात जानें चली गईं।

जानकारी के मुताबिक, क्षेत्र के करीब 45 गांव इस बीमारी की चपेट में हैं। हजारों बुजुर्ग, महिलाएं और बच्चे भी उल्टी-दस्त और बुखार से पीड़ित हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपचार की प्रर्याप्त व्यवस्था न होने के कारण लोग प्राइवेट अस्पतालों में इलाज कराने को मजबूर हैं। 24 घंटों के अंदर रहस्यमयी बुखार से जमुनापुर नतवलग्रन्ट से दो मौतें और अन्य गावों में पांच मौते हुई हैं, जिसमें ग्राम सैदापुर निवासी विमला (40) पत्नी मनीराम लगभग एक हफ्ते से बुखार से पीड़ित थीं, जिनकी घर पर ही मृत्यु हो गई। इसी गांव के मुन्नूलाल (68) पुत्र तेजा पांच दिन से बुखार से पीड़ित थे, उनकी भी घर पर ही मौत हो गई।

लगातार हो रही मौतें
ग्राम प्रीतपुर में रामपाल, ग्राम सवासी में रानी, पुन्नपुर में दिलीप की मौत हो गई है। ग्राम जमुनापुर नतावलग्रान्ट में विक्रम पुत्र सोबरन कई दिनों से बुखार से पीड़ित थे, जिनकी भी मृत्यु हो गई। देवकी (40) पत्नी तुलाराम एक हफ्ते से बुखार से पीड़ित थे, इनकी भी मृत्यु हो गई। इन गांवों में मरीजों की तादात बढ़ती जा रही है।

क्षेत्र के ग्राम सैदपुर से अंजुमन (5) पुत्र रामसुमिरन की हालत चिंताजनक बनी हुई है। साथ इस गांव के 50 अन्य लोग भी बुखार की चपेट में हैं। ग्राम प्रीतपुर में रजनी 1(2) पुत्री राधेलाल, दिव्यांशी (12) पुत्री रामलोटन की हालत गम्भीर है और करीब 45 अन्य लोग भी बुखार से पीड़ित हैं।

गांव छोड़ रहे लोगों को एसडीएम ने मनाया
इस रहस्मयी बुखार से हो रही मौतों ने समूचे क्षेत्र में दहशत फैला रखी है। स्वास्थ्य प्रशासन द्वारा बीमारी को रोकने के लिए और पीड़ितों के उपचार की हो रही व्यवस्था नाकाफी साबित हो रही है। दहशत का आलम यह है कि लोग गांव छोड़ने को मजबूर हो रहे हैं। इस तरह से हो रही बीमारी से हो रही मौतों की दहशत में ग्राम जमुनापुर नवलपुरग्रटं के ग्रामीण गांव से पलायन की तैयारी कर रहे थे। जब इस बात की जानकारी उपजिलाधिकारी मिश्रिख राजीव पाण्डे को हुई तो उन्होने गांव पहुंचकर ग्रामीणों को मनाया। एसडीएम के लाख समझाने के बाद ग्रामीण माने।

जमुनापुर पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी
बीमारी से लगातार हो रही मौतों की जानकारी मिलने पर ईडी स्वास्थ्य विभाग डॉ. अतुल कुमार मिश्रा जमुनापुर नवलग्रंट गांव पहुंचे. जहां उन्होंने बीमार लोगों का हालचाल जाना और स्वास्थ्य टीम को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने ग्रामीणों से बात की और उन्हें साफ-सफाई रखने की सलाह दी। उन्होंने कहा, ‘स्वास्थ्य टीमें निरन्तर पीड़ित गांवों का भ्रमण कर दवाएं आदि वितरित कर रही हैं। हमारा प्रयास है शीघ्र ही इस बीमारी को क्षेत्र से मिटा दें और सभी को स्वास्थ्य लाभ दे सकें।’ उन्होंने अपने सामने ही स्वास्थ्य टीम द्वारा बीमार लोगों को चेकअप करवाया और दवाएं वितरित कराई।

आक्रोशित ग्रामीणों ने रास्ते में बल्ली गाड़कर किया विरोध
स्वास्थ्य विभाग के ईडी डा0 अतुल कुमार मिश्रा जब जमुनापुर नवलपुरग्रंट पहुंचे तो ग्रामीणों ने उन्हें गांव में नहीं घुसने दिया। ग्रामीण रास्ते में बल्ली गाड़कर वहीं धरने पर बैठ गए और प्रदर्शन करने लगे। यहां तक कि जब डॉ. मिश्रा द्वारा उन्हें दवा वितिरित कराई जा रही थी तो ग्रामीणों ने दवा लेने से भी इनकार कर दिया। काफी समझाने के बाद ग्रामीण माने और वितरित हो रही दवा ली।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

महबूबा संग बैठक कर फारूक अब्दुल्ला बोले, हम ऐंटी- बीजेपी हैं, ऐंटी-नैशनल नहीं

नई दिल्ली नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!