BJP के लिए बंगाल में ममता का ‘ट्रिपल प्लान’

कोलकाता

बीते कुछ सालों से पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस एकछत्र राज करती रही है, लेकिन यह चुनाव उसके लिए बेहद कड़े हो सकते हैं। बीजेपी से उसे कड़ी चुनौती मिलती दिख रही है। राष्ट्रीय राजनीति में अपनी भूमिका मजबूत करने की कोशिश में जुटीं ममता बनर्जी किंगमेकर के तौर पर भी उबर सकती हैं। उनकी कोशिश है कि लोकसभा में बीजेपी और कांग्रेस के बाद तृणमूल कांग्रेस सीटों के मामले में नंबर तीन पर रहे। इसके लिए उन्होंने खास रणनीति बनाई है, जो उनके 42 सीटों के कैंडिडेट्स के चयन में भी दिखती है। उनकी यह रणनीति त्रिस्तरीय है।

एक तिहाई सांसद लिस्ट से बाहर
ममता बनर्जी ने 34 मौजूदा सांसदों में से 8 को टिकट नहीं दिया है, जबकि दो ने पार्टी छोड़ बीजेपी जॉइन कर ली है। इससे स्पष्ट है कि ममता बनर्जी ऐंटी-इन्कम्बैंसी से बचने के लिए सांसदों के टिकट काट नए उम्मीदवार उतार रही हैं। स्थानीय मुद्दों पर जनता की नाराजगी से बचने का यह कारगर उपाय कहा जा सकता है।

17 उम्मीदवार नए या नई सीट से
बीजेपी से मिल रही टक्कर और जनता के रुझान को देखते हुए ममता बनर्जी ने 17 उम्मीदवार ऐसे तय किए हैं, जो पहली बार लोकसभा जाने की तैयारी में हैं या फिर उनकी सीट बदली गई है। सत्ता विरोधी लहर से निपटने का यह भी एक तरीका है।

महिला कार्ड से बढ़त की कोशिश
ममता का यह कार्ड भी अहम साबित हो सकता है। उन्होंने 40 पर्सेंट से ज्यादा टिकट महिला उम्मीदवारों को दिए हैं। महिलाओं को अपने पक्ष में करने का यह सबसे आसान तरीका साबित हो सकता है।

अस्तित्व की जंग में लेफ्ट-कांग्रेस, बीजेपी मजबूत प्लेयर
इस बार सूबे में आम चुनाव की जंग तृणमूल बनाम बीजेपी दिख रही है। बीजेपी यहां एक मजबूत विपक्ष के तौर पर उभरी है और कई जिलों में लेफ्ट का सपॉर्ट बेस बुरी तरह कमजोर हुआ है। ऐसी स्थिति में लेफ्ट ने कांग्रेस संग मिलकर बीजेपी और तृणमूल के खिलाफ अस्तित्व की लड़ाई में उतरने का फैसला लिया है।

ममता ने भी माना बीजेपी से कड़ी चुनौती
ममता ने खुद मंगलवार को अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करने के बाद यह माना था कि यह चुनाव कठिन है और बीजेपी से कड़ी चुनौती मिल रही है। यही नहीं उन्होंने तो यहां तक कहा कि यदि माया और अखिलेश उन्हें आमंत्रित करते हैं तो वह वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ कैंपेन करेंगी।

ममता के खिलाफ चुनाव आयोग पहुंची BJP
बुधवार को बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में अपने तेवर कड़े करते हुए चुनाव आयोग से मांग करते हुए सूबे को अतिसंवेदनशील घोषित करने की मांग की। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के नेतृत्व में मिले नेताओं ने कहा कि बंगाल में होने वाली हिंसा को ध्यान रखते हुए अतिसंवेदनशील क्षेत्र घोषित करने की मांग की। यही नहीं बीजेपी ने सभी पोलिंग बूथों पर केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात करने की मांग की।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

जमीन बेचने के बाद नहीं मिले थे पूरे पैसे, कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या

सूरत , आर्थिक तंगी से जूझ रहे सूरत के एक किसान ने अपने ही घर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)