Thursday , October 29 2020

चिराग पर शाह ने तोड़ी चुप्पी, BJP और JDU ने ऑफर की थीं उचित सीटें

पटना

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 लोक जनशक्ति पार्टी के एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ने पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि चिराग ) हमारे साथ क्यों नहीं है, इसका जवाब तो वही दे सकते हैं। लेकिन मैं पहले रामविलास पासवान जी को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उन्होंने कहा कि साथी जाने का दुःख भी होता है और नुकसान भी, लेकिन जब आपके हाथ में बात न हो तो क्या किया जा सकता है।

एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा कि जहां तक बीजेपी (BJP)-जेडीयू (JDU)-एलजेपी (LJP) के गठबंधन का सवाल है, बीजेपी और जेडीयू दोनों की ओर से एलजेपी को उचित संख्या में बार-बार सीटों की पेशकश की गई। सीटों को लेकर कई बार बातचीत भी हुई। मैंने व्यक्तिगत रूप से कई बार चिराग से बात की। लेकिन बात नहीं बनी।

शाह ने दिया ‘फुल स्टॉप’ वाला जवाब
सीटों को लेकर चिराग पासवान से वार्ता विफल होने के पीछे का कारण बताते हुए अमित शाह ने कहा, “इस बार हमारे पास गठबंधन के नए सदस्य हैं, इसलिए प्रति पार्टी सीटों की संख्या नीचे जाने के लिए बाध्य थी। जेडीयू और भाजपा ने भी कुछ सीटें छोड़ दीं। लेकिन ऐसा एलजेपी के साथ नहीं हो सका।”

शाह ने आगे कहा कि एकतरफा टिप्पणियां भी की गईं, जिसका नतीजा पार्टी कार्यकर्ताओं पर दिखाई दिया, इसलिए उनका एक खेमे में रहना मुश्किल हो रहा था। हालांकि, उसके बाद भी हमने गठबंधन नहीं तोड़ा, उन्होंने ऐसा करने की आधिकारिक घोषणा की।’ इन चुनावों के बाद लोजपा एनडीए में वापस आ सकती है, इस सवाल पर शाह ने कहा कि “बिहार के लोग समझते हैं कि गठबंधन क्यों और किसके कारण टूटा था। हम चुनाव के बाद देखेंगे कि क्या एलजेपी एनडीए में शामिल होती है। हम अभी विरोधी हैं और उसी के अनुसार चुनाव लड़ेंगे।”

अमित शाह ने एक निजी चैनल से बातचीत करते हुए कहा कि जब मैं पार्टी अध्यक्ष था तब मैंने कहा था और अब जब जेपी नड्डा (J P Nadda) हैं तो उन्होंने भी कहा है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही बिहार चुनाव लड़ा जा रहा है। और जीतने पर नीतीश कुमार ही एनडीए के मुख्यमंत्री बनेंगे। इसमें कोई दोराय नहीं है, कोई दो मत नहीं है। जो कोई भी भ्रांतियां फैलान की कोशिश कर रहा है, मैं आज उसपर फुल स्टॉप लगाने जा रहा हूं।

बिहार चुनाव में अगर भारतीय जनता पार्टी की ज्यादा सीटें आती हैं तब भी क्या नीतीश कुमार ही सीएम बनेंगे, इस सवाल के जवाब में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि अगर मगर का कोई सवाल ही नहीं है। कुछ कमिटमेंट इस तरह के होते हैं जिन्हें सार्वजनिक रूप से किया जाता है और उनका पालन किया जाता है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

बिहार चुनाव…तो क्या नीतीश कुमार को है मोदी लहर की दरकार?

पटना बिहार विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री के रूप में 15 साल से काम कर रहे …

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!