Wednesday , October 21 2020

अलवर लिचिंग पर राहुल का ट्वीट- यह मोदी का क्रूर ‘न्यू इंडिया’ है

नई दिल्ली,

राजस्थान के अलवर में कथित गोरक्षकों के द्वारा की गई रकबर खान की हत्या का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है. संसद से लेकर देश की सबसे बड़ी अदालत में इस मामले की गूंज है. अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस मामले में पुलिस के गैर जिम्मेदाराना रवैये पर सवाल खड़े कर दिए हैं. सोमवार को इस मामले के बारे में ट्वीट करते हुए राहुल ने लिखा कि जब मौका-ए-वारदात से अस्पताल सिर्फ 6 किमी. की दूरी पर ही था तो पुलिस को रकबर को वहां ले जाने पर 3 घंटे क्यों लगे.

राहुल ने सवाल उठाया कि पुलिस वाले रास्ते में चाय का आनंद ले रहे थे. उन्होंने कहा कि ये मोदी का क्रूर न्यू इंडिया है, जहां मानवता की जगह नफरत ने ली है और लोगों को दबाया जा रहा है और उन्हें मरने के लिए छोड़ा जा रहा है.

दूसरी तरफ, राजस्थान के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने उन मीडिया रिपोर्ट्स का संज्ञान लिया है जिसमें अलवर पुलिस की घोर लापरवाही की बात कही गई है। कटारिया ने कहा, ‘कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने पीड़ित को अस्पताल पहुंचाने में देरी की। हम इन सूचनाओं की सत्यता की जांच कर रहे हैं और अगर यह सच पाई गई तो इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।’

लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी अलवर मॉब लिन्चिंग को लेकर मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। खड़गे ने कहा कि सरकार देश में इस तरह की घटनाओं को प्रोत्साहित कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार नहीं चाहती कि देश में हालात सुधरे।

AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी ने भी राजस्थान पुलिस पर हमला बोलते हुए उसके हिंसक गोरक्षकों से गंठजोड़ का आरोप लगाया है। अलवर कांड पर ओवैसी ने कहा, ‘राजस्थान पुलिस की करतूत से मुझे कोई हैरानी नहीं हुई, उन्होंने पहलू खान मर्डर केस में भी ऐसा ही किया था। राजस्थान पुलिस गोरक्षकों को सपोर्ट कर रही है। ये गोरक्षक और पुलिस साथ-साथ हैं।’

बीजेपी विधायक टी राजा सिंह ने कहा कि गायों की रक्षा के लिए संसद को कानून बनाना चाहिए और गायों को ‘गो राज माता’ घोषित किया जाना चाहिए, तभी इस तरह की (गोतस्करी की) घटनाएं रुकेंगी. टी राजा का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें उन्होंने गोरक्षकों का बचाव करते हुए कह रहे हैं कि जब तक ‘गौ माता’ को ‘राष्ट्र माता’ घोषित नहीं जाता, तब तक इस तरह की हत्या रुक नहीं सकती है. इस वीडियो को लेकर सवाल पर राजा ने कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं कहा है.

क्या है पुलिस की लापरवाही का सच?
एफआईआर और खबरों के मुताबिक पुलिस को करीब 12.40 बजे रकबर की सूचना मिली. लेकिन पुलिस ने करीब 4 बजे रकबर को अस्पताल पहुंचाया. सबसे बड़ी बात घटनास्थल से अस्पताल महज 6 किलोमीटर था. ऐसे में पुलिस को करीब 3-4 घंटे कैसे लग गए. डॉक्टर का कहना है कि रकबर को अस्पताल लाने में देरी हुई और जब वो अस्पताल पहुंचा तब तक उसकी जान जा चुकी थी. आखिर रकबर को पुलिस ने अस्पताल में पहुंचाने में देरी कैसे की, ‘आजतक’ की टीम ने जब उसकी पड़ताल की तो एक के बाद एक चौंकाने वाले खुलासे सामने आए.

लापरवाही नंबर-1
आपको जानकर हैरानी होगी कि पुलिस रकबर को अस्पताल ले जाने से पहले चाय की चुस्कियां लेने पहुंची. अगर रकबर की हालत अगर गंभीर थी तो पुलिस ने गाड़ी रोककर रास्ते में चाय क्यों पी.

लापरवाही नंबर-2
आरोप है कि पुलिस ने गाड़ी गंदी ना हो इसके लिए पहले कीचड़ में सने रकबर को नहलाया धुलाया.

लापरवाही नंबर-3
बताया जा रहा है कि रकबर को पहुंचाने से पहले करीब एक बजे गायों को गौशाला पहुंचा दिया गया, जबकि रकबर को पुलिस टहलाती रही.

क्या है अलवर मामला?
आपको बता दें कि राजस्थान के अलवर जिले में मॉब लिंचिंग में रकबर खान की मौत के मामले में राज्य पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगे हैं. आरोप है कि पुलिस ने रकबर को अस्पताल पहुंचाने की जगह बरामद गायों को पहले गौशाला पहुंचाने को तरजीह दी. यही नहीं, पुलिस ने खुद भी रकबर की पिटाई की. इसकी वजह से रकबर को अस्पताल पहुंचाने में तीन घंटे की देरी हुई और उसकी मौत हो गई.

उक्त आरोपों पर अलवर के एसपी राजेंद्र सिंह ने आजतक से कहा कि इस मामले की जांच की जाएगी. मीडिया में आई खबरों में यह कहा गया था कि रकबर को अस्पताल पहुंचाने में तीन घंटे लग गए और पुलिस ने रकबर को अस्पताल पहुंचाने की जगह पहले गायों को गौशाला तक पहुंचाने को प्राथमिकता दी. गौरतलब है कि रामगढ़ थाना क्षेत्र के लालवंडी गांव में गो तस्करी के आरोप में कुछ कथित गोरक्षकों ने रकबर खान नामक एक शख्स को पीट-पीटकर मार डाला था.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

NCP में शामिल होंगे बीजेपी नेता एकनाथ खडसे, बोले- पार्टी में नहीं मिला न्याय

मुंबई, भारतीय जनता पार्टी को महाराष्ट्र में बड़ा झटका लगा है. पार्टी के दिग्गज नेता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!