Thursday , October 22 2020

वित्त मंत्रालय ने कालेधन पर रिपोर्ट्स साझा करने से किया इनकार

नई दिल्ली

वित्त मंत्रालय ने कालेधन के अनुमान को लेकर तैयार तीन रिपोर्ट्स को साझा करने से इनकार कर दिया है। मंत्रालय का कहना है कि इन रिपोर्ट्स का खुलासा करना संसद के विशेषाधिकार का उल्लंघन होगा। ये तीनों रिपोर्ट्स देश और विदेश में भारतीयों के पास मौजूद कालेधन के बारे में हैं।

तत्कालीन यूपीए सरकार ने 2011 में दिल्ली के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनैंस ऐंड पॉलिसी (एनआईपीएफपी) और नैशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) और राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान (एनआईएफएम), फरीदाबाद से ये अध्ययन कराए थे।

सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत मांगी गई जानकारी के जवाब में वित्त मंत्रालय ने कहा कि एनआईपीएफपी, एनसीएईआर और एनआईएफएम की रिपोर्ट्स सरकार को क्रमश: 30 दिसंबर, 2013, 18 जुलाई, 2014 और 21 अगस्त, 2014 को मिली थीं।

मंत्रालय ने कहा कि इन्हें पिछले साल 21 जुलाई को वित्त पर संसद की स्थायी समिति को सौंपा गया। अब यह मामला समिति के पास है। आरटीआई आवेदन के जवाब में मंत्रालय ने कहा, ‘इस तरह की सूचना का खुलासा संसद के विशेषाधिकार का उल्लंघन होगा। ऐसे में आरटीआई कानून की धारा 8 (1) (सी) के तहत इस तरह की सूचना का खुलासा नहीं करने की छूट है।’

इस धारा के तहत उन सूचनाओं का खुलासा करने पर रोक है जिनसे संसद के विशेषाधिकार का हनन होता हो। फिलहाल देश और विदेश में भारतीयों के कालेधन का कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं है। अमेरिकी शोध संस्थान ग्लोबल फाइनैंशल इंटिग्रिटी (जीएफआई) के एक अध्ययन के अनुसार 2005 से 2014 के दौरान भारत में अनुमानत: 770 अरब डॉलर का कालाधन आया। इस अवधि में देश से 165 अरब डॉलर का कालाधन बाहर गया।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

महाराष्ट्र में बिना इजाजत अब CBI को नो एंट्री, उद्धव सरकार का बड़ा फैसला

मुंबई महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने बुधवार को केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) को दी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!