सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ खत्म, कुल 11 घंटे चला सवाल-जवाब

नई दिल्ली

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ पूरी हो चुकी है। नेशनल हेराल्ड मामले में तीसरे दिन कांग्रेस प्रमुख से करीब 3 घंटे तक सवाल पूछे गए। खबर है कि अगला समन जारी होने तक उन्हें केंद्रीय जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं होना होगा। खबर है की जांच एजेंसी ने तीन दिनों के दौरान करीब 12 घंटों में सोनिया से 100 से ज्यादा सवाल पूछे हैं।

सोनिया गांधी बुधवार को करीब 3 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी दफ्तर से निकल चुकी हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्हें आगे पेशी पर नहीं बुलाया जाएगा। हालांकि, रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से यह कहा जा रहा है कि जांच एजेंसी जरूरत पड़ने पर समन जारी कर सकता है।

सोनिया ने जल्दी दे दिए जवाब!
हाल ही में एक खबर आई थी कि ईडी कार्यालय में सोनिया से सवाल-जवाब का दौर बुधवार को खत्म हो सकता है। एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया था कि कांग्रेस प्रमुख जल्दी जवाब दे रही हैं। खबर है कि तीन दिनों के दौरान जांच एजेंसी ने सोनिया से अहम सवाल पूछ लिए हैं। वहीं, राहुल से ईडी ने 5 दिनों के दौरान करीब 150 सवाल पूछे थे।

तीसरे दिन भी कांग्रेस का प्रदर्शन
सोनिया से पूछताछ का विरोध कर रहे कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान सांसद मनीष तिवारी समेत कई नेताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। इधर, प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा था, ‘उन्होंने राहुल गांधी को 5 दिनों तक बुलाया… अब उन्होंने सोनिया गांधी को तीसरी बार बुलाया है। ईडी ने देश में आतंक का माहौल बनाया है।’

भाजपा का पलटवार
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भी कांग्रेस पर सवाल उठाए थे और कहा था कि गांधी परिवार अपने आप को कानून से ऊपर समझता है। उन्होंने कहा था, ‘उन्हें कानून को जवाब देना चाहिए और नियमों का पालन करना चाहिए।’ साथ ही बीजेपी चीफ ने यह भी कहा कि पार्टी की तरफ से किए गए विरोध प्रदर्शन ‘सत्याग्रह’ नहीं है, बल्कि सच को दबाने का प्रयास है।

सोनिया से पूछताछ पर कांग्रेस लाल
सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ पर कांग्रेस जोरदार विरोध कर रही है। कांग्रेस ने नरेंद्र मोदी सरकार निशाना साधने के लिए आज अपने तीन सबसे मजबूत नेता को उतार दिया। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, गुलाब नबी आजाद और आनंद शर्मा ने बीजेपी सरकार पर जमकर निशाना साधा। गहलोत ने तो ईडी पर आतंक फैलाने का आरोप लगा दिया। उन्होंने कहा कि ईडी के पास तो सीबीआई से ज्यादा पावर है। वहीं, आजाद ने कहा कि केस एक है, फैमिली एक है उसमें जब बेटे राहुल गांधी से घंटों पूछताछ कर ली तो उसी केस में सोनिया गांधी को फिर से बुलाने की क्या जरूरत है?

पीएमएलए पर सुप्रीम फैसला, स्वामी का कांग्रेस पर तंज
ईडी के पीएमएलए अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस पर तंज कसा है। स्वामी ने एक ट्वीट कर कहा कि PMLA पर सुप्रीम कोर्ट का जजमेंट पी चिदंबरम आदि के लिए ऐसा है कि चिकेन खुद तलने के लिए आ गया। ईडी को यूपीए सरकार दौरान शक्तिशाली बनाया गया था।

सीबीआई से ज्यादा ताकतवर हुई ईडी
कांग्रेस नेता और राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि ईडी को सीबीआई से ज्यादा पावर मिली हुई है। देश के अंदर ईडी का जो आतंक है। वो आतंक मचा रखा है। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में केस चल रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट में पीएमएलए को लेकर सैकड़ों केस हैं।

आतंक की स्थिति देश हित में नहीं है
गहलोत ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट से कहेंगे कि वह ईडी वाले केस पर जल्दी फैसला करे। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार कई मुद्दों पर फेल रही है। आर्थिक स्थिति खराब हो चुकी है। लेकिन इस सरकार को इससे कोई मतलब नहीं है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी से ईडी ने 50 घंटे से ज्यादा पूछताछ की है। सोनिया गांधी को आज फिर बुलाया है, पता नहीं वो कबतक बुलाएंगे।

एक बीमार नेता पर ऐसा प्रेशर क्यों?
आजाद ने कहा कि बीमार सोनिया गांधी को क्यों ईडी के प्रेशर झेलना पड़ रहा है। जवान लोग तो चलो ये प्रेशर झेल भी जाए लेकिन जो महिला बीमार है उसे भला बुलाकर क्या मिल रहा है। सोनिया गांधी से शेयर के बारे में पूछ रहे हैं। आपने राहुल गांधी से 5 बार पूछताछ की। ये काफी है। पहले जमाने में जंग होती थी, खुले मैदान में। उस दौरान औरत और बीमार पर हाथ नहीं उठाने की परंपरा रही थी। ये परंपरा हमारे युद्धों में रही थी। मैं सरकार और ईडी से निवेदन करूंगा कि इस चीज को जेहन में रखें और इस हालत में सोनिया गांधी को बार-बार ईडी के सामने बुलाना उचित नहीं है। इन बेचारी औरत को क्यों परेशान कर रहे हैं। डॉक्टर उनके साथ हैं। ये काफी सबूत हैं।

सोनिया से पूछताछ, कांग्रेस का सड़क पर हल्लाबोल
सोनिया गांधी से पूछताछ के विरोध में कांग्रेस सांसदों और कार्यकर्ताओं ने संसद से लेकर सड़क पर जमकर प्रदर्शन किया। मंगलवार को तो राहुल गांधी को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में भी लिया था।

About bheldn

Check Also

NDA कल करेगा लोकसभा स्पीकर पद के उम्मीदवार का ऐलान, 26 जून को होना है चुनाव

नई दिल्ली, संसद के निचले सदन लोकसभा  के नए अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर सियासी …