डीजल-पेट्रोल के दाम होंगे कम? ग्लोबल मार्केट में इतना सस्ता हुआ क्रूड

नई दिल्ली,

चौतरफा महंगाई की मार झेल रहे आम लोगों को आने वाले दिनों में डीजल-पेट्रोल की कीमतों से राहत मिलने की उम्मीद जगी है. दरअसल वैश्विक आर्थिक मंदी की आशंका के चलते ग्लोबल मार्केट में कच्चे तेल के भाव में तेज गिरावट देखने को मिल रही है. मंदी की आशंका के चलते क्रूड ऑयल की डिमांड पर असर हो रहा है. इस कारण सोमवार को कच्चे तेल का भाव गिरकर कई महीने के निचले स्तर पर आ गया.

कच्चे तेल के भाव में रिकॉर्ड गिरावट
रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, ब्रेंट क्रूड का फ्यूचर LCOc1 सोमवार को 74 सेंट यानी 0.80 फीसदी गिरकर 94.18 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. यह फरवरी 2022 के बाद कच्चे तेल का सबसे निचला स्तर है. पिछले सप्ताह कच्चे तेल के भाव में 2 साल से भी ज्यादा समय की सबसे बड़ी साप्ताहिक गिरावट दर्ज की गई थी. सिर्फ पिछले सप्ताह के दौरान कच्चा तेल 13.7 फीसदी सस्ता हो गया. इसी तरह वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड CLc1 आज 67 सेंट गिरकर 88.34 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. पिछले सप्ताह के दौरान इसके भाव में 9.7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई.

इन कारणों से कम हो रहे भाव
चीन ग्लोबल मार्केट में कच्चे तेल का सबसे बड़ा खरीदार है. चीन ने जुलाई महीने के दौरान हर रोज 8.79 मिलियन बैरल क्रूड ऑयल का आयात किया. यह जून महीने के चार महीने के निचले स्तर से भले ही बेहतर हो, लेकिन साल भर पहले की तुलना में यह 9.5 फीसदी कम है. चीन की रिफाइनरी कंपनियां कम मार्जिन के चलते आयात के बजाय भंडार का इस्तेमाल कर रही हैं, जिसका असर डिमांड पर देखने को मिल रहा है. चीन की जीरो कोविड पॉलिसी के चलते भी क्रूड ऑयल की डिमांड पर प्रतिकूल असर हुआ है.

ग्लोबल मार्केट में डिमांड अभी भी इतना कम
बदले हालात को देखते हुए ANZ ने साल 2022 और 2023 के लिए तेल की मांग के पूर्वानुमान को संशोधित किया है. अब ANZ को 2022 में 3 लाख बैरल और 2023 में 5 लाख बैरल प्रति दिन की डिमांड आने का अनुमान है. बैंक के अनुसार, 2022 में तेल की डिमांड में आंशिक सुधार की उम्मीद है, लेकिन इसके बाद भी यह महामारी से पहले के स्तर से नीचे ही रह जाने वाला है. दूसरी ओर इसका फायदा रूस को मिल रहा है. प्रतिबंधों के बाद भी रूस के कच्चे तेल को डिमांड मिल रही है.

2 महीने से नहीं बदले डीजल-पेट्रोल के भाव
भारत की बात करें तो करीब 2 महीने से डीजल-पेट्रोल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है. दिल्ली में अभी पेट्रोल की कीमत 96.72 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर है. इसी तरह मुंबई में पेट्रोल का भाव 106.35 रुपये, कोलकाता में 106.03 रुपये और चेन्नई में 102.63 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर है. डीजल की बात करें तो इसके भाव दिल्ली में 89.62 रुपये, मुंबई में 94.28 रुपये, कोलकाता में 92.76 रुपये और चेन्नई में 94.24 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर हैं. इन दो महीनों के दौरान क्रूड ऑयल के भाव में भारी गिरावट आई है. इस कारण उम्मीद बढ़ी है कि जल्दी ही घरेलू बाजार में डीजल-पेट्रोल के दाम संशोधित किए जा सकते हैं.

About bheldn

Check Also

धुआं-धुआं हुआ शंभू बॉर्डर, पुलिस ने किसानों पर दागे आंसू गैस के गोले, स्थिति तनावपूर्ण

चंडीगढ़ हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर किसानों के दिल्ली कूच की घोषणा के बाद तनाव …