जयंती चौहान, 37 साल की लड़की, जिसने पापा की 7 हजार करोड़ की बिसलरी छोड़ दी

अंबानी परिवार, अरबपति कारोबारी हिंदुजा ब्रदर्स के बीच संपत्ति को लेकर सालों तक चले विवाद आपको याद होंगे। कारोबारियों और उद्योगपतियों के परिवार में संपत्ति को लेकर विवाद नया नहीं है, लेकिन आज हम आपको ऐसी शख़्सियत से मिलवाने जा रहे हैं, जिन्होंने अपने पिता की 7000 करोड़ का संपत्ति को संभालने से इंकार कर दिया। बेटी ने पिता के कारोबार में रुचि नहीं दिखाई जिसके कारण 30 साल पुरानी कंपनी को बेचने का फैसला ले लिया गया। पैकेज्ड वॉटर कंपनी बिसलेरी के मालिक रमेश चौहान अपनी कंपनी को टाटा के हाथों बेचने जा रहे हैं। बिसलेरी बेचने के अपने फैसले से रमेश चौहान बेहद भावुक हैं। उन्होंने कहा कि उनके पास इस कंपनी को उस तरह से संभालने वाला कोई नहीं हैं, जिस तरह से उन्होंने अब तक संभाला है। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा कि उनकी बेटी जयंती चौहान इस कारोबार में कुछ खास दिलचस्पी नहीं रखती हैं, जिसके कारण उन्हें अपना कारोबार बेचना पड़ रहा है। आइए हम आपको उनकी बेटी जयंती चौहान के बारे में बताते हैं…..

​कौन हैं जयंती चौहान?
बिसलेरी के मालिक रमेश चौहान की इकलौती बेटी जयंती चौहान 37 साल की हैं। जयंती चौहान के लिंक्डइन प्रोफाइल पर मौजूद जानकारी के मुताबिक वो बिसलेरी इंटरनेशनल की वाइस चेयरपर्सन हैं। 24 साल की उम्र में ही उन्होंने पिता के इस कारोबार में अपनी जिम्मेदारियां संभाल ली थीं। उन्होंने बिसलेरी के दिल्ली ऑफिस और फिर बाद में साल 2011 में मुंबई ऑफिस की कमान संभाली। उनके नेतृत्व में ही कंपनी के दिल्ली ऑफिस की शुरुआत की गई। उन्होंने बिसलेरी को अंतरराष्ट्रीय ब्रांड बनाने में अहम भूमिका निभाई है। कंपनी के एड और मार्केटिंग की कमान जयंती संभालती हैं। कंपनी में ऑटोमेशन प्रोसेस की शुरुआत जयंती ने अपने नेतृत्व में करवाई है।

​ब्रांड को चमकाने में अहम रोल
जयंती बिसलेरी ब्रांड को चमकाने में अहम रोल निभा रही हैं। कंपनी के एड कैंपेन के अलावा प्रॉडक्ट डेवलपमेंट पर उनका फोकस रहता है। बिसलेरी के अलावा जयंती बिसलेरी मिनिरल वाटर, वेदिका नेचुरल मिनिरल वाटर, फिजी फ्रूट ड्रिंक और बिसलेरी हैंड प्यूरीफायर प्रोडक्ट्स के ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभाल रही हैं। वो मार्केटिंग के अलावा ब्रांड मैनेजमेंट और डिजिटल मार्केटिंग में खासी रुचि रखती हैं। कंपनी के विज्ञापण और कम्यूनिकेशन में वो सक्रिय रूप से शामिल हैं।

​फैशन डिजाइनर हैं जयंती
37 साल की जयंती का बचपन दिल्ली और मुंबई के अलावा न्यूयॉर्क में बीता है। उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली से की है, जिसके बाद वो फैशन डिजाइनिंग कोर्स के लिए लंदन चली गईं। उन्होंने लंदन कॉलेज ऑफ फैशन से फैशन डिजाइनिंग में ग्रेजुएशन की पढ़ाई की है। इसके अलावा Istituto Marangoni Milano से फैशन स्टाइलिंग का कोर्स किया है। उन्होंने लंदन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडी से अरबी की डिग्री हासिल की है। जयंती अभी लंदन में रहती हैं। बिसलेरी की वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, देशभर में कंपनी के 122 ऑपरेशनल प्लांट हैं जबकि 4,500 से अधिक डिस्ट्रीब्यूटर्स का नेटवर्क फैला है।

​क्यों नहीं लेना चाहतीं 7,000 करोड़ की कंपनी
बिसलेरी कंपनी को बेचने की खबर आते ही यह मीडिया की सुर्खियां बन गई। लोग जयंती के बारे में सर्च करने लगे। उन्होंने क्यों कंपनी की जिम्मेदारी लेने से इनकार किया, इस बारे में स्पष्ट तौर पर तो कुछ नहीं कहा गया है, लेकिन माना जा रहा है कि वो फैशन से जुड़े कारोबार पर फोकस करेंगी। वहीं अपने लिंक्डइन प्रोफाइल पर जयंती ने बस इतना लिखा है कि हर कहानी के दो पहलू होते हैं। उनके इस पोस्ट पर लोग रिएक्शन दे रहे हैं। लोग उनके कामों की तारीफ कर रहे हैं।

About bheldn

Check Also

‘राजस्थान में दलित युवक की पीट-पीटकर हत्या’, पूर्व CM गहलोत बोले- सरकार ‘इमेज मेकिंग में व्यस्त हैं…

झुंझुनूं राजस्थान के झुंझुनूं जिले में शराब माफियाओं की ओर से एक शख्स की पीट …