घंटे भर पहले मां की चिता को दी आग, पुत्र धर्म के बाद ‘राजधर्म’ निभाने में जुट गए मोदी

नई दिल्ली

चेहरे पर मां को खोने का गम। आंखों से झांकता दर्द। दोनों ओर लगे तिरंगे झंडे और बीच में बैठे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। मौका था पश्चिम बंगाल में 7800 करोड़ रुपये से ज्यादा की विकास परियोजनाओं के उद्घाटन और लोकार्पण का। पीएम मोदी को इस कार्यक्रम में जाना था लेकिन मां के निधन के बाद वह वहां जा नहीं पाए। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री, रेलवे और राज्य सरकार के अधिकारी भी वर्चुअल कार्यक्रम में जुड़े थे। अचानक ममता की आवाज से सन्नाटा टूटता है। वह पीएम मोदी की मां के निधन पर संवेदना जताते हुए कार्यक्रम जल्द खत्म करने की गुजारिश करती हैं। पीएम मोदी हावड़ा-जलपाईगुड़ी वंदेभारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करते हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल होने से महज घंटे भर पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधीनगर में अपनी मां को मुखाग्नि दी थी। श्मशान से निकलने के बाद पीएम पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों की तैयारी में लग गए। मां का निधन हुआ लेकिन प्रधानमंत्री ने कोई आधिकारिक कार्यक्रम रद्द नहीं किया। कपड़े भी नहीं बदले। बस सदरी उतारी और ममता दीदी के साथ वर्चुअल कार्यक्रम में जुड़ गए। पीएम मोदी जब कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे तो आवाज में लरज थी। जुबां थी कि लड़खड़ाने को बेताब थी लेकिन मोदी उसे बड़ी मुश्किल से संभालने की कोशिश करते दिख रहे थे। निजी दर्द पर फर्ज भारी था। मां के अंतिम संस्कार का ‘पुत्र धर्म’ निभाने के कुछ ही देर बाद ‘राजधर्म’ की बारी थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब गांधीनगर में अपनी मां की अंतिम संस्कार की तैयारियों में लगे थे तभी उन्होंने अपने चाहने वालों से अपील की थी कि अपने किसी काम को रोके नहीं, काम जारी रखना ही हीरा बा को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। न्यूज एंजेसी भाषा ने मोदी परिवार से जुड़े सूत्रों ने कहा, ‘हम इस कठिन समय में दुआओं के लिए आप सभी का शुक्रिया अदा करते हैं। सभी से विनम्र निवेदन है कि वे दिवंगत आत्मा को याद करते हुए अपने तय कार्यक्रम व प्रतिबद्धताओं को जारी रखें। यही सही मायने में हीरा बा को श्रद्धांजलि होगी।’ इस अपील पर प्रधानमंत्री मोदी ने खुद भी अमल किया और अपने पहले से तय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रवार पश्चिम बंगाल जाना था। वहां 7800 करोड़ रुपये से अधिक के प्रोजेक्ट का उद्घाटन और लोकार्पण करना था। शुक्रवार सुबह-सुबह जब हीरा बा के निधन की खबर आई तब ये सवाल उठने स्वाभाविक थे कि क्या पीएम मोदी अब बंगाल के कार्यक्रम में शामिल हो पाएंगे? कहीं कार्यक्रम टल तो नहीं जाएगा? लेकिन पीएमओ ने ट्वीट कर बताया कि पीएम पश्चिम बंगाल के अपने पूर्वनिर्धारित कार्यक्रमों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हिस्सा लेंगे। मां के अंतिम संस्कार के बाद पीएम वर्चुअल कार्यक्रम में शामिल हुए। पश्चिम बंगाल की पहली वंदेभारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। राष्ट्रीय गंगा परिषद की दूसरी बैठक की अध्यक्षता भी करने वाले हैं। इसके अलावा कोलकाता मेट्रो की पर्पल लाइन के जोका-तारातला खंड का उद्घाटन और रेलवे की अलग-अलग प्रोजेक्ट की आधारशिला और कुछ का लोकार्पण करने वाले हैं।

प्रधानमंत्री मोदी की मां हीराबेन का शुक्रवार को तड़के साढ़े 3 बजे अहमदाबाद में अस्पताल में निधन हो गया। वह 99 वर्ष की थीं। तबीयत खराब होने के बाद उन्हें बुधवार सुबह अहमदाबाद के ‘यू एन मेहता इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी ऐंड रिसर्च सेंटर’ में भर्ती कराया गया था। उस दिन भी पीएम मोदी मां को देखने अस्पताल भी गए थे लेकिन उसी दिन दिल्ली लौट आए थे।

About bheldn

Check Also

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद पर प्रहार, दो और संगठनों पर केंद्र सरकार ने लगाया बैन

नई दिल्ली, जम्मू-कश्मीर के दो और संगठन पर केंद्र सरकार ने बैन लगा दिया है. …