नम आंखों से मां को दी मुखाग्नि और कर्तव्य पथ पर वापस लौट गए PM मोदी

नई दिल्ली

पीएम नरेंद्र मोदी ने सुबह साढ़े 9 बजे अपनी मां हीराबेन मोदी के अंतिम दर्शन किए और अपने भाई के साथ मिलकर मां की चिता को मुखाग्नि दी। मां से बिछड़ने के दो घंटे बाद ही पीएम मोदी कर्तव्य पथ पर वापस लौट गए। पीएम मोदी सुबह 11.15 बजे पश्चिम बंगाल में वंदे भारत को हरी झंडी दिखाएंगे, इस दौरान पीएम मोदी कई अन्य कार्यक्रमों में भी शामिल होंगे। काम के प्रति पीएम मोदी की निष्ठा और समर्पण दर्शाता है कि पीएम मोदी अपनी मां के दिए संस्कारों के प्रति कितने संवेदशील है। पीएम मोदी ने अपने कई इंटरव्यू में इस बात का जिक्र किया है कि उनकी मां बहुत मेहनती थी और वह हमेशा काम के प्रति निष्ठावान रहने की सीख देती थी।

पीएम नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन का निधन आज सुबह तड़के अहमदाबाद के अस्पताल में हो गया। हीराबेन की उम्र 100 साल थीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन की बुधवार को अचानक खराब हो गई थी। मां के अंतिम दर्शन करने और मां को अंतिम विदाई देने के लिए पीएम मोदी आनन-फानन में अहमदाबाद पहुंचे। पीएम मोदी ने अपने भाई के साथ मिलकर अपनी मां को मुखाग्नि दी। अपनी मां से बिछड़ने के बावजूद पीएम मोदी ने अपने दिल पर पत्थर रखते हुए कर्तव्य पथ की ओर अपने कदम बढ़ाए हैं। पीएम मोदी ने अपने मां के दिए संस्कारों का पूरा निष्ठा के साथ निर्वहन किया। पीएम मोदी मां को मुखाग्नि देने के बाद तत्काल कर्तव्य पथ वापस लौट गए। पीएम मोदी शुक्रवार सुबह 11.15 बजे पश्चिम बंगाल में वंदे भारत को हरी झंडी दिखाएंगे। इससे पहले बुधवार को भी जब पीएम मोदी अपना मां की तबीयत खराब होने की जानकारी मिली थी, तब वह आनन-फानन में मां की तबीयत पहुंचने के लिए अहमदाबाद पहुंचे थे। जब डॉक्टर ने पीएम मोदी को जानकारी दी कि उनकी मां की तबियत अभी स्थिर है तो वह दिल्ली वापट लौट आए।

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, पीएम मोदी पश्चिम बंगाल में होने वाले कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल होंगे। नैशनल गंगा काउंसिल की बैठक के अलावा प्रमुख प्रोजेक्‍ट्स का लॉन्‍च होना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गांधीनगर के श्मशान घाट पर अपनी मां हीराबेन मोदी का अंतिम संस्कार करने के बाद वहां से रवाना हो गए हैं।

शुक्रवार सुबह तड़के मां हीराबेन का हुआ निधन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन मोदी का शुक्रवार सुबह 100 साल की उम्र में निधन हो गया। तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें अहमदाबाद के यूएन मेहता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यूएन मेहता इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी एंड रिसर्च सेंटर ने एक बयान में कहा, हीराबा मोदी का यूएन मेहता हार्ट अस्पताल में इलाज के दौरान 30 दिसंबर को तड़के 3.30 बजे (सुबह) निधन हो गया। मोदी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकांउट में भारी मन से लिखा, एक गौरवशाली शताब्दी ईश्वर के चरणों में टिकी है। मां में मैंने हमेशा उस त्रिमूर्ति को महसूस किया है, जिसमें एक तपस्वी की यात्रा, एक नि:स्वार्थ कर्मयोगी का प्रतीक और मूल्यों के प्रति समर्पित जीवन समाहित है। प्रधानमंत्री आखिरी बार अपनी मां हीराबेन से अहमदाबाद के सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में मिले थे, जहां उन्हें बुधवार को भर्ती कराया गया था।

About bheldn

Check Also

NEET पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से गदगद शिक्षा मंत्री प्रधान, बोले- छात्रों से माफी मांगे विपक्ष

नई दिल्ली, NEET-UG 2024 के असफल अभ्यर्थियों को बड़ा झटका देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने …