कच्चे तेल के गिर रहे भाव… फिर भी सस्ते नहीं हों रहे पेट्रोल और डीजल

नई दिल्ली,

पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर फिलहाल लोगों के राहत मिलने के आसार दिखाई नहीं दे रहे हैं. पेट्रोलियम कंपनियों का दावा है कि कच्चे तेल की कीमतों में हाल के महीनों में भारी गिरावट होने के बावजूद उन्हें अभी भी घरेलू बाजार में इसकी बिक्री पर घाटा हो रहा है. कंपनियों की मानें तो उन्हें डीजल पर 9 रुपये प्रति लीटर का नुकसान हो रहा है. इसकी भरपाई के लिए पेट्रोलियम मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय से 50 हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्त सब्सिडी मांगी है. पेट्रोलियम मंत्रालय ने ये रकम 2022-23 के लिए मांगी है.

महंगे Crude Oil से मुश्किल
Petrolium Ministry के डेटा के मुताबिक दिसंबर 2022 में भारतीय तेल कंपनियों ने 78.1 डॉलर प्रति बैरल के रेट पर क्रूड ऑयल को खरीदा है. जबकि नवंबर में 87.55 डॉलर, अक्टूबर में 91.7 डॉलर, सितंबर में 90.71 डॉलर, अगस्त में 97.4 डॉलर, जुलाई में 105.49 डॉलर, जून में 116.01 डॉलर, मई में 109.51 डॉलर और अप्रैल 2022 में 102.97 डॉलर प्रति बैरल की दर पर कच्चे तेल की खरीद की गई थी.

6 अप्रैल 2022 से पेट्रोल-डीजल स्थिर
तेल कंपनियों ने आखिरी बार पेट्रोल-डीजल के दाम में 6 अप्रैल को इजाफा किया था. इसके बाद से करीब 9 महीनों में एक बार भी तेल कंपनियों  ने इनकी कीमतों में इजाफा नहीं किया है. ऐसे में जुलाई तक तो वाकई तेल कंपनियों को कच्चे तेल की कीमतों पर घाटा होता नजर आ रहा है. लेकिन अगस्त 2022 के बाद से भारत ने अप्रैल 2022 के मुकाबले सस्ते दर पर क्रूड की खरीदारी की है.

केवल पेट्रोल पर हो रहा है मुनाफा
तेल कंपनियों के मुताबिक पिछले दो महीनों से भारत में पेट्रोल की बिक्री में मुनाफा हो रहा है. लेकिन डीजल पर अभी भी नौ रुपये प्रति लीटर का घाटा हो रहा है. 2022-23 के दौरान तेल कंपनियों को लागत से कम कीमत पर पेट्रोल और डीजल बेचने से 1.50 लाख करोड़ रुपये की अंडररिकवरी होने की आशंका है. इसकी भरपाई के लिए ही सरकार से सब्सिडी की मांग की जा रही है. सरकार ने नवंबर 2022 में इन कंपनियों को LPG की बिक्री पर हुए नुकसान की भरपाई के लिए 22 हजार करोड़ रुपये की सब्सिडी दी थी.

विंडफॉल टैक्स में बढ़ोतरी
हाल के दिनों में अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रो उत्पादों की कीमतों में हुए इजाफे के कारण विंडफॉल टैक्स में बढ़ोतरी की गई है. सरकार ने घरेलू पेट्रो उत्पादों की इंटरनेशनल मार्केट में बिक्री पर मिलने वाले ज्यादा मुनाफे के चलते ये टैक्स बढ़ाया है. क्रूड पर विंडफॉल टैक्स की नई दर 1700 रुपये प्रति टन से बढ़ा कर 2100 रुपये प्रति टन कर दी गई है. डीजल एक्सपोर्ट पर विंडफॉल टैक्स को 5 रुपये से बढ़ा कर 6.5 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है. ATF निर्यात पर टैक्स की दर 1.5 रुपये प्रति लीटर से बढ़ा कर 4.5 रुपये प्रति लीटर कर दी गई है.

About bheldn

Check Also

मंदिरों को तोड़ता था औरंगजेब… मीरा रोड पर रैली में गरजे राजा सिंह, गीता जैन ने फिर दोहराया विवादित बयान

मुंबई मुंबई से सटे मीरा रोड में तेलंगाना बीजेपी के विधायक टी राजा सिंह ने …