अडानी का एक बार भी जिक्र नहीं, मोदी ने लाभार्थियों के सहारे किया राहुल पर वार

आज यानी बुधवार को सुबह से इंतजार था। राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यावद प्रस्ताव पर जो बहस हुई, राहुल गांधी ने जो सवाल उठाए, उसका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किस तरह जवाब देते हैं। शाम लगभग चार बजे ये मौका आ ही गया। अधीर रंजन चौधरी के लंबे चौड़े भाषण के बाद जब पीएम उठे तो कांग्रेस ने इसका बॉयकॉट का फैसला किया। शायद शशि थरूर बैठे रहे। ये बड़ी खबर लगती है। क्योंकि भाषण के दौरान एक समय पीएम मोदी ने उन्हें थैंक्यू कहा। मोदी ने लगभग सवा घंटे के जवाब में तीखे बाण चलाए। हार्वर्ड का खूब जिक्र किया। तीक्ष्ण तंज के साथ। दरअसल राहुल गांधी ने कहा था कि हार्वर्ड यूनिवर्सिटी को इस पर रिसर्च करना चाहिए कि अडानी की संपत्ति पिछले नौ साल में इतनी कैसे बढ़ गई। राहुल ने हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद अडानी पर उठे सवालों को ही हथियार बनाया। उन्होंने मोदी से सीधे-सीधे कई सवाल पूछे – कितनी बार मोदी के साथ अडानी विदेश गए, कितनी बार उनके जाने के बाद गए और हर बार कहां-कहां से अडानी के ठेके मिले। राहुल ने बांग्लादेश के साथ अडानी के पॉवर डील और इजरायल के साथ डिफेंस डील का भी जिक्र किया। हालांकि राहुल के भाषण के कई हिस्से लोकसभा के रेकॉर्ड से बाहर कर दिए गए हैं। लेकिन नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में एक बार भी गौतम अडानी का जिक्र नहीं किया। मोदी का पूरा फोकस सरकार की उन योजनाओं पर रहा जिसका फायदा सीधे आम लोगों को मिला है। मोदी ने अडानी का जिक्र किए बिना अपने ऊपर लगे आरोपों को झूठ का पुलिंदा बताया।

संसद में PM मोदी का कांग्रेस पर अटैक
नरेंद्र मोदी ने राहुल का नाम लिए बिना तंज कसा – बहुत दिनों से इंतजार कर रहा था, कोई तो आलोचना ठीक से करेगा। कोई तो तैयारी करके आएगा। लेकिन नौ साल गंवा दिए। इसके बाद उन्होंने एक के बाद एक कई आंकड़े गिनाए। उनक आंकड़ों के सहारे राहुल के घेरने की कोशिश की। पहले इन आंकड़ों पर नजर डाल लें जिसका जिक्र प्रधानमंत्री ने किया।

  • 9 करोड़ लोगों को मुफ्त गैसे कनेक्शन
  • 11 करोड़ बहनों को इज्जत घर
  • 80 करोड़ को मुफ्त राशन
  • 8 करोड़ परिवारों को नल से जल
  • 2 करोड़ परिवारों को आयुष्मान योजना
  • 9 करोड़ बहनों को स्वयं सहायता समूह से जोड़ा है

इन आंकड़ों को बताते समय पीएम ने लभार्थियों को ही अपना हथियार बना लिया। वो कहते हैं – वो माताएं तुम्हारी गालियों को कैसे स्वीकार करेगी। तुम्हारे झूठ को कैसे बर्दाश्त करेगी। मुसीबत के समय मोदी काम आया है। जनता का आशीर्वाद मेरा सुरक्षा कवच है। झूठ के शस्त्रों से इसे भेदा नहीं जा सकता। समाज के वंचित वर्ग को वरीयता के संकल्प के साथ हम जी रहे हैं। दलितों-आदिवासियों के लिए काम कर रहे हैं। 2014 के बाद गरीब कल्याण योजनाओं का सर्वाधिक लाभ इन्हीं परिवारों को मिला है। इनके घरों में पहली बार बिजली पहुंची है। नल से जल मिला है। पहली बार लाखों परिवार पक्के घरों में गए हैं। जहां बिजली-पानी नहीं वहां 4जी कनेक्टिविटी पहुंची है। आज गर्व है कि एक दलित महिला राष्ट्रपति बनी हैं। हमने उन्हें उनका हक दिया है।

एक तरीके से नरेंद्र मोदी ने दलितों और वंचितों का जिक्र करते हुए सबको साधने की कोशिश की। और इस प्रयास में मध्य वर्ग को भी फोकस में रखा। उन्होंने कहा – हमारी सरकार ने मध्य वर्ग का खयाल रखा है। पहले इसे नकार दिया गया था। 2014 से पहले जीबी डेटा 250 रुपए थी, आज सिर्फ 10 रुपया। हमारे देश में एक नागरिक 20 जीबी का उपयोग करता है। इस हिसाब से एक आदमी का 5 हजार रुपए बचता है। जन औषधि स्टोर से 20 हजार करोड़ रुपए बच रहा है। हर मध्यवर्ग के परिवार का सपना है कि घर बने। रेरा कानून बनाकर हमनें उन्हें मजबूती दी है। मेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या बढ़ाकर मध्यमवर्गीय बच्चों को ज्यादा मौके दिए हैं।

70 साल में 70 एयरपोर्ट। नौ साल में 70 एयरपोर्ट। हम आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। जीएसटी को इन लोगों ने क्या-क्या कह दिया था। एचएएल को गाली दी गई। आज हम एशिया में हेलिकॉप्टर बनाने वाला सबसे बड़ा हब बन चुका है। हम डिफेंस एक्सपोर्टर हो गए हैं। समय सिद्ध कर रहा है। जो कभी यहां बैठते थे वो वहां जाने के बाद भी फेल हो रहे हैं। मैंने भी लाल चौक पर तिरंगा फहराया था। तब आतंकियों ने पोस्टर लगाया था – देखते हैं किसने अपनी मां का दूध पाया है। मैंने जम्मू की भरी सभा में कहा था – आतंकवादी कान खोल कर सुन लें। 26 जनवरी को ठीक 11 बजे मैं लालचौक पहुंचूंगा। फैसला लालचौक पर होगा कि किसने अपनी मां का दूध पीया है। आज तो शांति आई है। सैंकड़ों की तादाद में जा सकते हैं। मुझे खुशी है आज वहां थिएटर हाउस फुल चल रहे हैं। त्रिपुरा में तेज गति से विकास हो रहा है।

कुल मिलाकर पूर्वोत्तर के चुनाव से लेकर जम्मू-कश्मीर तक का जिक्र मोदी ने किया। ये भी बता दिया कि लाल चौक से अगर राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा समाप्त किया तो ये किसकी देन है। पर महंगाई, बेरोजगारी और अडानी के ज्वलंत मुद्दे को उन्होंने इग्नोर कर दिया

About bheldn

Check Also

पुणे सड़क हादसे का नया CCTV आया सामने, नशे में नाबालिग ने ली दो इंजीनियरों की जान

पुणे, महाराष्ट्र के पुणे सड़क हादसे का वीडियो सामने आया है. जिसमें दिख रहा है …