पूजा सामग्री यमुना नदी में न डाल सकें दिल्लीवाले, इसके लिए दो यमुना ब्रिज पर इंतज़ाम

नई दिल्ली

यमुना नदी में कोई पूजा सामग्री न डाल सके, इसके लिए दो यमुना ब्रिज पर खास व्यवस्था की गई है। आईएसबीटी यमुना ब्रिज और गीता कॉलोनी यमुना ब्रिज पर जगह-जगह पूजा सामग्री डालने के लिए कलेक्शन पॉइंट बनाए गए है। इतना ही नहीं, दोनों यमुना ब्रिज पर पूजा की सामग्री यमुना नदी में डालने के लिए यहां लगे लोहे के जाल को काटकर जगह बनाई गई थी। अब उस जगह की भी मरम्मत करा दी गई है। दोनों फ्लाईओवर पर इसका असर भी देखने को मिल रहा है।

दोनों नवरात्र पर्व के दौरान भारी मात्रा में पूजा सामग्री यमुना नदी में डाले जाते हैं। इतना ही नहीं, घरों में चलने वाली दैनिक पूजा की सामग्री के अवशेष भी यमुना नदी में डाले जाते हैं। इस कारण यमुना नदी दिनोंदिन दूषित होती जा रही है। हालांकि पूजा सामग्री यमुना नदी में न डाली जाए, इसके लिए कई साल पहले आईएसबीटी यमुना ब्रिज और गीता कॉलोनी यमुना ब्रिज पर लोहे के जाल लगाए गए थे, लेकिन जाल को जगह-जगह से काटकर पूजा सामग्री डालने की जगह बना दी गई।

पिछले कुछ समय से यमुना नदी की सफाई का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए जहां एक तरफ यमुना नदी के अंदर से गंदगी निकाली जा रही है, वहीं दूसरी तरफ यमुना ब्रिज से कोई पूजा की सामग्री आदि यमुना नदी में न फेंक सके, इसका भी पूरा बंदोबस्त किया गया है। इस अभियान से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि यहां कलेक्ट होने वाली पूजा सामग्री को अलग-अलग जगहों पर रिसाइकल के लिए भेजा जाता है।

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …