स्वाति मालीवाल मामले पर क्या है कन्हैया कुमार की राय? बोले- राजनीति में शुचिता जरूरी

नई दिल्ली

लोकसभा चुनाव के बीच स्वाति मालीवाल मामले ने आम आदमी पार्टी की मुश्किलें बढ़ाई हुई हैं। स्वाती मालीवाल मामले पर अलग-अलग बयानों की वजह से आम आदमी पार्टी सवालों के घेरे में है। मालीवाल के आरोपों के तुरंत बाद पहले जहां संजय सिंह ने बिभव कुमार के खिलाफ बयान दिया था लेकिन बाद में आतिशी व अन्य आप नेता केजरीवाल के पीए के पक्ष में आ गए।

कांग्रेस के किसी भी बड़े नेता ने स्वाति मालीवाल मामले पर अभी तक खुलकर कुछ भी नहीं कहा है। द लल्लनटॉप ने अपने एक इंटरव्यू में जब स्वाति मालीवाल को लेकर उत्तर पूर्वी दिल्ली से कांग्रेस के कन्हैया कुमार से सवाल किया तो वो भी इस मामले से कन्नी काटते नजर आए।

कन्हैया कुमार ने इस मामले से जुड़े सवाल के जवाब में कहा कि चुनाव प्रचार में व्यस्ता की वजह से वो इस घटनाक्रम को फॉलो नहीं कर पाए हैं। उन्होंने कहा कि राजनीति में ईमानदारी और सुचिता बहुत जरूरी है।

स्वाति मालीवाल मामले को लेकर किए गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, “मैं चुनाव में इन दिनों व्यस्त हूं… मैं बिलकुल देश में जो घटनाएं हो रही हैं, उन्हें फॉलो नहीं कर पा रहा हूं। मुझसे लोगों ने प्रज्वल रेवन्ना पर भी सवाल किया लेकिन मुझे नहीं पता। आप पिछले एक महीने का भाषण देखेंगे तो पाएंगे कि हमने कहीं भी प्रज्वल रेवन्ना का नाम नहीं लिया..”

उन्होंने आगे कहा, “क्या होता है कि जब आप कम व्यस्त हों तो आप चीजों को फॉलो करते हैं। मैं किसी सवाल से बचता नहीं हूं लेकिन ये भी है कि जब मुझे नहीं मालूम हो तो मैं कहता हूं कि नहीं मालूम। झूठ बोलने से अच्छा है, कह देना- नहीं मालूम। मैंने वास्तव में फॉलो नहीं किया है कि क्या घटनाक्रम हो रहे हैं।”

‘राजनीति में शुचिता जरूरी’
कन्हैया कुमार ने आगे कहा, “एक बात मैं आपको कह देता हूं… राजनीति में ईमानदारी और शुचिता बहुत जरूरी चीज है। अगर मैं भी गलत कर रहा हूं तो मुझे हाथ जोड़ करके गलती स्वीकार कर लेनी चाहिए। इसमें कोई दो राय नहीं है…गठबंधन के जो हमारे साथी हैं, उसमें भी जो अगर बुनियादी मूल्य के विरोध में कोई चीज होगी तो उसके खिलाफ बोलने में हम लोग हिचकेंगे नहीं। लेकिन मुझे बिलकुल सच में मालूम नहीं है कि क्या घटनाक्रम है।”

About bheldn

Check Also

तो क्या सच में मोदी सरकार पर है खतरा, NDA पर राहुल गांधी के इस दावे से मच रही सनसनी

नई दिल्ली एक दशक में ही केंद्र में एक पार्टी की बहुमत वाली सरकार का …