लोकसभा में नेता विपक्ष की जिम्मेदारी क्या नहीं संभालेंगे राहुल, चर्चा में ये दूसरे नाम

नई दिल्ली

वायनाड या रायबरेली… कौन सी सीट छोडेंगे राहुल गांधी, इसका फैसला तो आज हो गया लेकिन लोकसभा में नेता विपक्ष कौन होगा यह अब भी सवाल बना हुआ है। कांग्रेस के भीतर राहुल गांधी से इस पद को संभालने की बात कही जा रही है लेकिन इस पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है। सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी फिलहाल इसके लिए तैयार नहीं हैं और इसके बाद कुछ नए नामों पर चर्चा शुरू हो गई है। लोकसभा का भी सत्र शुरू होने वाला है। इस बीच लोकसभा में विपक्ष के किन-किन नेताओं के नाम चल रहे हैं, आइए बताते हैं।

किन नेताओं का चल रहा नाम?
कांग्रेस के सूत्रों के मुताबिक, लोकसभा स्पीकर के पद के लिए पार्टी के तीन सीनियर नेताओं के नाम पर विचार किया जा रहा है। ये तीन नेता कुमारी शैलजा, गौरव गोगोई और मनीष तिवारी हैं। एक दशक बाद लोकसभा में विपक्ष का नेता होगा। इस बार चुनावों में विपक्ष ने शानदार प्रदर्शन किया है। कांग्रेस ने 232 सीटों में से 99 सीटें जीती हैं, और विपक्षी दलों में सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते, उम्मीद की जा रही है कि यह विपक्ष के नेता का नाम तय करेगी।

राहुल गांधी के नेता प्रतिपक्ष बनने से होता पार्टी को फायदा
बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 52 तो 2014 के चुनावों में 44 सीटें जीती थीं। इस बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की सफलता का मुख्य कारण राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को माना जा रहा है। कांग्रेस के इतने अच्छे प्रदर्शन के बाद माना जा रहा था कि राहुल गांधी लोकसभा में विपक्ष के नेता बनेंगे। अगर वो इसे स्वीकार करते तो, उन्हें I.N.D.I.A गठबंधन के सहयोगियों के साथ बेहतर समन्वय करने में मदद मिलती और कांग्रेस को लोकसभा में बीजेपी के खिलाफ विपक्ष का नेतृत्व करके एक मजबूत चेहरा दिखाने में मदद मिलती। राहुल गांधी ने 2019 में हार के बाद पार्टी अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया था। वहीं सूत्रों का कहना है कि वो नेता प्रतिपक्ष के पद को लेने के इच्छुक नहीं हैं। 2019 से उन्होंने कोई पद नहीं लिया है।

कौन हैं कुमारी शैलजा?
कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष के रूप में पहला नाम कुमारी शैलजा का चल रहा है। कुमारी शैलजा कांग्रेस की सीनियर नेताओं में शामिल हैं। उन्होंने लोकसभा चुनाव में हरियाणा की सिरसा सीट से ढाई लाख से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की है। कुमारी शैलजा कई बार लोकसभा सदस्य रह चुकी हैं। उन्होंने हरियाणा की विभिन्न सीटों से चुनाव जीते हैं और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का प्रतिनिधित्व किया है। कांग्रेस सरकार के वक्त उन्होंने केंद्र सरकार में कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों में मंत्री के रूप में कार्य किया है।

गौरव गोगोई
कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई का नाम भी नेता प्रतिपक्ष की लिस्ट में चल रहा है। वो असम की जोरहाट सीट से सांसद हैं। वे असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के बेटे हैं। वो संसद में मुखर होकर अपनी बात रखने के जाने जाते रहे हैं। गौरव गोगोई कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय स्तर पर युवा नेताओं में से एक माने जाते हैं। वे पार्टी की नीतियों और कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने में सक्रिय रहे हैं और पार्टी के प्रवक्ता के रूप में भी कार्य करते हैं। गौरव गोगोई को नेता प्रतिपक्ष बनाकर कांग्रेस युवाओं के बीच संदेश दे सकती है।

मनीष तिवारी
मनीष तिवारी कांग्रेस के सीनियर नेताओं में शामिल हैं। उन्होंने लोकसभा चुनावों में चंडीगढ़ सीट से जीत हासिल की है। वे 2009 में पहली बार पंजाब के लुधियाना निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुने गए। वे 2014 में चुनाव हार गए थे, लेकिन 2019 में आनंदपुर साहिब से लोकसभा के लिए चुने गए। मनीष तिवारी 2012 से 2014 तक सूचना और प्रसारण मंत्री के रूप में सेवा कर चुके हैं। वे कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता भी रह चुके हैं और पार्टी की नीतियों और विचारों को मीडिया और जनता तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे हैं।

About bheldn

Check Also

PM मोदी ने 24 घंटे पहले ही बता दिया, कैसा होगा कल का बजट, जानें कहां रहेगा फोकस?

नई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली मोदी 3.0 का पहला बजट कल 23 …