देश में मंकीपॉक्स वायरस की दस्तक कितना खतरनाक, एम्स डॉक्टर से जानिए हर जरूरी बात

नई दिल्ली

दुनियाभर के 50 से अधिक देशों में फैल रहे खतरनाक वायरस मंकीपॉक्स ने भारत में भी दस्तक दे दी है। यूएई से लौटे केरल के एक शख्स में इसके संक्रमण की पुष्टि हुई है। वायरस को फैलने से रोकने और संदिग्ध मामलों की जल्द से जल्द पहचान के लिए केंद्र सभी राज्यों के लिए गाइडलाइंस भेज चुका है। कोरोना वायरस महामारी के बीच मंकीपॉक्स वायरस की दस्तक चिंता बढ़ाने वाली है। आखिर इसके लक्षण क्या है, कैसे फैलता है, कितना खतरनाक है, ऐसे तमाम सवाल जेहन में उठ रहे हैं। हालांकि, दिल्ली एम्स के मेडिसिन डिपार्टमेंट के अडिशनल प्रफेसर पीयूष रंजन के मुताबिक चिंता जैसी कोई बात नहीं है।

एम्स के डॉक्टर ने बताए मंकीपॉक्स के लक्षण
रंजन ने बताया कि मंकीपॉक्स के लक्षण स्मॉलपॉक्स यानी चेचक के जैसे ही हैं। शुरु में मरीज को बुखार होगा, गिल्टियां उभरेंगी। 1 से 5 दिनों के बाद मरीज के चेहरे, हथेलियों और तलवों में चकत्ते उभर सकते हैं। पीयूष राज ने बताया कि मंकीपॉक्स से व्यक्ति अंधेपन का शिकार भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि अगर कॉर्निया पर भी चकत्ते निकल आए तो आंखों की रोशनी जा सकती है।

कैसे फैलता है मंकीपॉक्स?
एम्स के डॉक्टर पीयूष रंजन ने बताया कि मंकीपॉक्स वायरस जानवर से इंसानों में फैलता है या फिर किसी संक्रमित व्यक्ति के पास काफी देर तक आमने-सामने रहने से ये फैलता है।

भारत के लिए कितने टेंशन की बात?
एम्स डॉक्टर ने बताया कि मंकीपॉक्स वायरस की दस्तक से घबराने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने बताया कि ये वायरस बहुत ज्यादा संक्रामक नहीं हैं। हालांकि, बच्चों में इसका संक्रमण कोरोना वायरस के मुकाबले ज्यादा घातक साबित हो सकता है।

यूएई से लौटे केरल के व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि
एक दिन पहले ही गुरुवार को भारत में मंकीपॉक्स संक्रमण के पहले मामले की पुष्टि हुई। यूएई से लौटे केरल के एक 35 साल के व्यक्ति में मंकीपॉक्स के लक्षण दिखने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसे तेज बुखार था और शरीर पर छाले और चकत्ते दिख रहे थे। व्यक्ति के नमूने को जांच के लिए पुणे वायरॉलजी इंस्टिट्यूट भेजा गया था जिसमें मंकीपॉक्स संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद तो दिल्ली से लेकर केरल तक स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया। केंद्र ने तुरंत केरल के लिए एक डॉक्टरों और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की एक टीम रवाना कर दी।

केरल में बढ़ाई गई सतर्कता, 5 जिलों में स्पेशल अलर्ट
केरल सरकार ने मंकीपॉक्स वायरस को फैलने से रोकने के लिए शुक्रवार को पांच जिलों में विशेष अलर्ट जारी किया। एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करने के बाद, राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने कहा कि पांच जिलों- तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पथनमथिट्टा, अलप्पुझा और कोट्टायम में विशेष अलर्ट जारी किया गया है क्योंकि इन जिलों के लोगों ने संक्रमित व्यक्ति के साथ शारजाह-तिरुवनंतपुरम इंडिगो उड़ान में यात्रा की थी जो यहां 12 जुलाई को पहुंची थी। मंत्री ने कहा कि विमान में 164 यात्री और उड़ान दल के 6 सदस्य मौजूद थे।

मरीज के संपर्क में आने वाले 11 लोगों में संक्रमण का जोखिम ज्यादा
उन्होंने कहा कि इन सभी जिलों में क्वारंटीन सेंटर बनाए जाएंगे। मंत्री ने कहा कि संक्रमित व्यक्ति के बगल की सीटों पर बैठने वाले 11 लोग उच्च जोखिम संपर्क सूची में हैं। इसके अलावा मरीज के माता-पिता, एक ऑटो चालक, एक टैक्सी चालक और एक निजी अस्पताल के त्वचा रोग विशेषज्ञ प्रमुख संपर्क सूची में हैं।

अबतक दुनियाभर के 60 देशों में मंकीपॉक्स के 6000+ मामले
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, इस साल की शुरुआत से लेकर अबतक दुनियाभर के 60 देशों में मंकीपॉक्स संक्रमण के 6000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। सबसे ज्यादा मामले यूरोप और अमेरिका में सामने आ रहे हैं। अमेरिका के 43 राज्यों में अबतक 1000 से ज्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है।

About bheldn

Check Also

यूपी में ED का अब तक का सबसे बड़ा ऐक्शन, पूर्व BSP एमएलसी इकबाल की 4400 करोड़ की संपत्ति अटैच

लखनऊ: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने यूपी में सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए पूर्व बीएसपी एमएलसी …