20 साल से फरार सपा नेता का हत्‍यारा अरेस्‍ट, राइफल, बम से हमला करके ली थी जान…

प्रयागराज

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में समाजवादी पार्टी के नेता शिवसागर सिंह की सनसनीखेज हत्या के मामले में अहम आरोपी और एक लाख रुपये के इनामी गिरीश मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है। करीब दो दशक से फरार चल रहे गिरीश को पुलिस ने मध्‍य प्रदेश से अरेस्‍ट किया है। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों के मुताबिक बिहार से महाराष्ट्र तक अपना ठिकाना बदलते रहने के बाद आरोपी गिरीश ने अंतत: मध्य प्रदेश के सीहोर में बसने का फैसला किया। उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) ने 15 जुलाई को उसे सीहोर से गिरफ्तार कर लिया।

एसयूवी पर बम हमला किया था
समाजवादी पार्टी के नेता शिवसागर सिंह की हत्या वर्ष 2005 में उनकी एसयूवी पर बम हमला करके की गई थी। इसके बाद गिरीश उत्तर प्रदेश से फरार हो गया। पुलिस उपाधीक्षक (प्रयागराज एसटीएफ) नवेंदु कुमार ने बताया कि गिरीश ने अपना नाम और रूप बदल लिया, ताकि उत्तर प्रदेश की पुलिस से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसे गिरफ्तार करने के लिए एक लाख रुपये इनाम की घोषणा की थी।

बदल ली थी पहचान
कुमार ने कहा, ‘गिरीश ने अभी पिछले ही महीने अपनी बदली हुई पहचान के साथ सीहोर में एक नई व्यावसायिक योजना शुरू की थी। गिरीश 27 फरवरी, 2005 को हत्या के मामले में अपने खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के बाद से कभी कौशाम्बी नहीं गया था।’’

गिरीश के पिता की हुई थी हत्‍या
अधिकारी ने कहा कि गिरीश के पिता सियालाल मिश्रा की वर्ष 1994 में शिवसागर सिंह के लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी, जिसके बाद उसने 15 साल की उम्र में हत्या का बदला लेने का प्रण लिया था। सियालाल की हत्या के मामले में प्राथमिकी वर्ष 1999 में दर्ज की गई थी। गिरीश ने सिंह के निजी अंगरक्षक और उनके चचेरे भाई की हत्या कर दी, इन दोनों पर उसके पिता की छाती पर गोली बरसाने का आरोप था।

साल 2005 में जमानत पर रिहा हुआ था
कुमार ने कहा कि इस हत्या के मामले में गिरीश को थोड़े दिन बाद ही गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया। उन्होंने कहा कि जेल में रहते हुए गिरीश को पता चला कि उसके बड़े भाई और एक चचेरे भाई की एक सड़क हादसे में तब मौत हो गई, जब वे उसके पिता की हत्या के मामले में सुनवाई के लिए प्रयागराज जा रहे थे। उन्होंने बताया कि गिरीश वर्ष 2005 में जमानत पर रिहा हुआ और उसने शिवसागर को फिर से निशाना बनाना शुरू कर दिया, जिनका राजनीतिक प्रभाव इस दौरान बहुत बढ़ गया था।

राइफल और बमों से किया था हमला
पुलिस के अधिकारी ने बताया कि 27 फरवरी, 2005 को जब शिवसागर सिंह अपनी कार से अपने सहयोगियों के साथ एक निजी समारोह से लौट रहे थे, तो कौशांबी के सिराथू स्थित रेलवे क्रॉसिंग पर गिरीश और उसके चचेरे भाई रुद्र ने उन पर राइफल और बम से हमला कर दिया।उन्होंने कहा हमले में आई गंभीर चोट के कारण सिंह की मौत हो गई, जिसकी उत्तर प्रदेश में कड़ी राजनीतिक प्रतिक्रिया हुई। अधिकारी ने कहा कि इसके बाद गिरीश और रुद्र राज्य से भाग गए, लेकिन रुद्र अब भी फरार है और उसे गिरफ्तार करने के प्रयास जारी हैं।

गिरीश के पिता और शिवसागर सिंह के थे अच्‍छे मित्र
अधिकारी ने बताया कि सियालाल मिश्र और शिवसागर सिंह संपन्न परिवार से थे और उनके बीच अच्छे संबंध थे, इसलिए दोनों ने साझेदारी में एक स्कूल खोलने का फैसला किया, लेकिन स्कूल की कमाई के बंटवारे को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया।

दोनों पक्षों से अब तक पांच लोगों की मौत हो चुकी
इसके बाद एक दिन शिवसागर सिंह अपने अंगरक्षक रामलोचन और अन्य के साथ अपने खेत में मौजूद सियालाल के पास पहुंचे। वहां, दोनों में विवाद होने पर रामलोचन ने सियालाल को गोली मार दी। गिरीश अपने पिता को अस्पताल ले जा रहा था, लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। पुलिस उपाधीक्षक कुमार ने कहा कि दोनों पक्षों से अब तक पांच लोगों की हत्या हो चुकी है।

About bheldn

Check Also

अहमदाबाद की एक फैक्ट्री में ब्लास्ट, मालिक समेत दो की मौत, चार अन्य घायल

अहमदाबाद: गुजरात के अहमदाबाद के ओढव इंडस्ट्रियल इलाके में एक दर्दनाक हादसा सामने आया है। …