जी-23 का गुट अपना हित साधने के लिए है या पार्टी के हित के लिए? बघेल ने गुलाम नबी पर लगाया बड़ा आरोप

रायपुर

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके गुलाम नबी आजाद पर बड़ा आरोप लगाया है। बघेल ने कहा है कि गुलाम नबी कांग्रेस पर हमले कर रहे हैं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक शब्द नहीं बोल रहे। ऐसा इसलिए क्योंकि वे बीजेपी का कर्ज चुका रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस छोड़ने वाले नेताओं की कोई हैसियत नहीं है। एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में बोलते हुए बघेल ने बीजेपी पर भी जोरदार हमले किए।

बघेल ने कहा कि गुलाम नबी आजाद केंद्र सरकार की मदद कर रहे हैं। उन्होंने सवाल किया कि धारा 370 खत्म होने के बाद जम्मू कश्मीर के सभी बड़े नेताओं को नजरबंद किया गया। गुलाम नबी आजाद भी पूर्व मुख्यमंत्री हैं। उन्हें क्यों नहीं नजरबंद किया गया। वे इसी का कर्ज चुका रहे हैं। इसीलिए वे कांग्रेस की आलोचना कर रहे, लेकिन पीएम मोदी के खिलाफ उनकी जुबान नहीं खुल रही। आजाद के नई पार्टी बनाने के सवाल पर बघेल ने कहा कि उन्हें पहले ये तय करना होगा कि वे किससे लड़ेंगे।

राहुल का किया बचाव
बघेल ने राहुल गांधी का भरपूर बचाव किया। उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की जिम्मेदारी लेते हुए राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया था। सोनिया कार्यकारी अध्यक्ष बनीं और नए अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हुई। इसी बीच कोरोना आ गया। तब गुलाम नबी आजाद ने ही कहा था कि सोनिया को अध्यक्ष बने रहना चाहिए। उन्होंने इससे भी इनकार किया कि राहुल पार्टी के नेताओं से नहीं मिलते हैं।

2024 के लिए राहुल की वकालत
बघेल ने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की कमान राहुल गांधी के हाथों में होनी चाहिए। इसकी वजह गिनाते हुए उन्होंने कहा कि राहुल पिछले वर्षों में पूरे देश में घूमे हैं। उनका लोगों से जुड़ाव है। केंद्र सरकार से लड़ते हुए भी वे अकेले दिखाई दे रहे हैं।

बीजेपी को केवल कांग्रेस से खतरा
बघेल ने कहा कि कांग्रेस मुक्त भारत केवल एक नारा है। यह कभी सच साबित नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि बीजेपी को केवल कांग्रेस से खतरा है। इसलिए दिल्ली में बैठे बीजेपी के बड़े नेता कांग्रेस को तोड़ने की कोशिश में लगे रहते हैं।

मैं पार्टी अध्यक्ष बनने के योग्य नहीं
बघेल ने खुद को कांग्रेस का राष्ट्राय अध्यक्ष बनने की संभावना को पूरी तरह खारिज कर दिया। इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वे न तो दावेदार हैं और न ही उनकी इच्छा है। उनमें इस पद को संभालने लायक योग्यता भी नहीं है। अशोक गहलोत के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वे अनुभवी हैं और हर तरह से योग्य हैं।

ईडी-सीबीआई की कार्रवाई पर उठाए सवाल
भ्रष्टाचार के खिलाफ ईडी और सीबीआई की कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह होना चाहिए, लेकिन केवल विपक्षी नेताओं को निशाना बनाया जाना गलत है। छत्तीसगढ़ में चिटफंड घोटाला हुआ, लेकिन रमन सिंह के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा के खिलाफ मामला सामने आने के बाद भी कार्रवाई की कोई चर्चा तक नहीं हुई। उन्होंने अपना आरोप दोहराते हुए कहा कि जल्द ही छत्तीसगढ़ में ईडी और सीबीआई कार्रवाई कर सकती है।

नीतीश को पीएम पद का चेहरा मानने से इनकार
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को मोदी के खिलाफ पीएम पद का उम्मीदवार बनाए जाने के सवाल को उन्होंने काल्पनिक करार दिया। साथ में यह भी जोड़ा कि बीजेपी के खिलाफ कोई भी गठबंधन कांग्रेस के बिना नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि 2024 के चुनाव के बाद वे अपनी पार्टी के नेता को ही प्रधानमंत्री पद पर देखना चाहते हैं।

बीजेपी पर ध्रुवीकरण का लगाया आरोप
बघेल ने कहा कि बीजेपी ने अपने चुनावी वादे पूरे नहीं किए। देश में बेरोजगारी और गरीबी लगातार बढ़ रही है। महंगाई आसमान छू रही है। इसके बावजूद बीजेपी चुनावों में जीत हासिल कर रही है क्योंकि वह ध्रुवीकरण का सहारा ले रही है। उन्होंने कहा कि बीजेपी आगे भी जीत सकती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि उसे लोगों का समर्थन हासिल है। उन्होंने यह भी कहा कि इसी चलते प्रधानमंत्री मोदी डरे हुए हैं।

About bheldn

Check Also

आगरा में रक्षक बना भक्षक, इंसाफ का भरोसा देकर सिपाही ने किया महिला के साथ रेप, कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

आगरा: न्याय का झांसा देकर एक महिला के साथ शारीरिक शोषण करने वाले पुलिसकर्मी को …