अपनी परछाई मुझसे दूर रख… कॉलेज के चीफ प्रॉक्टर पर दलित छात्र को जातिसूचक शब्द कहकर मारपीट करने का आरोप

आगरा:

यूपी के आगरा कालेज से दलित छात्र के साथ मारपीट और गलत बर्ताव का मामला सामने आया है। कॉलेज के चीफ प्रॉक्टर पर आरोप है कि उसने एक दलित छात्र को लाइन से बाहर निकालकर थप्पड़ों की बरसात कर दी। उसे पीटते हुए चीफ प्रॉक्टर कालेज के बाहर ले गए और गलत शब्दों को प्रयोग करके उसे कालेज से भगा दिया। जब पीडि़त छात्र ने कालेज के प्राचार्य से इसकी शिकायत की तो कोई सुनवाई नहीं हुई तो छात्र ने पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है।

आगरा कालेज में बीएससी थर्ड ईयर का छात्र है। छात्र ने बताया कि बुधवार 9 नवंबर को वह अपना परिचय पत्र (आईडी कार्ड) लेने के लिए कालेज आया था। कालेज परिचय पत्र के लिए कालेज में लंबी लाइन लगी थी। वह अपने दोस्तों के साथ लाइन में खड़ा था।

इसी दौरान आगरा कालेज के चीफ प्रॉक्टर डॉ. अमित अग्रवाल आ गए और उससे पूछताछ करते हुए लाइन से बाहर निकाल लिया। उससे तीखे सवाल करने लगे। इस पर रजत की उनसे कहासुनी होने लगी। छात्र का आरोप है कि चीफ प्रॉक्टर ने सभी छात्रों के बीच उसे थप्पड़ों से पीटा। इसके बाद उसे पकड़कर बाहर ले गए। जाते समय भी उसे पीटा गया और उससे घृणित शब्द बोलकर उसका अपमान किया गया। पीडि़त छात्र ने थाने में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच की जा रही है। कालेज प्राचार्य अनुराग शुक्ला का कहना है कि छात्र यूनिफॉर्म में नहीं था। आरोपों की जांच की जा रही है।

‘अपनी परछाई मुझसे दूर रख…’
छात्र ने बताया कि वह कालेज की यूनिफार्म में आया था। चीफ प्रॉक्टर ने उससे कालेज की फीस रसीद मांगी थी। जो उसने दिखाई और उसके हाथ में डॉक्यूमेंट की फाइल भी थी। आरोप है कि चीफ प्रॉक्टर अमित अग्रवाल ने उसे इस बात पर मारा कि उसने उनकी आंखों में आंखे डालकर बात की थी। छात्र ने बताया कि चीफ प्रॉक्टर ने उसे इस कदर हड़काया कि वह सहम गया और उससे पीछे हटाते हुए कहा कि अपनी परछाई मुझसे दूर रखा।

चीफ प्रॉक्टर को हटाने की मांग
इस घटना की जानकारी एनएसयूआई को हुई तो आगरा कालेज परिसर में प्रदर्शन किया गया। एनएसयूआई के प्रदेश सचिव नितिन प्रताप सिंह का कहना है कि चीफ प्रॉक्टर कालेज में गुंडागर्दी करते हैं। वे एबीवीपी के पदाधिकारी हैं। जो छात्र एबीवीपी से नहीं जुड़ते हैं उनके साथ गलत बर्ताव करते हैं।

प्रदर्शन के दौरान मौजूद यूपी कांग्रेस कमेटी प्रदेश सचिव अमित सिंह का कहना है कि छात्र को जातिसूचक शब्द बोलकर पीटा गया। इसके बावजूद कालेज के प्राचार्य ने झूठा बयान दिया कि वह यूनिफॉर्म में नहीं था। अमित सिंह का कहना है कि अपने संगठन के छात्रों के साथ दूसरे संगठन के छात्रों को पीटा जाता है। जिससे कि छात्र एबीवीपी से जुड़ें। प्रदर्शनकारियों ने चीफ प्रॉक्टर पर एफआईआर और प्रॉक्टर से हटाने की मांग की है। इधर कालेज प्रशासन ने तीन दिन में कमेटी से जांच कराने का आश्वासन दिया है।

About bheldn

Check Also

‘ये क्योटो क्या जापान वाला है…’, जब स्टेज पर अखिलेश-राहुल ने की चर्चा, बेरोजगारी-महंगाई पर सरकार को घेरा

नई दिल्ली, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नेता राहुल गांधी समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव …