बिनब्याही मां बन सकती है चीन की लड़कियां, आखिर शी जिनपिंग ने क्यों लिया ये फैसला?

बीजिंग

चीन ने लड़कियों के बिनब्याही मां बनने को कानूनी मंजूरी दे दी है। इस कानून को पायलट प्रोजक्ट के तौर पर अभी सिर्फ दक्षिण पश्चिमी सिचुआन प्रांत में लागू किया गया है। स्वास्थ अधिकारियों ने बताया कि गिरती जन्म दर को कम करने के नवीनतम प्रयास के तौर पर इस कानून को लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि अविवाहित पुरुषों और महिलाओं को परिवार बढ़ाने और विवाहित जोड़ों के लिए सरकारी मदद को तेज किया जाएगा। चीन में अभी तक केवल विवाहित महिलाओं को ही कानूनी रूप से जन्म देने की अनुमति है। लेकिन, हाल के वर्षों में विवाह और जन्म दर में रिकॉर्ड गिरावट से चीन के हाथ-पांव फूले हुए हैं। एक समय ऐसा भी था, जब चीन ने बढ़ती आबादी को रोकने के लिए वन चाइल्ड पॉलिसी को भी लागू किया था।

15 फरवरी से शुरू होगा रजिस्ट्रेशन
15 फरवरी से विवाहित जोड़े और संतान की चाह रखने वाले किसी भी व्यक्ति को चीन के पांचवें सबसे अधिक आबादी वाले प्रांत में सरकार के साथ पंजीकरण करने की अनुमति दी जाएगी। इसमें बच्चों की संख्या की कोई सीमा नहीं होगी। ऐसे में एक व्यक्ति जितना चाहे उतने बच्चों के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकता है। सिचुआन के स्वास्थ्य आयोग ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा कि इसका उद्देश्य दीर्घकालिक और संतुलित जनसंख्या विकास को बढ़ावा देना है। अब तक, आयोग ने केवल उन विवाहित जोड़ों को अनुमति दी थी जो दो बच्चों तक स्थानीय अधिकारियों के साथ पंजीकरण कराना चाहते थे।

चीन में छह दशकों में पहली बार घटी आबादी
चीन की आबादी पिछले साल छह दशकों में पहली बार घटी है। इस गिरावट से भविष्य में चीन की जनसांख्यिकी को लेकर खतरा पैदा हो गया है। ऐसे में चीनी अधिकारी जनसंख्या को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन और उपाय की नई-नई नीतियां बना रहे हैं। अभी तक अगर विवाहित जोड़ा बच्चे के लिए रजिस्ट्रेशन करवाता है तो उसे इलाज के खर्च में छूट मिलती है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं को मातृत्व अवकाश के दौरान पूरा वेतन भी दिया जाता है। ये लाभ अब सिचुआन में एकल महिलाओं और पुरुषों के लिए बढ़ाए जाएंगे।

About bheldn

Check Also

MQ-9 रीपर की कब्रगाह बना यमन, हूतियों ने फिर मार गिराया अमेरिका का यह शक्तिशाली ड्रोन!

दुबई: यमन में एक और अमेरिकी MQ-9 रीपर ड्रोन गिरा है। हूतियों ने दावा किया …