‘सिसोदिया ईमानदार व्यक्ति हैं लेकिन…’ बीजेपी के वरिष्ठ नेता शांता कुमार ने की आप नेता की तारीफ

शिमला

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे आप नेता मनीष सिसोदिया की ‘साफ-सुथरी छवि’ के लिए सराहना की। साथ ही कहा कि संभव है कि उन्होंने पार्टी और चुनाव के लिए ‘पैसा इकट्ठा’ करने के वास्ते यह सब किया हो। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने 2021-22 के लिए शराब नीति बनाने और उसे लागू करने में कथित भ्रष्टाचार को लेकर सिसोदिया को रविवार की शाम गिरफ्तार किया था। यह नीति अब रद्द की जा चुकी है।

अपनी टिप्पणी से पार्टी के लिए असहज स्थिति पैदा करने वाले शांता कुमार ने कहा कि ‘आप’ ने केंद्र सरकार की नाक के नीचे दिल्ली में बीजेपी को हराकर सरकार बनाई थी। उन्होंने कहा कि ‘आप’ सरकार ने पांच साल तक काम किया और फिर सत्ता में वापसी की, जो एक बड़ी उपलब्धि है।

सिसोदिया की तारीफ में क्या बोले शांता कुमार
फेसबुक पर पोस्ट किए गए एक बयान के अनुसार बीजेपी नेता ने कहा कि सिसोदिया ने एक साफ-सुथरी छवि वाले उपमुख्यमंत्री के रूप में ख्याति अर्जित की, जिसने ‘सराहनीय काम’ किया और वह अब जेल में हैं।शांता कुमार ने कहा कि दोनों तरफ से आरोप-प्रत्यारोप होते रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसकी कल्पना करना कठिन है कि बिना किसी अपराध के ही सीबीआई ने मनीष सिसोदिया को जेल में डाला होगा।

‘पार्टी के लिए पैसा इकट्ठा करने के वास्ते किया होगा’
उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि ‘सिसोदिया व्यक्तिगत तौर पर एक ईमानदार व्यक्ति हैं, लेकिन हो सकता है कि उन्होंने पार्टी और चुनाव के लिए पैसा इकट्ठा करने के वास्ते यह सब किया हो।’ कुमार ने कहा, ‘मेरे विचार से यही सच है और यदि यह सच है तो देश को बड़ी गंभीरता से कुछ नये निर्णय करने होंगे।’

उन्होंने दावा किया कि राजनीतिक पार्टियां बड़े-बड़े व्यापारियों से धन लेती है और सत्ता हासिल करने पर सरकार की मदद से भ्रष्टाचार द्वारा इस पैसे की भरपाई करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि चुनाव जीतने के बाद विजयी उम्मीदवार निर्वाचन आयोग के पास चुनाव मे खर्च होने का झूठा हिसाब पेश करते है।उन्होंने कहा, ‘जिस देश का लोकतंत्र काले धन और झूठ से शुरू होता है उस देश में सब अच्छा कैसे हो सकता है।’

About bheldn

Check Also

बॉर्डर बंद, सड़कों पर ट्रैक्टर… भारत ही नहीं यूरोप में भी किसान कर रहे प्रदर्शन, पोलैंड-ग्रीस के किसानों की ये है डिमांड

पेरिस भारत में किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) समेत अन्य मांगों के लिए एक बार …