कर्नाटक में कांग्रेस का हल्ला बोल, सिद्धारमैया समेत कई नेता हिरासत में, जानिए क्यों मचा है हंगामा

बेंगलुरु

कर्नाटक में बीजेपी विधायक मदल विरुपक्षप्पा के बेटे प्रशांत मदल को रिश्वत लेते हुए पकड़े जाने का मामला गरमा गया है। कर्नाटक कांग्रेस ने शनिवार को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के घर का घेराव कर उनके इस्तीफे की मांग की। इस दौरान विरोध प्रदर्शन कर रहे पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया सहित कई कांग्रेस नेताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

कांग्रेस ने निकाला विरोध मार्च
शनिवार सुबह कांग्रेस भवन से रेसकोर्स रोड स्थित मुख्यमंत्री आवास तक विरोध मार्च निकाला गया। प्रदेश प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला भी धरने में शामिल हुए। कर्नाटक सरकार के खिलाफ पार्टी के विरोध पर कांग्रेस विधायक रामलिंगा रेड्डी ने कहा कि राज्य में घोटाले और भ्रष्टाचार चल रहे हैं लेकिन सरकार ने सबूत मांगा, तो यह सबूत है। हम सीएम बोम्मई के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने लगाए आरोप
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डी. के. शिवकुमार ने कहा कि विधायक विरुपक्षप्पा के बेटे को रिश्वत नकदी और दस्तावेजों के साथ गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने घर से 8 करोड़ रुपये नकद जब्त किए हैं। इसने कर्नाटक में बीजेपी सरकार के 40 प्रतिशत कमीशन गठजोड़ का पर्दाफाश किया है।

14 दिन के लिए जेल गया विधायक का बेटा
इस बीच, प्रशांत मदल को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं विधायक, जो कर्नाटक सॉप्स एंड डिटर्जेंट लिमिटेड (केएसडीएल) के अध्यक्ष थे, उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया और दावा किया कि उनका विकास से कोई संबंध नहीं है। क्रिसेंट रोड स्थित प्रशांत मंडल के निजी कार्यालय से कुल 2.02 करोड़ रुपये और विधायक के घर से 6.10 करोड़ रुपये जब्त किए गए।

क्या है मामला जिस पर कांग्रेस हमलावर
दरअसल कर्नाटक के बीजेपी विधायक मदल विरुपक्षप्पा के बेटे बीडब्ल्यूएसएसबी के मुख्य लेखाकार प्रशांत मदल को लोकायुक्त ने 40 लाख रुपये घूस लेते पकड़ा था। साथ ही इनके घर से आठ करोड़ रुपये की नकदी बरामद हुई थी। इस मामले में विधायक को भी मुख्य आरोपी बनाया है। लोकायुक्त सूत्रों के मुताबिक मदल विरुपाक्षप्पा को गिरफ्तार करने की तैयारी की जा रही है।

About bheldn

Check Also

लोकसभा चुनाव से पहले मायावती को बड़ा झटका, BSP छोड़ने की तैयारी में सभी 10 सांसद?

लखनऊ: लोकसभा चुनाव से पहले देश के सबसे बड़े सियासी सूबे उत्तर प्रदेश में पूर्व …