आग बरसाती रूसी तोपें, घर छोड़कर पैदल भागते लोग… अब यूक्रेन के इस शहर पर कब्जे की तैयारी

नई दिल्ली,

रूस और यूक्रेन का युद्ध बीते एक साल से जारी है. इस युद्ध में दोनों ही देशों के कई सैनिक अब तक जान गंवा चुके हैं. कई इलाकों पर कब्जा करने के बाद रूसी सेना अभी बखमुत पर कंट्रोल पाने की कोशिश में जुटी है. विदेशी समचार एजेंसी एपी ने बताया कि रूसी सेना के दबाव ने यूक्रेन के बखमुत के निवासियों को सैनिकों की मदद से पैदल ही शहर से भागने के लिए मजबूर कर दिया है. यह स्थानीय लोग प्रमुख पूर्वी गढ़ से हटने की तैयारी कर रहे थे. लेकिन इससे पहले ही माहौल ऐसे हो गया कि लोगों को शहर छोड़कर पैदल ही भागना पड़ा.

महीनों से रूस के लिए बखमुत एक बड़ा टारगेट रहा है. ऐसे में अब रूसी सैनिकों का काफिला अपने तमाम तोपों और हथियारों के साथ धीरे-धीरे बखमुत पर कब्जा करने की ओर आगे बढ़ रहा है. शनिवार को, बखमुत के पास कुछ लोगों ने देखा कि यूक्रेन के सैनिकों को पास के गांव ख्रोमोव तक पहुंचने में मदद करने के लिए एक पंटून पुल की स्थापना की जा रही है. इसके बाद ख्रोमोव में हमला शुरू हुआ और कम से कम पांच घरों में आग लगा दी गई.

बखमुत शहर पर कब्जा पाने की कोशिश में रूस
कुछ दिनों पहले ही रूसी सैनिकों ने यूक्रेनी शहर बखमुत तक पहुंचने वाले रूट पर तोपें बरसाईं थीं. रूस ने बखमुत तक पहुंचने के अन्य सभी रास्तों को पहले से ही ब्लॉक कर दिया है. रूस की वैगनर सेना के प्रमुख ने कहा था कि ये सड़क अभी तक यूक्रेन की सेना के लिए खुली हुई थी. लेकिन अब इसे बंद कर दिया गया है. ये शहर अब खंडहर में बदल चुका है.

रॉयटर्स के मुताबिक बखमुत से पश्चिम की ओर जाने वाले रूट्स पर रूसी गोलाबारी हुई. जो शहर के अंदर और बाहर यूक्रेनी सेना की पहुंच को रोकने के उद्देश्य से की गई. हालांकि रूसी टैंक गोलाबारी से ख्रोमोव शहर में एक पुल क्षतिग्रस्त हो गया.

बस्तियों को बर्बाद कर रही सेना
रूस की समाचार एजेंसी ने एक वीडियो क्लिप जारी की. इसमें दिखाया गया कि वैगनर लड़ाके एक क्षतिग्रस्त इंडस्ट्री के आसपास मौजूद हैं. एक लड़ाके को यह कहते हुए सुना गया कि यूक्रेन की सेना रूसी घेराव को रोकने के लिए बखमुत के पास की बस्तियों में बुनियादी ढांचे को नष्ट कर रही है.

इसलिए जरूरी है बखमुत
रूस का कहना है कि हमारा यह टारगेट डोनबास औद्योगिक क्षेत्र पर कब्जा करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा. युद्ध से पहले बखमुत नमक और जिप्सम की खानों के लिए जाना जाता था. वहीं यूक्रेन का कहना है कि शहर का सामरिक महत्व बहुत कम है, लेकिन वहां सैनिकों को हुआ नुकसान एक नई इबारत रच सकती है.

यूक्रेनी सैनिकों को पीछे हटने की धमकी
रूस की निजी सैन्य कंपनी वैगनर के येवगेनी प्रिगोझिन ने यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की को अपने सैनिकों की जान बचाने के लिए बखमुत से पीछे हटने का आदेश देने का आह्वान किया. बखमुत में सक्रिय एक यूक्रेनी ड्रोन यूनिट के कमांडर रॉबर्ट ब्रोवडी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में कहा कि उनकी यूनिट को तुरंत वापस लेने का आदेश दिया गया था. उन्होंने कहा कि वह वहां कई दिनों से लड़ रहे हैं.

About bheldn

Check Also

इमाम ने फ्रांस के राष्ट्रीय ध्वज को बताया ‘शैतानी झंडा’, 12 घंटे के अंदर हो गया मुल्क बदर!

फ्रांस ट्यूनीशियाई मुस्लिम धर्मगुरु, इमाम महजौब महजौबी को फ्रांसीसी झंडे पर उनकी ‘अस्वीकार्य’ टिप्पणियों के …