दिल्ली-NCR समेत पूरे उत्तर भारत में भूकंप के तेज झटके, काफी देर तक हिलती रही धरती

नई दिल्ली

दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में मंगलवार (23 मार्च, 2023) रात भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। इमारतों के हिलने से दहशत में लोग घरों से बाहर निकल आए। भूकंप के झटके रात करीब 10 बजकर 20 मिनट पर महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप के इन झटकों की तीव्रता 6.6 मापी गई। भूकंप के झटके भारत के अलावा और भी कई पड़ोसी देशों में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। इसका केंद्र अफगानिस्तान में बताया जा रहा है। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, मंगलवार शाम आए भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के फैयजाबाद में था।

देश की राजधानी नई दिल्ली के शकरपुर इलाके में भूकंप की वजह से एक इमारत के टेढ़ी हो जाने की खबर थी। हालांकि सिविल डिफेंस की टीम ने इसे गलत करार दिया। मौके पर मौजूद सिविल डिफेंस के एक सदस्य ने बताया कि शकरपुर में बिल्डिंग पहले से ही ऐसी बनी हुई थी क्योंकि वहां पहले से गैप था। भूकंप से कोई नुकसान नहीं हुआ है। यह एक फर्जी कॉल थी। स्थिति नियंत्रण में है। हमने इमारत को ऊपर से नीचे तक चेक किया और कोई समस्या नहीं है

कुछ ऐसा था लोगों का रिएक्शन
न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में लुधियाना की एक महिला ने कहा, “मैं सोफे पर बैठी हुई थी और अपने बेटे से बात कर रही थी, तभी मैं हिलने लगी। मैंने सभी को अलर्ट किया। सभी लोग बाहर निकले, हमने बहुत तगड़े झटके महसूस किए।”जम्मू के कटरा में भूकंप के बाद सड़कों पर लोगों की भीड़ नजर आई। एक गेस्ट हाउस के मालिक शुभम ने कहा कि भूकंप के बाद यहां आए हुए श्रद्धालू होटल छोड़कर सड़कों पर आ गए। मां की कृपा से यहां कोई जान और माल का कोई नुकसान नहीं हुआ लेकिन लोग अभी डरे हुए हैं।

इन देशों में भी महसूस किया गया भूकंप
भारत के अलावा, पाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, कजाकिस्तान, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान, चीन, अफगानिस्तान और किर्गिस्तान में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के कलाफान से 90 किलोमीटर की दूरी पर था। पाकिस्तानी न्यूज वेबसाइट डॉन के अनुसार, इस भूकंप का केंद्र हिंदूकुश पर्वतों में था। डॉन के अनुसार, इस भूकंप की तीव्रता 6.8 थी। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार, भूकंप ने अफगानिस्तान और भारत के कई हिस्सों को भी हिलाने वाले इस भूकंप का केंद्र अफगान शहर जुर्म से 40 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में था।

जयपुर सहित राजस्थान के कई जिलों में रात साढ़े दस बजे महसूस हुए झटके
राजस्थान में मंगलवार रात करीब साढ़े दस बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। जयपुर सहित तमाम शहरों में लोग घरों से बाहर भागे। एक-दूसरे को फोन कर भूकंप आने की जानकारी दी। बीकानेर, जोधपुर, अलवर, गंगानगर, अजमेर, झुंझुनूं आदि शहरों में भूकम्प के झटके महसूस होते ही लोग घर से बाहर की ओर दौड़े। अपने नाते-रिश्तेदारों को फोन करके इसकी जानकारी भी दी, ताकि सभी सुरक्षित अपने घरों से बाहर आ जाएं।

क्या करें, क्या न करें?
भूकंप के दौरान जितना हो सके सुरक्षित रहें. ध्यान रखें कि कुछ भूकंप वास्तव में भूकंप से पहले के झटके होते हैं और बड़ा भूकंप कुछ देर में आ सकता है. अपनी हलचल एकदम कम कर दें और नजदीकी सुरक्षित स्थान तक पहुंचें. तब तक घर के अंदर रहें जब तक कि भूकंप बंद न हो जाए और आप सुनिश्चित हों कि बाहर निकलना सुरक्षित है.

अगर घर के अंदर हों
जमीन पर लेट जाएं. एक मजबूत टेबल या फर्नीचर के अन्य टुकड़े के नीचे बैठकर खुद को कवर कर लें. यदि आपके आस-पास कोई टेबल या डेस्क नहीं है, तो अपने चेहरे और सिर को अपनी बाहों से ढक लें और किसी कोने में झुक जाएं. कमरे के कोने में, टेबल के नीचे या बिस्तर के नीचे छिपकर अपने सिर और चेहरे को बचाएं. कांच, खिड़कियां, दरवाजे, दीवारें और जो कुछ भी गिर सकता है (जैसे झूमर) से दूर रहें. जब भूकंप आए तो बिस्तर पर ही रहें. अपने सिर को तकिये से सुरक्षित करें. अगर आप किसी गिरने वाली चीज के नीचे हैं तो वहां से हट जाएं. दरवाजे से बाहर भागने का प्रयास तभी करें जब वह आपके पास हो और यदि आप जानते हैं कि दरवाजा मजबूत है.

जब तक कंपन बंद न हो जाए, तब तक अंदर ही रहें. रीसर्च से पता चला है कि ज्यादातर लोगों को चोटें तब लगती हैं जब वह इमारतों के अंदर से बाहर निकलने की कोशिश करते हैं. ध्यान रखें कि बिजली जा सकती है या स्प्रिंकलर सिस्टम या फायर अलार्म चालू हो सकते हैं. अगर बाहर हों तो- आप जहां पर हैं, वहां से न हिलें. हालांकि, इमारतों, पेड़ों, स्ट्रीट लाइट्स और यूटिलिटी तारों से दूर रहें. यदि आप खुली जगह में हैं, तब तक वहीं रहें जब तक कंपन बंद न हो जाएं. सबसे बड़ा खतरा इमारतों से हैं, अधिकांश मौकों पर दीवारों के गिरने, कांच के उड़ने और वस्तुओं के गिरने से चोट लगती हैं.

About bheldn

Check Also

दिग्गज वकील और पूर्व ASG फली एस नरीमन का निधन, 95 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

नई दिल्ली, सुप्रीम कोर्ट के दिग्गज वकील और देश के पूर्व ASG फली एस नरीमन …