किंग चार्ल्स III की भव्य ताजपोशी, राज्याभिषेक में दुनियाभर के 2 हजार मेहमान बने साक्षी

लंदन,

किंग चार्ल्स III का शनिवार को ऐतिहासिक राज्याभिषेक हो गया है. वे अपनी पत्नी और क्वीन कैमिला के साथ वेस्टमिंस्टर एबे पहुंचे. यहां एक धार्मिक समारोह में यूनाइटेड किंगडम के राजा का ताज पहनाया गया. ये परंपरा लगभग एक हजार साल पुरानी है. समारोह में किंग चार्ल्स तृतीय (74 साल) की पत्नी कैमिला भी आधिकारिक रूप से ‘क्वीन कंसोर्ट’ से ‘क्वीन’ बन गईं.

राज्याभिषेक में देश-विदेश के 2 हजार मेहमानों को बुलाया गया है. भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ भी अपनी पत्नी डॉ. सुदेश धनखड़ के साथ लंदन पहुंचे. यहां उपराष्ट्रपति का बकिंघम पैलेस में आयोजित एक समारोह में स्वागत किया गया. इसके साथ ही उन्होंने लंदन में होने वाले राज्याभिषेक समारोह से पहले किंग चार्ल्स तृतीय से मुलाकात भी की है. इस मुलाकात को लेकर उपराष्ट्रपति के ट्विटर हैंडिल से जानकारी शेयर की गई है.

समारोह में भव्य परंपरा का किया गया निर्वहन
वेस्टमिंस्टर एबे 1066 में विलियम द कॉन्करर के बाद से हर ब्रिटिश राज्याभिषेक का स्थान रहा है और किंग चार्ल्स III और उनकी पत्नी क्वीन कैमिला ने इस भव्य परंपरा का निर्वहन किया. राज्याभिषेक की पूर्व संध्या पर बकिंघम पैलेस ने राजशाही के आधिकारिक अकाउंट से एक ट्वीट किया पहली बार रानी कैमिला का जिक्र किया. राज्याभिषेक थिएटर में फूलों की भव्यता और तैयारियों के फुटेज शेयर करते हुए पोस्ट में लिखा है- वेस्टमिंस्टर एबे किंग चार्ल्स III और क्वीन कैमिला के राज्याभिषेक के लिए तैयार है. बता दें कि चार्ल्स और कैमिला ने 2005 में शादी की थी.

सबसे अहम सिंहासन, 700 साल पुरानी शाही कुर्सी
ब्रिटेन के महाराजा चार्ल्स तृतीय शनिवार को यहां एबे वेस्टमिंस्टर में होने वाले अपने ऐतिहासिक राज्याभिषेक के दौरान शाही सिंहासन पर बैठे. 86 वर्ष पहले इस गद्दी पर उनके नाना जॉर्ज-षष्टम ताजपोशी के समय बैठे थे. शाही परंपरा के अनुसार ताजपोशी के समय कई स्टेप होते हैं और इस दौरान अलग-अलग पारंपरिक गद्दियों और सिंहासनों का उपयोग किया जाता है. राज्याभिषेक के दौरान महाराजा चार्ल्स और उनकी पत्नी महारानी कैमिला अलग-अलग क्षणों में ‘सेंट एडवर्ड्स चेयर’, ‘चेयर्स ऑफ स्टेट’ और ‘थ्रोन चेयर्स’ पर बैठे.

किंग ने कौन सा ताज पहना?
ये 17वीं सदी का सेंट एडवर्ड क्राउन है, जो सॉलिड गोल्ड से बना हुआ है. लगभग ढाई किलो वजन का ये मुकुट आम मौकों नहीं, सिर्फ राज्याभिषेक के दौरान पहना जाता है, जो कि प्रतीकात्मक होता है. इसके बाद इसे सहेजकर रख दिया जाता है.एडिनबर्ग, कार्डिफ और बेलफास्ट समेत पूरे ब्रिटेन में 13 जगहों पर तोपों की सलामी दी जा रही है. किंग चार्ल्स III की ताजपोशी के रूप में रॉयल नेवी के जहाजों को तैनात किया गया है.

ऋषि सुनक ने निभाई अहम भूमिका
इस पूरी प्रक्रिया के दौरान ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक ने किंग चार्ल्स तृतीय के राज्याभिषेक समारोह में ‘बिब्लिकल बुक ऑफ कोलोसियन’यानी बाइबिल के कुछ अंश पढ़े. सुनक ब्रिटेन के भारतीय मूल के पहले प्रधानमंत्री हैं और हिंदू धर्म में आस्था रखते हैं. बाइबिल पढ़कर उन्होंने ईसाई समारोह की आस्था बहु-विश्वास को आगे बढ़ाया.

किंग और क्वीन ने पवित्र भोज प्राप्त किया
कैंटरबरी के आर्कबिशप के सामने किंग ने ब्रेड और वाइन के गिफ्ट्स को स्वीकार किया है. पवित्र भोज या पवित्र रोटी और शराब लेना, ईसाई धर्म के लिए पूजा का एक अभिन्न अंग माना जाता है.

About bheldn

Check Also

मोदी की बातों को वाहियात बताने वाले मुस्लिम नेता पर गिरी गाज, BJP ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया

बीकानेर/जयपुर राजस्थान में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग से पहले बीजेपी ने बड़ा …