कर्नाटक चुनाव में BJP की जीत चाहते हैं नीतीश कुमार, जानिए इसके पीछे की वजह

पटना,

एक तरफ बीजेपी और कांग्रेस ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव में पूरी ताकत झोंक रखी है. दूसरी तरफ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक अलग ही खेला खेलने में मसरूफ हैं. कर्नाटक में 10 मई को मतदान होना है और 13 मई को नतीजे आने हैं. इसको लेकर बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों ने चुनाव जीतने के लिए जबरदस्त प्रचार प्रसार किया है. वहीं, दिलचस्प बात यह है कि नीतीश कुमार धीरे-धीरे 2024 लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी दलों को एकजुट करने की कवायद में जुटे हुए हैं.

जिस वक्त बीजेपी की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जेपी नड्डा, अमित शाह व कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मलिकार्जुन खरगे, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी कर्नाटक में प्रचार प्रसार करने में पूरी ताकत लगा रहे थे, उसी समय नीतीश कुमार विपक्षी एकता को और मजबूत करने के लिए एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से संपर्क साधा.

शरद पवार व उद्धव ठाकरे से फोन पर बातचीत की
पिछले सप्ताह नीतीश कुमार की तरफ से बिहार विधान परिषद के चेयरमैन एवं जनता दल यूनाइटेड के नेता देवेश चंद्र ठाकुर नीतीश का पैगाम लेकर शरद पवार व उद्धव ठाकरे से मुलाकात की. उसके ठीक बाद शनिवार को नीतीश ने महाराष्ट्र के इन दोनों दिग्गज नेताओं से फोन पर बातचीत की.

11 मई को मुंबई जाएंगे नीतीश कुमार
इस पूरी कवायद का निष्कर्ष यह निकला कि 11 मई को नीतीश कुमार मुंबई जा रहे हैं. जहां वह शरद पवार उद्धव ठाकरे से मिलेंगे. इससे पहले नीतीश मंगलवार यानी 9 मई को भुवनेश्वर जाएंगे. यहां वह उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से मुलाकात करेंगे और विपक्षी एकजुटता के मुद्दे पर चर्चा करेंगे.

बीजेपी की जीत की दुआ कर रहे हैं नीतीश!
ऐसे में सवाल यह उठता है कि एक तरफ नीतीश कुमार 2024 से लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी दलों को एकजुट करके बीजेपी को कड़ी टक्कर देने की योजना बना रहे हैं. दूसरी ओर क्या वह दिल ही दिल में कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत की दुआ भी कर रहे हैं.

नीतीश कुमार के लिए इस वक्त सबसे बड़ी समस्या
यह सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि कर्नाटक विधानसभा चुनाव के जो भी नतीजे आएंगे, वह आने वाले दिनों में नीतीश कुमार की विपक्षी एकजुटता में महत्वपूर्ण भूमिका को निर्धारित करेंगे. नीतीश कुमार के लिए इस वक्त सबसे बड़ी समस्या यह है बेशक वो विपक्ष के तमाम बड़े नेताओं के साथ मुलाकात कर रहे हों, मगर जिस तरीके से उन्होंने बिहार में लगातार पलटी मारी है, उससे उनकी छवि एक विश्वसनीय नेता की नहीं बची है.

इसीलिए कोई भी विपक्षी नेता नीतीश कुमार के समर्थन में खुलकर सामने नहीं आ रहा है. अब अगर कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अच्छा प्रदर्शन करती है और जीत दर्ज करती है तो विपक्षी एकजुटता को मजबूत करने में अगुआ बनने वाले नीतीश कुमार को कांग्रेस की तरफ से वह अहमियत नहीं मिलेगी, जिसकी वह उम्मीद कर रहे होंगे.

‘…तो कांग्रेस पार्टी निभाएगी अहम भूमिका’
कर्नाटक में अगर कांग्रेस से जीत हासिल करती है तो फिर विपक्ष की एकजुटता को मजबूत करने में कांग्रेस पार्टी अहम भूमिका निभाएगी. फिर नीतीश कुमार को कहीं ना कहीं अन्य विपक्षी दलों की तरह कतार में खड़ा होना पड़ेगा. इसके उलट, अगर कर्नाटक चुनाव में बीजेपी की जीत होती है तो यकीनन कांग्रेस के लिए यह एक बड़ा झटका होगा. जबकि नीतीश कुमार की अहमियत सबसे महत्वपूर्ण नेता के तौर पर प्रस्तुत होगी. कर्नाटक में बीजेपी की जीत का साफ मतलब होगा कि नीतीश कुमार कांग्रेस को दरकिनार करके विपक्षी एकजुटता को मजबूत करने में सबसे आगे निकल जाएंगे. संभवतः अगर विपक्ष एकजुट होता है तो नीतीश प्रधानमंत्री का चेहरा भी बन सकते हैं.

 

About bheldn

Check Also

नड्डा घूमते हैं नोटों भरा बैग लेकर, महिलाएं अब कैसे खरीदें सोना? तेजस्वी का पीएम मोदी-नड्डा पर डबल अटैक

पटना: राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी …