धीरेंद्र शास्त्री की कथा में कई लोगों की तबीयत बिगड़ी, पटना में नहीं लगेगा दिव्य दरबार

पटना

बागेश्वर धाम के कथावाचक धीरेंद्र शास्त्री इन दिनों पटना के नौबतपुर स्थित तरेत मठ में हनुमंत कथा सुना रहे हैं. इसमें भारी भीड़ और भीषण गर्मी में लोगों की तबीयत बिगड़ने के बाद धीरेंद्र शास्त्री ने सोमवार को आयोजित होने वाले दिव्य दरबार को स्थगित कर दिया है. उन्होंने कहा है कि कथा पूरे पांच दिन चलेगी. मगर, भारी भीड़ के बीच किसी प्रकार की अनहोनी न हो, इसके लिए दिव्य दरबार को बंद करने का फैसला लिया गया है. फिर कभी बिहार आएंगे तो दिव्य दरबार लगाया जाएगा.

बता दें कि पहले दिन की कथा में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, अश्विनी चौबे के अलावे बिहार बीजेपी के कई बड़े नेता भी पहुंचे थे. आयोजकों की तरफ से बड़े इंतजाम के दावे किए गए थे लेकिन कार्यक्रम के पहले दिन ही बदइंतजामी देखने को मिली थी. दूसरे दिन भी हालात नहीं बदले. भीषण गर्मी के बावजूद भारी तादाद में लोग कथा में शामिल होने पहुंचे थे.

धीरेंद्र शास्त्री ने मंच से किया ये ऐलान
इस दौरान कथा के लिए बनाए गए पंडाल में उमस और ऑक्सीजन की कमी होने की वजह से लोगों की तबीयत बिगड़ने लगी. इसके बाद कथा को समय से पहले खत्म करना पड़ा. पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने खुद मंच से ऐलान किया कि लोग कम संख्या में कार्यक्रम में शामिल हों. गर्मी ज्यादा है, इसलिए टेलीविजन और सोशल मीडिया के जरिए कथा सुनें. इतना ही नहीं पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने यह भी कहा कि 15 मई को आयोजित होने वाला दिव्य दरबार स्थगित कर दिया गया है. इस संबंध में सोमवार सुबह प्रेस वार्ता कर सकते हैं.

दूसरे दिन उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़
रविवार होने के कारण हनुमंत कथा के दूसरे दिन श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। भीषण गर्मी होने के बावजूद लाखों की तदाद में लोग तरेत पाली पहुंच रहे हैं। भीड़ को देख धीरेंद्र शास्त्री गदगद भी हैं, तो भीड़ की वजह से टेंशन में हैं।

सांस लेने में हो रही दिक्कत
बताया जा रहा है कि कार्यक्रम स्थल पर उड़ रही धूल और गर्मी के कारण लोगों को सांस लेने में दिक्कत होने लगी। सांस लेने में हो रही परेशानी के कारण कार्यक्रम में मौजूद करीब 15 लोगों की तबीयत बिगड़ गई। आनन-फानन में सभी लोगों को भीड़ से अलग कर दूसरे जगह बैठाया गया।

गद्दी छोड़ नीचे उतरे बाबा बागेश्वर
इधर, लोगों की तबीयत बिगड़ने की खबर मिलते ही बाबा बागेश्वर एक्शन में आ गए। उन्होंने अपनी गद्दी छोड़कर नीचे उतर आए। हनुमंत कथा कार्यक्रम को महज 20 मिनट में ही खत्म कर दिया। इसके बाद उन्होंने वहां मौजूद लोगों से घर लौट जाने की अपील की।

नहीं लगेगा दिव्य दरबार
धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि श्रद्धालुओं की इतनी भीड़ है, ऊपर से भीषण गर्मी। भीड़ के कारण धूल उड़ने से लोगों को घूटन महसूस हो रही है। श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी ना हो, इसको देखते हुए कल यानी 15 मई को दिव्य दरबार नहीं लगेगा। उन्होंने कहा कि कथा होगा। श्रद्धालुओं से अपील है कि कथा घर से ही सुनें।

नेपाल से भी बड़ी तादाद में पटना पहुंचे हैं लोग
शास्त्री मंच से जब ये ऐलान कर रहे थे तो आयोजकों के माथे पर भी पसीना देखा जा सकता था. आयोजन समिति के प्रमुख राज शेखर ने भी ऐलान किया कि दिव्य दरबार स्थगित कर दिया जाए और लोग कम संख्या में हनुमंत कथा सुनने पहुंचें. 17 मई तक कथा का संचालन होता रहेगा. इस कथा में न केवल बिहार बल्कि दूसरे राज्यों से भी लोग पहुंच रहे हैं. नेपाल से भी बड़ी तादाद में लोग पटना पहुंचे हैं. कई लोग ऐसे हैं जो पांच दिन तक इसी इलाके में रहेंगे.

दरअसल, पटना जिला प्रशासन ने बाबा बागेश्वर के कार्यक्रम के दौरान आतंकी हमले को लेकर अलर्ट जारी किया है. पटना जिला नियंत्रण कक्ष की तरफ से जो लेटर जारी किया गया है, उसमें आशंका जताई गई कि बाबा बागेश्वर के कार्यक्रम के दौरान आतंकी संगठन आईईडी ब्लास्ट कर सकते हैं. कार्यक्रम में उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुए सुरक्षा का इंतजाम करने का निर्देश जिला नियंत्रण कक्ष की तरफ से जारी किया गया है.

लेटर में हुंकार रैली के दौरान हुए ब्लास्ट का भी जिक्र
लेटर में पटना के गांधी मैदान में हुंकार रैली के दौरान हुए ब्लास्ट की घटना का भी जिक्र है. 27 अक्टूबर 2013 को पटना के गांधी मैदान में नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली के दौरान ब्लास्ट की घटना हुई थी. इस ब्लास्ट का जिक्र बाबा बागेश्वर के कार्यक्रम की संवेदनशीलता को देखते हुए किया गया. साथ ही साल 2015 में पटना के अगमकुंआ और रामकृष्णानगर दो अलग-अलग इलाकों में हुई ब्लास्ट की घटना का जिक्र करते हुए लिखा गया कि ऐसे महत्वपूर्ण अवसर पर उग्रवादी या आतंकवादी संगठन जान-माल की क्षति पहुंचाने के लिए आईईडी का इस्तेमाल कर सकते हैं.

 

About bheldn

Check Also

सात फेरों की गांठ खोलकर दुल्‍हन बोली- शादी नहीं करनी, वजह सुनकर सब रह गए हैरान

कानपुर: कानपुर में बाराती उस समय हैरान रह गए जब दुल्‍हन ने चौथा फेरा लेने …