500 की पत्ती ही रहेगी सबसे बड़ी करंसी या 1000 रुपये का नोट करेगा वापसी?

नई दिल्ली,

भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने क्लीन नोट पॉलिसी के तहत 2000 रुपये के नोट वापस लेने का सर्कुलर जारी किया है. इसके तहत बैंक बाजार से 2000 रुपये के नोटों की वापसी करेगी और सितंबर 2023 के बाद ये नोट बंद हो जाएंगे. आरबीआई ने नोट बदलने के लिए 30 सितंबर 2023 की तारीख मुकर्रर की है. साथ ही ये भी साफ किया है कि लोगों को घबराना नहीं चाहिए, ये नोट पहले ही की तरह बाजार में चलेंगे और वैध रहेंगे, लेकिन आप इन्हें तय तारीख से पहले-पहले बैंक में जाकर बदलवा सकते हैं.

क्या 500 रुपये का नोट सबसे बड़ा होगा?
अब सवाल ये है कि क्या 500 रुपये का नोट ही अब सबसे बड़ा होगा? भारतीय रुपये व्यवस्था की ओर देखें तो 2000 रुपये का नोट हमारी नोट प्रणाली में सबसे बड़ी करेंसी थी. हल्की गुलाबी रंगत लिए इस नोट को रिजर्व बैंक ने 8 नवंबर 2016 को हुई नोटबंदी के बाद जारी किया गया था. करेंसी प्रणाली में यह सबसे बड़ा बदलाव था, क्योंकि इसके पहले 1000 रुपये की करेंसी चलन में सबसे बड़ी थी. पीएम मोदी ने जब नोटबंदी की थी, तब उन्होंने पुराने प्रचलन के 500 रुपये व 1000 रुपये के नोट को बंद कर दिया था.

नए रंगत में हुई थी 500 के नोट की वापसी
हालांकि इसके बाद 500 रुपये के नोट की नए रंगत में वापसी तो हो गई थी, लेकिन हजार रुपये के नोट की जगह उसके दोगुने मूल्य की करेंसी ने ली थी. अब जब शुक्रवार को आरबीआई ने क्लीन नोट पॉलिसी के तहत 2000 रुपये के नोट की वापसी की घोषणा कर दी है तो अब करेंसी प्रणाली में 500 रुपये का नोट ही सबसे बड़ा रह गया है.

क्या 1000 रुपये की करेंसी होगी बहाल?
आरबीआई ने 2000 रुपये की करेंसी तो वापस ले ली है, लेकिन अब सवाल है कि क्या 1000 रुपये की करेंसी फिर से बहाल की जाएगी. असल में 1000 रुपये की करेंसी बड़े लेन-देन, बाजार खरीद आदि के लिए मुफीद थी. फिर जब इन्हें बंद किया गया तो 2000 रुपये के नोट ने बड़ी करेंसी की जगह ली, लेकिन कई दिनों तक इस नई करेंसी को लेकर लोगों में असमंजस की स्थिति रही. असल में ये भारतीय जनमानस और मध्यमवर्गीय लोगों की सोच से भी जुड़ी बात रही है. भारतीय बचत को लेकर हमेशा सतर्क रहे हैं. 2000 रुपये को लेकर लोगों के ये खयाल रहे हैं कि इस बड़े नोट का फुटकर कराते ही, दो हजार की बड़ी रकम खर्च हो जाने की आशंका बढ़ जाती है. एक हजार रुपये के नोट के साथ यह वित्तीय जोखिम घटकर आधा रह जाता है.

कोई आश्चर्य नहीं कि अगर बहाल हुए 1000 रुपये के नोट: पी. चिदंबरम
1000 रुपये के नोट की वापसी से ही जुड़ा बयान पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने दिया है. उन्होंने कहा, ‘उम्मीद के मुताबिक, सरकार/आरबीआई ने 2000 रुपये के नोट वापस ले लिए हैं और नोटों को बदलने के लिए 30 सितंबर तक का समय दिया है. शायद ही 2000 रुपये का नोट लेनदेन का लोकप्रिय मीडियम है. हमने नवंबर 2016 में यह कहा था और हम सही साबित हुए हैं. 2000 रुपये का नोट 500 रुपये और 1000 रुपये की नोटबंदी के मूर्खतापूर्ण निर्णय को कवर करने के लिए एक बैंड-एड था. ये दोनों ही नोट लोकप्रिय थे और लेन-देन के लिए बड़े पैमाने पर जानी-मानी मुद्राए थीं.

नोटबंदी के कुछ सप्ताह बाद, सरकार/RBI को 500 रुपये के नोट को फिर से पेश करने के लिए मजबूर होना पड़ा था. चिदंबरम ने कहा कि अगर सरकार/RBI ने 1000 रुपये के नोट को भी फिर से पेश कर देती है तो मुझे आश्चर्य नहीं होगा. उन्होंने कहा कि नोटबंदी का दौर आ गया है.

धीरे-धीरे वापस लिए जाएंगे नोट
रिजर्व बैंक के मुताबिक अब 2 हजार के नए नोट की छपाई बंद कर दी गई है और रिजर्व बैंक धीरे-धीरे इन नोट्स को वापस लेगा. आम लोग अपने पास रखे 2-2 हजार के नोट 30 सितंबर तक किसी भी बैंक में जमा करा सकते हैं. इससे आम लोगों को पिछले नोटबंदी की तरह परेशान नहीं होना पड़ेगा और वे अपने पास रखे 2 हजार के नोट इस्तेमाल अब भी कर सकेंगे. RBI ने देश के बैंकों को सलाह दी है कि 2000 रुपये के नोट को तत्काल प्रभाव से जारी करना बंद कर दिया जाए.

साल 2016 में हुई थी नोटबंदी
दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को देश में नोटबंदी का ऐलान किया था. तब 500 और 1000 के नोट चलन बाहर कर दिए गए थे. सरकार के इस फैसले से देश में काफी उथल-पुथल मची थी, लेकिन फिर नए नोट करेंसी मार्केट का हिस्सा बने. सरकार ने 200, 500 और 2 हजार का नोट लॉन्च किया था. लेकिन अब इनमें से 2 हजार का नोट चलन से बाहर करने का फैसला किया गया है.

नोटबंदी के बाद मची थी अफरा-तफरी
नवंबर 2016 में नोटबंदी के बाद अगले कई महीनों तक देश में काफी अफरा-तफरी का माहौल बना रहा था. लोगों को पुराने नोट जमा करने और नए नोट हासिल करने के लिए बैंकों में लंबी लाइनों में लगना पड़ा. नोटबंदी के ऐलान के बाद ऐसे भी कई मामले सामने आए थे कि करोड़ों की ऐसी राशि जिनमें चलन से बाहर किए गए ये नोट शामिल थे, कभी कूड़े में तो कभी नदी में बहते हुए दिखे. लेकिन इस बार 2 हजार का नोट चलन से बाहर नहीं किया गया है, इससे लोगों को परेशान नहीं होना पड़ेगा.

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …