लॉरेन्स बिश्नोई ने खोल दी अपनी हिट लिस्ट, सलमान टॉप पर, जानिए कौन-कौन निशाने पर

नई दिल्ली ,

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड और फिर बॉलीवुड एक्टर सलमान खान को टारगेट करने को लेकर कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई चर्चा में बना रहता है. देश के नए डॉन लॉरेंस के राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी NIA के सामने कबूला है कि उसकी हिट लिस्ट में सिर्फ सलमान खान तो पहले नंबर पर है ही, साथ ही अन्य 5 टारगेट और भी हैं. जांच एजेंसी के सामने डॉन ने कबूल किया कि आखिर उसके टारगेट पर कौन-कौन है?

टारगेट नंबर-1: बॉलीवुड सुपर स्टार एक्टर सलमान खान
लॉरेंस बिश्नोई के मुताबिक, साल 1998 में सलमान खान ने एक फ़िल्म की शूटिंग के दौरान जोधपुर में काले हिरण का शिकार किया था. काले हिरण को बिश्नोई समाज पूजता है और यही वजह है कि वह सलमान खान को मौत के घाट उतारना चाहता है. इसके लिए लॉरेंस ने अपने सबसे करीबी संपत नेहरा को सलमान की रेकी के लिए भी मुंबई भेजा था. लेकिन संपत को हरियाणा एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया था. इतना ही नहीं, महाराष्ट्र के कुछ गैंगस्टर्स ने बिश्नोई के सामने खुलासा किया था कि वो सलमान खान को धमकी भरा लेटर भेजने वाले हैं और सलमान को धमकी भरा लेटर भेजा भी.

टारगेट नंबर-2: शगुनप्रीत (सिद्धू मूसेवाला का मैनेजर)
पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला का मैनेजर रह चुका शगुनप्रीत लॉरेंस की लिस्ट में दूसरे नंबर पर है. लॉरेंस के मुताबिक, विक्की मिद्दुखेड़ा के शूटर्स यानी कातिलों को शगुनप्रीत ने छिपने में मदद की थी. बता दें कि छात्र राजनीति के समय से लॉरेंस गैंग विक्की मिद्दुखेड़ा को अपना भाई समान मानते थे. उसकी साल 2021 में हत्या कर दी गई थी.

टारगेट नंबर-3: मनदीप धालीवाल (गैंगस्टर)
विदेश में मौजूद बंबीहा गैंग का लीडर लक्की पटियाल का बेहद करीबी गैंगस्टर मनदीप धालीवाल को लॉरेंस ने हिट लिस्ट में तीसरे नंबर पर रखा है. लॉरेंस बिश्नोई ने NIA को बताया कि वो मनदीप को इसलिए मारना चाहता है, क्योंकि इसने भी विक्की मिद्दुखेड़ा के कातिलों को शेल्टर देने में मदद की थी. इसने अपने गैंग का नाम ‘Thug Life’ रखा हुआ है.

टारगेट नंबर-4: कौशल चौधरी (गैंगस्टर)
लॉरेंस के कबूलनामे के मुताबिक, कौशल चौधरी ने भी सिर्फ विक्की मिद्दुखेड़ा के कातिलों भोलू शूटर, अनिल लठ और सन्नी लेफ्टी को हथियार मुहैया करवाये थे. कौशल चौधरी हरियाणा की जेल में बंद है. ये बेहद कुख्यात गैंगस्टर माना जाता है. ये भी पढ़ें:- मॉडल नहीं, गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के हैं ये PHOTOS, जिसने जेल में बैठ रची मूसेवाला के मर्डर की साजिश

टारगेट नंबर-5: लकी पटियाला (बंबीहा गैंग का हेड)
डॉन ने एनआईए को बताया, लक्की पटियाल मेरा दुश्मन गैंग है. लक्की के कहने पर ही मेरे करीबी और गोल्डी के भाई गुरलाल बरार का कत्ल किया गया था. बंबीहा गैंग ने ही विक्की मिद्दुखेड़ा के शूटर्स और रेकी करने वालों को छिपने में मदद की थी.

मूसेवाला के मर्डर की साजिश और वजह भी बताई
बिश्नोई ने खुलासा किया, विक्की मिद्दुखेड़ा के कत्ल का बदला लेने के लिए उसने सिंतबर-अक्टूबर 2021 में तीन शूटर्स शाहरुख, डैनी और अमन को सिद्धू मुसेवाला को मारने के लिए भेजा था. गांव मूसा में रुकने के लिए शूटर्स की मदद मोना सरपंच और जग्गू भगवानपुरिया ने की थी. लेकिन बाद में इन शूटर्स ने बताया कि सिद्धू मूसेवाला को मारने के लिए कुछ और शूटर्स को शामिल करना पड़ेगा. इस बीच, लॉरेंस कनाडा में बैठे अपने साथी गोल्डी बराड़ के सम्पर्क में भी था. सिंगर मूसेवाला की हत्या की साजिश तैयार करते वक्त लॉरेंस ने हवाला के जरिए 50 लाख रुपये कनाडा में गोल्डी बराड़ को भिजवाए थे.

यूपी के खुर्जा से मिली मदद
साल 2018 से लेकर 2022 के बीच लॉरेंस ने यूपी के खुर्जा से अपने करीबी गैंगस्टर रोहित चौधरी की मदद से आर्म्स सप्लायर कुर्बान चौधरी और शहजाद से करीब 2 करोड़ रुपये में 25 हथियार खरीदे थे. जिसमें 9 MM की पिस्टल और AK 47 शामिल हैं. इन्हीं हथियारों का इस्तेमाल सिद्धू मूसेवाला के कत्ल में हुआ था.

मॉल मालिकों और सटोरियों से उगाहे करोड़ों रुपये
लॉरेंस बिश्नोई ने NIA के सामने ये भी कबूल किया कि भरतपुर, फरीदकोट और अन्य जेलों में रहते हुए उसने कभी राजस्थान के कारोबारियों, कभी चंडीगढ़ के 10 क्लब मालिकों, अंबाला में मॉल के मालिकों, शराब कारोबारियों तो कभी दिल्ली और पंजाब के सटोरियों से करोड़ों रुपये की उगाही की.

आनंदपाल के भाई ने इकट्ठा की रकम
जेल में इन सभी उद्योगपतियों और डीलर्स के फोन नंबर्स लॉरेंस बिश्नोई को गोल्डी बराड़, काला राणा, गुरलाल बराड़ और काला जठेड़ी ने मुहैया करवाए थे. इतना ही नहीं, लॉरेंस बिश्नोई ने यह भी कबूल किया कि उसी के कहने पर राजस्थान के कई क्रेशर मालिकों और स्टोन कारोबारियों से गैंगस्टर आनंदपाल के भाई विक्की सिंह और मंजीत सिंह ने पैसे इकट्ठे किए थे.

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …