सचिन पायलट के मुद्दे पर सीएम अशोक गहलोत ने तोड़ी चुप्पी, कांग्रेस हाईकमान पर लेकर भी कही बड़ी बात

जयपुर

पूर्व उपमुख्यमत्री सचिन पायलट की ओर से लगातार अपनी ही सरकार पर लगाए जाने वाले आरोपों पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चुप्पी तोड़ दी है। सीएम गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि पायलट का मुद्दा मीडिया ने ज्यादा फैला दिया है, हम इन बातों को नहीं मानते हैं। गहलोत ने कहा कि हमारा मानना है कि कांग्रेस पूरी तरह से एकजुट है। आने वाले चुनावों में पार्टी पूरी एकजुटता के साथ चुनाव लड़ेगी और सरकार रिपीट करेगी। पायलट के अल्टीमेटम को लेकर गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में दिल्ली में हर राज्य की मीटिंग बुलाई गई है। हम सब बैठकर चर्चा करेंगे। सब नेता अपने अपने सुझाव देंगे और जो कांग्रेस हाईकमान का फैसला होगा, वह सब को मान्य होगा।

हमारे यहां अनुशासन होता है : अशोक गहलोत
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कांग्रेस में अनुशासन होता है। एक बार पार्टी हाईकमान जो फैसला कर देता है, उस फैसले को हम सब मानते हैं। पहले सोनिया गांधी थीं, अब मल्लिकार्जुन खड़गे साहब हैं। सभी लोग उनके फैसलों को मानते हैं और सब अपने अपने काम पर लग जाते हैं। शुक्रवार 26 मई से दिल्ली हाईकमान के पास बैठकों का दौर शुरू हो रहा है। उनमें राजस्थान के मसलों पर चर्चा होने के साथ आगामी विधानसभा चुनावों की रणनीति पर भी विस्तार से चर्चा होगी। गौरतलब है कि शुक्रवार दोपहर 2 बजे अशोक गहलोत भी दिल्ली पहुंचेंगे।

पायलट ने गहलोत के खिलाफ छेड़ रखा है आंदोलन
सचिन पायलट ने अपनी ही पार्टी की सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ रखा है। खासतौर से वे भ्रष्टाचार के मुद्दों पर अशोक गहलोत का विरोध कर रहे हैं। पूर्ववर्ती भाजपा शासनकाल में हुए करोड़ों रुपए के घोटालों की जांच को लेकर पायलट ने मुख्यमंत्री को कई बार पत्र लिखे लेकिन उन्हें एक भी पत्र का जवाब नहीं मिला। इसी से आहत होकर पायलट ने 11 अप्रैल को जयपुर के शहीद स्मारक पर अनशन किया था। 11 मई से लेकर 15 मई तक जनआक्रोश यात्रा भी निकाली। भ्रष्टाचार के मुद्दों के साथ पायलट ने राजस्थान में बार बार हो रहे पेपर लीक मामले पर भी सरकार को घेरा। अब 31 मई के बाद पायलट ने उग्र आन्दोलन की चेतावनी भी दे रखी है। पायलट के मुद्दों को लेकर अब कांग्रेस आलाकमान मंथन में जुट गया है।

About bheldn

Check Also

असम की जेल में कैद खालिस्तानी अमृतपाल सिंह लड़ेगा लोकसभा चुनाव, जानें पंजाब की किस सीट से भरेगा पर्चा

चंडीगढ़ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की जेल में बंद कट्टरपंथी सिख उपदेशक अमृतपाल …