नीतीश कुमार राष्ट्रपति पद के लिए योग्य उम्मीदवार, PM पद की रेस में पिछड़ने पर JDU की नए सिरे से फिल्डिंग

मुंबई/पटना

लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर विपक्षी दलों की ओर से बनाए गठबंधन I.N.D.I.A की मुंबई में चल रही दो दिनों की बैठक में शुक्रवार को कई घोषणाएं हो सकती है। माना जा रहा है कि गठबंधन के अध्यक्ष, संयोजक समेत कई पदों को लेकर घोषणा हो सकती है। इस गठबंधन को बनाने में अहम रोल निभाने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने की अटकलों पर विराम लगता दिख रहा है। बिहार सरकार में सहयोगी आरजेडी के अगुवा और डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव ही मुंबई पहुंचकर मीडिया में बयान दे चुके हैं कि I.N.D.I.A गठबंधन का पीएम उम्मीदवार लोकसभा चुनाव 2024 का रिजल्ट आने के बाद ही तय किया जाएगा। पीएम पद की रेस में नीतीश कुमार को पिछड़ता देख जेडीयू ने उनका नाम राष्ट्रपति पद के लिए उछालना शुरू कर दिया है।

वरिष्ठ समाजवादी और जेडीयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी से जब पत्रकारों ने पूछा कि क्या नीतीश कुमार I.N.D.I.A गठबंधन में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बनने जा रहे हैं? इसपर केसी त्यागी ने कहा कि नीतीश कुमार खुद कह चुके हैं कि उन्हें किसी पद का लोभ नहीं है। वह केवल विपक्षी दलों को एकजुट रखने के प्रयास में जुटे हैं। साथ ही उन्होंने पार्टी का पक्ष रखते हुए कहा कि जेडीयू ने भी कभी भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री का चेहरा घोषित करने की मांग नहीं की, लेकिन यह जरूर है कि वह प्रधानमंत्री पद के लिए सक्षम और योग्य उम्मीदवार हैं।

पत्रकारों से बातचीत के दौरान केसी त्यागी के साथ जेडीयू के राज्यसभा सांसद बशिष्ट नारायण सिंह भी मौजूद थे। बातचीत के दौरान केसी त्यागी और बशिष्ट नारायण ने कहा कि नीतीश प्रधानमंत्री बनने की क्षमता रखते हैं। त्यागी ने कहा कि आप नीतीश कुमार को केवल प्रधानमंत्री पद के लिए ही क्यों मानते हैं, वह राष्ट्रपति पद के लिए भी योग्य हैं। नीतीश कुमार अनुभव, क्षमता, विवेक और बुद्धि के मामले में राष्ट्रपति पद के लिए उपयुक्त राजनेता हैं। उन्हें गठबंधन की सरकार चलाने का भी लंबा अनुभव है। उनके अनुभवों का ध्यान रखा जाना चाहिए।

लालू-तेजस्वी के साथ बैठक में नहीं गए नीतीश
यहां गौर करने वाली बात यह है कि मुंबई में हो रही I.N.D.I.A गठबंधन की बैठक में हिस्सा लेने के लिए आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और डेप्युटी सीएम और उनके बेटे तेजस्वी यादव 30 अगस्त को ही मुंबई रवाना हो गए थे। वहीं मुंबई पहुंचते ही तेजस्वी यादव ने पत्रकारों से बातचीत में स्पष्ट कर दिया कि लोकसभा चुनाव रिजल्ट आने के बाद ही पीएम उम्मीदवार तय किए जाएंगे। जबकि नीतीश कुमार 31 अगस्त को नीतीश कुमार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह और राज्य के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा के साथ मुंबई पहुंचे। इससे पहले तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार एक साथ ही इस तरह की बैठकों में जाते दिख रहे थे।

बता दें कि नीतीश कुमार ने बिना कोई विशेष जानकारी दिए हाल ही में दावा किया था कि विपक्षी गठबंधन इंडिया की मुंबई बैठक के दौरान और अधिक दलों के इसमें शामिल होने की संभावना है। बिहार के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि सीट बंटवारे से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की जाएगी और कई अन्य एजेंडों को अंतिम रूप दिया जाएगा। हाल में पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान, उन्होंने उन अटकलों पर सवालों के जवाब दिए थे कि उन्हें इंडिया गठबंधन का संयोजक बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘मेरी कोई व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा नहीं है, मैं अपने लिए कुछ नहीं चाहता। मेरी एकमात्र इच्छा 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले अधिकतम संख्या में भाजपा विरोधी दलों को एकजुट करूं। मैं केवल उसी दिशा में काम कर रहा हूं।’

About bheldn

Check Also

‘गुनाह के तहत सजा मिलनी चाहिए’, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने हाथरस वाले बाबा के खिलाफ कर दी एक्शन की मांग

लखनऊ उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने हाथरस हादसे (भोलेबाबा सत्संग) को लेकर बयान …